Thursday, Sep 20 2018 | Time 18:34 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बसपा ने छत्तीसगढ़ में जनता कांग्रेस से किया गठबंधन
  • देश के कई हिस्सों में मानसून हुआ कमजोर
  • हार्दिक, अक्षर, शार्दुल एशिया कप से बाहर, जडेजा लौटे
  • नीदरलैंड में ट्रेन ने कार्गो बाइसिकल को मारी टक्कर, चार बच्चों की मौत
  • हार्दिक के करीबी पूर्व विधायक धीरू गजेरा ने कांग्रेस से दिया इस्तीफा, दिये भाजपा में घरवापसी के संकेत
  • बीएसएफ की वालीबॉल प्रतियोगिता 24 सितंबर से
  • कृभको ने 109 करोड़ रुपये का मुनाफा कमाया
  • सिक्किम में हवाई अड्डे का उद्घाटन करेंगे मोदी
  • सुषमा और कुरैशी के बीच न्यूयार्क में होगी बैठक
  • फोटो कैप्शन-दूसरा सेट
  • सिंधू और श्रीकांत क्वार्टरफाइनल में
  • सिंधू और श्रीकांत क्वार्टरफाइनल में
  • संविधान के सम्मान में बसपा की मोटरसाइकिल रैली 24 सितंबर को
  • हरियाणा में पंजाबी हुये एकजुट, समुदाय से जुड़े मुद्दों पर करेंगे रैली
दुनिया Share

श्री कोविंद ने कहा कि इसके अलावा भी और प्रयास किए गए हैं और ऋण शोधन क्षमता तथा दिवालिया कोड के लागू होने जाने से अच्छा कारोबार नहीं करने वालोें के इस क्षेत्र से जाने में मदद मिली है।
उन्हाेंने दोनों देशों के बीच के एेतिहासिक संबंधाें का जिक्र करते हुए कहा,“ भारत में इस बात को काफी शिद्दत के साथ याद किया जाता है कि 50 वर्ष पहले साइप्रस ने महात्मा गांधी की शताब्दी पर दो डाक टिकट जारी किए थे और ये डाक टिकट अभी भी संग्रहकर्ताओं के पास हैं। यह भी एक संयाेग ही है कि मेरी यात्रा दाे अक्टूबर से कुछ हफ्तों पहले हो रही है जब हम उनकी जंयती की 150 वीं वर्षगांठ मनाने का दो वर्षीय कार्यक्रम शुरू करने जा रहे हैं।”
श्री कोविंद ने कहा कि महात्मा गांधी और आर्कबिशप माकारियोज किसी एक देश के नहीं हो सकते हैं और वे मानवता की धरोहर का हिस्सा हैं। उन्होंने ग्रीक के पादरी और राजनीतिग्य माकारियोज तृतीय को श्रद्धांजलि देते हुए यह बात कही जो साइप्रस चर्च के आर्कबिशप और प्राइमेट और चर्च पद पर भी 1950 से 1977 तक रहे थे।
वह साइप्रस के पहले राष्ट्रपति (1960 से 1977) थे अौर तीन बार के राष्ट्रपति कार्यकाल में उन पर चार बार जानलेवा हमले हुए तथा एक बार तख्तापलट की नाकाम कोशिश भी हुई।
उन्होंने कहा कि भारत और साइप्रस जिम्मेदार राष्ट्र होने के नाते अंतरराष्ट्रीय प्रकिया के समक्ष आ रही चुनौतियों का सामना करने को तैयार हैं।
उन्होंने कहा कि सभ्यताओं के तौर पर हम हजारों वर्षाें से खुले समाजों अौर व्यापारिक अर्थव्यव्स्थाओं के तौर पर रह चुके हैं अौर व्यापार, समुद्री क्षेत्र तथा वैश्विक समुद्री क्षेत्र और अन्य क्षेत्रों में नियम तथा प्रकिया आधारित प्रणाली की लगातार प्रासंगिकता हमारे लिए भरोसे का प्रतीक है।
जितेन्द्र.श्रवण
वार्ता
More News
फिलीपींस में भूस्खलन:12 की मौत, कई मलबे में फंसे

फिलीपींस में भूस्खलन:12 की मौत, कई मलबे में फंसे

20 Sep 2018 | 6:05 PM

मनीला 20 सितंबर (रायटर) फिलीपींस में गुरुवार को भारी बारिश के कारण भूस्खलन होने से कम से कम 12 लोगों की मौत हो गयी तथा कई अन्य लोगों के मलबे में फंसे होने की आशंका है।

 Sharesee more..
भारत से औपचारिक जवाब का इंतजार: पाकिस्तान

भारत से औपचारिक जवाब का इंतजार: पाकिस्तान

20 Sep 2018 | 6:05 PM

इस्लामाबाद 20 सितम्बर (वार्ता) पाकिस्तान ने गुरुवार को कहा कि उसे प्रधानमंत्री इमरान खान की आेर से भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे गये पत्र पर उनकी ओर से औपचारिक जवाब का इंतजार है।

 Sharesee more..
image