Wednesday, Jan 23 2019 | Time 19:35 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अगलगी में 25 लाख से अधिक की संपत्ति नष्ट
  • भाजपा गुमराह करने वाली पार्टी, सवर्ण आरक्षण चुनावी स्टंट : कांग्रेस
  • मुख्यमंत्री ने गुरूग्राम में किया विकास कार्यों का औचक्क निरीक्षण
  • प्रवासियों के विचारों का लाभ उत्तर प्रदेश को मिलेगा -योगी
  • मोबाइल ट्रैकिंग में मुख्य अभियंता समेत नौ अनुपस्थित मिले
  • जिलाधिकारी ने नमामि गंगे के कार्यों की समीक्षा की
  • मुम्बई-हरियाणा मुक़ाबले से शुरू होगा ग्रेटर नोयडा चरण
  • राष्ट्र ने नेताजी के योगदान को याद किया
  • दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ी पर नस्लीय टिप्पणी कर फंसे सरफराज
  • समुदाय के रूप में संगठित हों प्रवासी भारतीय, भारत की प्रगति में योगदान दें :कोविंद
  • दिल्ली हाई कोर्ट में वीरभद्र सिंह ने दाखिल की याचिका
  • ट्रक से 22 लाख से अधिक की अवैध शराब बरामद
  • संयुक्त राष्ट्र ने भी बढाया भारत का विकास अनुमान
  • बिहार में अगले पंचायत चुनाव तक 13 प्रतिशत और आरक्षण : सुशील
  • बागेश्वर में वज्रपात से 12 बच्चे एवं तीन अध्यापक झुलसे
दुनिया Share

श्री कोविंद ने कहा कि इसके अलावा भी और प्रयास किए गए हैं और ऋण शोधन क्षमता तथा दिवालिया कोड के लागू होने जाने से अच्छा कारोबार नहीं करने वालोें के इस क्षेत्र से जाने में मदद मिली है।
उन्हाेंने दोनों देशों के बीच के एेतिहासिक संबंधाें का जिक्र करते हुए कहा,“ भारत में इस बात को काफी शिद्दत के साथ याद किया जाता है कि 50 वर्ष पहले साइप्रस ने महात्मा गांधी की शताब्दी पर दो डाक टिकट जारी किए थे और ये डाक टिकट अभी भी संग्रहकर्ताओं के पास हैं। यह भी एक संयाेग ही है कि मेरी यात्रा दाे अक्टूबर से कुछ हफ्तों पहले हो रही है जब हम उनकी जंयती की 150 वीं वर्षगांठ मनाने का दो वर्षीय कार्यक्रम शुरू करने जा रहे हैं।”
श्री कोविंद ने कहा कि महात्मा गांधी और आर्कबिशप माकारियोज किसी एक देश के नहीं हो सकते हैं और वे मानवता की धरोहर का हिस्सा हैं। उन्होंने ग्रीक के पादरी और राजनीतिग्य माकारियोज तृतीय को श्रद्धांजलि देते हुए यह बात कही जो साइप्रस चर्च के आर्कबिशप और प्राइमेट और चर्च पद पर भी 1950 से 1977 तक रहे थे।
वह साइप्रस के पहले राष्ट्रपति (1960 से 1977) थे अौर तीन बार के राष्ट्रपति कार्यकाल में उन पर चार बार जानलेवा हमले हुए तथा एक बार तख्तापलट की नाकाम कोशिश भी हुई।
उन्होंने कहा कि भारत और साइप्रस जिम्मेदार राष्ट्र होने के नाते अंतरराष्ट्रीय प्रकिया के समक्ष आ रही चुनौतियों का सामना करने को तैयार हैं।
उन्होंने कहा कि सभ्यताओं के तौर पर हम हजारों वर्षाें से खुले समाजों अौर व्यापारिक अर्थव्यव्स्थाओं के तौर पर रह चुके हैं अौर व्यापार, समुद्री क्षेत्र तथा वैश्विक समुद्री क्षेत्र और अन्य क्षेत्रों में नियम तथा प्रकिया आधारित प्रणाली की लगातार प्रासंगिकता हमारे लिए भरोसे का प्रतीक है।
जितेन्द्र.श्रवण
वार्ता
More News

न्यूजीलैंड में भूकंप के झटके

23 Jan 2019 | 3:59 PM

 Sharesee more..

इंडोनेशिया में भूस्खलन से छह मरे,10 लापता

23 Jan 2019 | 3:37 PM

 Sharesee more..

सीरिया में आग लगने से सात बच्चों की मौत

23 Jan 2019 | 1:24 PM

 Sharesee more..

तुर्की में 43 अवैध प्रवासी गिरफ्तार

23 Jan 2019 | 1:06 PM

 Sharesee more..
image