Monday, Nov 19 2018 | Time 22:53 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • प्रेमी युगल ने की आत्महत्या
  • गांवों में बदलाव का वाहक बनेगा कृषि विश्वविद्यालय : रघुवर
  • गुजरात सरकार बीएसएनएल की बजाय वोडाफोन की महंगी सेवाएं क्यों ले रही - कांग्रेस
  • डेयरी इंजीनियरिंग कॉलेज में नये साल से शुरू होगी पढ़ाई
  • आरबीआई के इकोनाॅमिक कैपिटल फ्रेमवर्क के परीक्षण के लिए विशेषज्ञ समिति बनाने का निर्णय
  • कृषि ऋण को लेकर मोदी की टिप्पणी हैरत करने वाली :कुमारस्वामी
  • गोरखपुर के पुलिस क्षेत्राधिकारी यातायात संतोष कुमार सिंह निलंबित
  • सांबा में ग्रेनेड विस्फोट में बीएसएफ जवान शहीद
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • मऊ में सरे शाम बंगाली चिकित्सक की गोली मारकर हत्या से सनसनी
  • फोटो कैप्शन-दूसरा सेट
  • बिहार की समृद्धि का आधार कृषि : लालजी
  • वाराणसी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर आग लगाने वाला आरोपी गिरफ्तार
  • शुभंकर को यूरोपीय टूर में रूकी ऑफ द ईयर अवार्ड
  • शुभंकर को यूरोपीय टूर में रूकी ऑफ द ईयर अवार्ड
दुनिया Share

हाैतियों की गैर मौजूदगी से यमन शांति वार्ता समाप्त

जेनेवा 08 सितंबर (रायटर) हाैती आंदोलन के प्रतिनिधियों के तीन दिनों तक इंतजार के बाद जेनेवा में आयोजित यमन शांति वार्ता शनिवार को समाप्त हो गयी लेकिन संयुक्त राष्ट्र के दूत ने कूटनीति के साथ आगे बढ़ने का संकल्प व्यक्त किया है।
संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत मार्टिन ग्रिफिथ्स ने पिछले तीन दिनों के दौरान यमन सरकार के प्रतिनिधिमंडल के साथ बातचीत की। उन्होंने कहा कि तीन वर्षाें से हौती इस मसले पर बातचीत नहीं करना चाहते थे लेकिन इसका यह अभिप्राय नहीं है कि शांति प्रक्रिया अवरूद्ध हो गयी थी।
उन्होंने कहा कि वह आने वाले दिनों में हौती नेतृत्व से साना और ओमान के मस्कट में मुलाकात करेंगे। उन्होंने ब्यौरा देने से इन्कार करते हुए इतना कहा,“ उन्हें (हाैतियों को) यहां आना होगा। हमारे पास उन्हें यहां लाने के लिए समुचित शर्तें नहीं हैं।”
हौती समूह ने शुक्रवार को कहा था कि वह अभी भी संयुक्त राष्ट्र की गारंटी का इंतजार कर रहा है कि उसके प्रतिनिधिमंडल को जेनेवा ले जाने वाले विमान का सऊदी अरब गठबंधन की सेना निरीक्षण नहीं करेगी। साथ ही उनके कुछ घायलों को छोड़ा जाए।
श्री ग्रिफिथ्स ने शांति प्रक्रिया की चर्चा करते हुए कहा,“ फिर से शुरुआत एक बहुत नाजुक पल है। लोग ऐसे समय में आ रहे हैं जब शायद वे सभी क्षेत्रों में पूरी तरह व्यस्त नहीं हैं और वार्ता के बाद आने वाले नतीजों से पहले नहीं देख पाएंगे। इसलिए मैं इसे प्रक्रिया में मौलिक अवरोध के रूप में नहीं लेता हूं।”
उन्होंने कहा कि यमन सरकार के साथ कैदियों की रिहाई, मानवीय पहुंच में वृद्धि विशेषकर ताइज शहर में और साना हवाईअड्डे को फिर से खोलने जैसे विश्वास निर्माण के उपायों पर चर्चा हुयी।
सऊदी के नेतृत्व वाले गठबंधन सेना ने यमन में हाउतियों के विरुद्ध जारी युद्ध में वर्ष 2015 में हस्तक्षेप किया था। हस्तक्षेप का उद्देश्य अब्द रब्बु मंसूर हादी की सरकार को फिर से स्थापित करना था। तब से वहां की मानवीय स्थिति में तेजी से गिरावट आयी है तथा 80 लाख 40 हजार लोग भुखमरी के कगार पर हैं तथा देश की आर्थिक दशा और बेहाल हो चुकी है।
यमन के विदेश मंत्री खालिद अल यमानी जो सरकारी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व कर रहे हैं, ने हाैतियों पर ‘पूरी तरह गैरजिम्मेदार” होने और बातचीत को बाधित करने के प्रयास का आरोप लगाया।
संजय.श्रवण
रायटर
More News
इमरान ने बानी गाला संपत्तियों को नियमित कराने के लिए किया आवेदन

इमरान ने बानी गाला संपत्तियों को नियमित कराने के लिए किया आवेदन

19 Nov 2018 | 6:05 PM

इस्लामाबाद 19 नवंबर (वार्ता) प्रधानमंत्री इमरान खान ने बानी गाला में अपनी दो संपत्तियों के नियमितीकरण के लिए प्राधिकरण के पास आवेदन किया है।

 Sharesee more..
image