Monday, Jan 20 2020 | Time 17:52 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ईवी स्टार्ट-अप ने लाँच किया नया इलेक्ट्रिक स्कूटर
  • आईएफएस दीपक सिन्हा वन विभाग के सचिव नियुक्त
  • आईडी स्वामी, अश्वनी कुमार और सुरजेवाला को विस में श्रद्धांजलि
  • हाउसिंगडॉटकॉम ने लाँच किया कोलिविंग सेगमेंट
  • ट्रेन से कटकर तीन महिलाओं की मौत
  • इंग्लैंड ने द अफ्रीका को पारी से रौंदा
  • इंग्लैंड ने द अफ्रीका को पारी से रौंदा
  • इटावा के बुद्धा पार्क में बनेगा जिले का पहला ओपन जिम
  • खाद्य तेल, चीनी मजबूत, चावल, चना कमजोर, दालों में घटबढ़
  • माघमेला के साथ सिप्ला की भागीदारी
  • फेडरर, बार्टी, ओसाका और सेरेना दूसरे दौर में
  • फेडरर, बार्टी, ओसाका और सेरेना दूसरे दौर में
  • वाराणसी में केंद्रीय विद्यालय के बच्चों ने देखा ‘परीक्षा पे चर्चा’ का प्रसारण
  • रूस के हाेटल में गर्म पानी के पाइप फटे, पांच मरे
दुनिया


मलेशिया जाकिर नाइक को और पनाह देने का इच्छुक नहीं: मोहम्मद

कुआलालम्पुर ,14 अगस्त (वार्ता) मलेशिया के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने साफ किया है कि वह विवादित मुस्लिम धर्म उपदेशक जाकिर नाइक को अपने देश में रखना नहीं चाहते हैं लेकिन अगर कोई और देश उसे अपने यहां पनाह देना चाहता है तो इसका स्वागत है।
जाकिर ने हाल ही में बयान दिया था कि मलेशिया में रहने वाले हिंदू मलेशियाई प्रधानमंत्री से ज्यादा भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वफादार हैं। उसके इस बयान के बाद से दक्षिण पूर्व एशियाई देशों की जाकिर के प्रत्यर्पण की मांग बढ़ गयी है। श्री मोहम्मद ने बुधवार को कहा,“ इसलिए वह यहां है। लेकिन अगर कोई देश उसे अपने यहां रखना चाहता है तो उसका स्वागत है।”

बर्नमा न्यूज एजेंसी के अनुसार जाकिर के हिन्दू वाले बयान के बारे में पूछे जाने पर प्रधानमंत्री ने कहा,“ इसके बारे में आप हिन्दुओं से पूछे। मुझसे क्यों पूछ रहे हैं।”
मलेशियाई सरकार अब नाइक से खासी नाराज है। मानव संसाधन मंत्री एम कुलासेगरन ने हिंदुओं पर सवाल उठाने वाले जाकिर पर तुरंत कार्रवाई की मांग है।श्री कुलासेगरन ने एक बयान जारी कर कहा कि जाकिर एक बाहरी व्यक्ति है। वह एक भगोड़ा है और उसे मलेशियाई इतिहास की बहुत कम जानकारी है, इसलिए उसे मलेशियाई लोगों को नीचा दिखाने जैसा विशेषाधिकार नहीं दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा,“ जाकिर नाइक का यह बयान किसी भी तरह से मलयेशिया के स्थायी निवासी होने के पैमाने पर खरा नहीं उतरता है। इस मुद्दे को अगली कैबिनेट बैठक में उठाया जाएगा।”

जाकिर पहले भी अपने विवादित बयानों को लेकर खबरों में बना रहा है। भारत से भागने के बाद से वह मलयेशिया में रह रहा है। उस पर मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकवाद को बढ़ावा देने के आरोप हैं। श्री कुलासेगरन ने मंगलवार को पत्र जारी कर जाकिर को भारत को सौंपने की गुहार लगाई थी। उन्होंने कहा कि जाकिर मलयेशिया के कर दाताओं के पैसे पर मौज कर रहा है। श्री मोहम्मद पहले जाकिर के प्रत्यर्पण से इनकार कर चुके है। लेकिन इस बार उनके देश में जाकिर का विरोध तेज हो गया है।
भारत ने इस वर्ष जून में मलेशिया से जाकिर के प्रत्यर्पण की औपचारिक रूप से मांग की थी। विदेश मंत्रालय ने कहा, है“ मलेशिया सरकार से जाकिर के प्रत्यर्पण के मसले पर बातचीत की जायेगी।”
आशा जितेन्द्र
वार्ता
More News
इराक में प्रदर्शनकारियों ने की प्रमुख सड़कें बंद

इराक में प्रदर्शनकारियों ने की प्रमुख सड़कें बंद

20 Jan 2020 | 11:01 AM

बगदाद 20 जनवरी (वार्ता) इराक के बगदाद शहर में प्रदर्शनकारियों ने प्रमुख सड़कों को अवरूद्ध किया और राजनीतिक परिवर्तन के अपने अभियान को आगे बढ़ाते हुए सरकार से उनकी मांगों को पूरा करने का अाग्रह किया।

see more..
image