Monday, Jun 24 2024 | Time 19:36 Hrs(IST)
image
दुनिया


द़ कोरिया,चीन और जापान त्रिपक्षीय शिखर सम्मेलन में लेंगे हिस्सी

सोल 23 मई (वार्ता) दक्षिण कोरिया, चीन और जापान पिछले चार वर्षों में पहली बार त्रिपक्षीय शिखर सम्मेलन करने जा रहे हैं ।
दक्षिण कोरिया की संवाद समिति योनहाप ने प्रधानमंत्री कार्यालय के हवाले से गुरुवार को जारी एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी। समाचार एजेंसी ने दक्षिण कोरिया के प्रधान उप राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार किम ताए-ह्यो के हवाले से बताया कि दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति यून सुक-योल के सोल में चीनी प्रधानमंत्री ली कियांग और जापानी प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा से मिलने की उम्मीद है।
समाचार एजेंसी ने श्री किम का हवाला देते हुए बताया कि शिखर सम्मेलन में अर्थव्यवस्था और व्यापार, सतत विकास, स्वास्थ्य, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, प्राकृतिक आपदाओं से निपटने, सुरक्षा सुनिश्चित करने और लोगों के आदान-प्रदान सहित कई सहयोग क्षेत्रों को शामिल करने की उम्मीद है। सदस्य देश क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय दोनों मुद्दों पर भी विचार करेंगे।
श्री किम के हवाले से योनहाप ने कहा “ शिखर सम्मेलन दक्षिण कोरिया, जापान और चीन के बीच त्रिपक्षीय सहयोग प्रणाली को पूरी तरह से बहाल करने और सामान्य बनाने के लिए महत्वपूर्ण मोड़ के रूप में काम करेगा। यह भविष्योन्मुख और व्यावहारिक सहयोग की गति को पुनः प्राप्त करने का अवसर भी प्रदान करेगा, जो तीनों देशों के लोगों को लाभ महसूस करने की अनुमति देगा।”
योनहाप ने कहा कि आने वाले रविवार को श्री यून का दोनों राजनेताओं के साथ अलग-अलग द्विपक्षीय बैठक करने का भी कार्यक्रम है। जापान के मुख्य कैबिनेट सचिव योशिमासा हयाशी ने गुरुवार को संवाददाता सम्मेलन में बताया कि शिखर सम्मेलन में जापान के प्रधानमंत्री भविष्य के बहुपक्षीय सहयोग के क्षेत्रों को परिभाषित करने की योजना बना रहे हैं।
श्री हयाशी ने कहा, “ हमारा मानना है कि क्षेत्रीय मुद्दों पर चर्चा का अवसर न केवल तीन देशों- जापान, दक्षिण कोरिया और चीन के लिए,बल्कि पूरे क्षेत्र के लिए महत्वपूर्ण है। ”
अधिकारी ने कहा “जापान और दक्षिण कोरिया महत्वपूर्ण पड़ोसी हैं, जिन्हें अंतरराष्ट्रीय समुदाय के सामने आने वाले कई मुद्दों पर भागीदार के रूप में सहयोग करना चाहिए। हम दक्षिण कोरिया के साथ करीबी बातचीत जारी रखने का इरादा रखते हैं, ताकि हमारा सहयोग मजबूत और व्यापक हो तथा दोनों देशों के लोगों को लाभ मिले।”
श्री हयाशी ने कहा कि द. कोरिया अभी भी श्री किशिदा और श्री ली के बीच द्विपक्षीय बैठक आयोजित करने का अवसर तलाश रहा है। उन्होंने कहा कि जापान और चीन के साथ रणनीतिक और पारस्परिक रूप से लाभकारी संबंधों को बढ़ावा देना चाहता है, जिसका लक्ष्य संयुक्त रूप से रचनात्मक और स्थिर संबंध बनाना है।
एजेंसी ने बताया कि शिखर सम्मेलन दिसंबर 2019 के बाद से तीन देशों के बीच पहला शिखर सम्मेलन होगा।
त्रिपक्षीय शिखर सम्मेलन भारत-प्रशांत क्षेत्र में चीन की गतिविधि को रोकने के लिए अमेरिका के साथ द. कोरिया और जापान के गहन सहयोग के बीच हो रहा है।
सोनिया, संतोष
वार्ता/ स्पूतनिक
image