Friday, Nov 15 2019 | Time 18:44 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • हरियाणा मंत्रिमंडल की बैठक 18 नवम्बर को
  • विदेशी मुद्रा भंडार 1 72 अरब डॉलर बढ़कर 447 80 अरब डॉलर के रिकॉर्ड स्तर पर
  • भूपेश सरकार समर्थन मूल्य पर धान खरीद को लेकर कर रहीं हैं राजनीति – रमन
  • अंतरराष्ट्रीय कबड्डी टूर्नामेंट के लिए भारतीय टीम का चयन 18 नवम्बर को
  • एसटीएफ ने गोरखपुर से पकड़े छह वन्य जीव तस्कर, 500 तोते बरामद
  • अंतरराष्ट्रीय कबड्डी टूर्नामेंट के लिए भारतीय टीम का चयन 18 नवम्बर को
  • आईपीएल 2020 में राजस्थान की कप्तानी करेंगे स्मिथ
  • प्रदूषण पर संसदीय समिति की बैठक में नहीं आने पर गंभीर की सफाई
  • अक्टूबर में निर्यात 1 11 प्रतिशत गिरा
  • कार्बेट का ढिकाला जोन पर्यटकों के लिये खुला
  • दिल्ली ने बरकरार रखे 14 खिलाड़ी, 9 खिलाड़ी रिलीज
  • बाइसिकल विकास परिषद की स्थापना
  • सीरियाई संवैधानिक समिति की अमेरिका से संबंध हाेने की आशंका:असद
  • ग्रेटर नोएडा में पोलारिस एक्सपीरियंस ज़ोन लाँच
मनोरंजन


सूरदास की कविता से शायर बनने की प्रेरणा मिली निदा फाजली को

सूरदास की कविता से शायर बनने की प्रेरणा मिली निदा फाजली को

...जन्मदिवस 12 अक्टूबर के अवसर पर .

मुम्बई, 11 अक्टूबर (वार्ता) उर्दू के मशहूर शायर और फिल्म गीतकार निदा फाजली ने सूरदास की एक कविता से प्रभावित होकर शायर बनने का फैसला किया था।

यह बात उस समय की है जब उनका पूरा परिवार बंटवारे के बाद भारत से पाकिस्तान चला गया था लेकिन निदा फाजली ने हिन्दुस्तान में ही रहने का फैसला किया। एक दिन वह एक मंदिर के पास से गुजर रहे थे तभी उन्हें सूरदास की एक कविता सुनाई दी जिसमें राधा और कृष्ण की जुदाई का वर्णन था। निदा फाजली इस कविता को सुनकर इतने भावुक हो गए कि उन्होंने उसी क्षण फैसला कर लिया कि वह कवि के रूप में अपनी पहचान बनाएंगे।

12 अक्टूबर 1938 को दिल्ली में जन्में निदा फाजली को शायरी विरासत में मिली थी। उनके घर में उर्दू और फारसी के दीवान संग्रह भरे पड़े थे। उनके वालिद भी शेरो शायरी में दिलचस्पी लिया करते थे और उनका अपना काव्य संग्रह भी था, जिसे निदा फाजली अक्सर पढ़ा करते थे।

निदा फाजली ने ग्वालियर कॉलेज से स्नातकोत्तर की शिक्षा पूरी की और अपने सपनों को एक नया रूप देने के लिये वह वर्ष 1964 में मुंबई आ गये। यहां उन्हें कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। इस बीच उन्होंने धर्मयुग और ब्लिटज जैसी पत्रिकाओं मे लिखना शुरू कर दिया।

अपने लेखन की अनूठी शैली की से निदा फाजली कुछ हीं समय मे लोगों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करने में कामयाब हो गये। उसी दौरान उर्दू साहित्य के कुछ प्रगतिशील लेखको और कवियों की नजर उन पर पड़ी जो उनकी

प्रतिभा से काफी प्रभावित हुये थे। निदा फाजली के अंदर उन्हें एक उभरता हुआ कवि दिखाई दिया और उन्होंने निदा फाजली को प्रोत्साहित करने एवं हर संभव सहायता देने की पेशकश की और उन्हें मुशायरों में आने का न्योता दिया। उन दिनों उर्दू साहित्य के लेखन की एक सीमा निर्धारित थी। निदा फाजली मीर और गालिब की रचनाओं से काफी प्रभावित थे। धीरे -धीरे उन्होंने उर्दू साहित्य की बंधी-बंधायी सीमाओं को तोड़ दिया और अपने लेखन का अलग अंदाज बनाया।

      निदा फाजली मुशायरों मे भी हिस्सा लेते रहे जिससे उन्हें पूरे देश भर मे शोहरत हासिल हुई। सत्तर के दशक में मुंबई में अपने बढ़ते खर्चों को देखकर उन्होंने फिल्मों के लिये भी गीत लिखना शुरू कर दिया। लेकिन फिल्मों की असफलता के बाद उन्हें अपना फिल्मी कैरियर डूबता नजर आया। फिर भी उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और अपना संघर्ष जारी रखा। धीरे -धीरे मुंबई में उनकी पहचान बनती गयी। लगभग दस वर्ष तक मुंबई में संघर्ष करने के बाद 1980 मे प्रदर्शित फिल्म ‘आप तो ऐसे न थे’ में पार्श्वगायक मनहर उधास की आवाज में अपने गीत ‘तू इस तरह से मेरी जिंदगी मे शामिल है’ की सफलता के बाद निदा फाजली कुछ हद तक गीतकार के रूप में फिल्म इंडस्ट्री मे अपनी पहचान बनाने मे सफल हो गये।

इस फिल्म की सफलता के बाद निदा फाजली को कई अच्छी फिल्मों के प्रस्ताव मिलने शुरू हो गये। इन फिल्मों में ‘बीबी ओ बीबी’ ‘आहिस्ता आहिस्ता’ और ‘नजराना प्यार का’ जैसी फिल्में शामिल हैं। इस बीच उन्होंने अपना संघर्ष जारी रखा और उन्होंने कई छोटे बजट की फिल्में भी की जिनसे उन्हें कुछ खास फायदा नही हुआ। अचानक हीं उनकी मुलाकात संगीतकार खय्याम से हुयी जिनके संगीत निर्देशन में उन्होंने फिल्म ‘आहिस्ता आहिस्ता’ के लिये ‘कभी किसी को मुक्कमल जहां नही मिलता’ गीत लिखा। आशा भोंसले और भूपिंदर सिंह की आवाज में उनका यह गीत श्रोताओं के बीच काफी लोकप्रिय हुआ।

वर्ष 1983 निदा फाजली के सिने कैरियर का अहम पड़ाव साबित हुआ। फिल्म रजिया सुल्तान के निर्माण के दौरान गीतकार जां निसार अख्तर की आकस्मिक मृत्यु के बाद निर्माता कमाल अमरोही ने निदा फाजली से फिल्म के बाकी गीत को लिखने की पेशकश की। इस फिल्म के बाद वह गीतकार के रूप में फिल्म इंडस्ट्री में स्थापित हो गये ।

गजल सम्राट जगजीत सिंह ने निदा फाजली के लिये कई गीत गाये जिनमें 1999 मे प्रदर्शित फिल्म ‘सरफरोश’ का यह गीत ‘होश वालों को खबर क्या बेखुदी क्या चीज है’ भी शामिल है। इन दोनों फनकारो की जोड़ी की बेहतरीन मिसाल है। निदा फाजली के काव्य संग्रहों में मोर नाच .हमकदम और सफर में धूप होगी प्रमुख है! साहित्य और फिल्म जगत को अपने गीतों के आलोकित करने वाले निदा फाजली 08 फरवरी 2016 इस दुनिया को अलविदा कह गये।

More News
कव्वाली को संगीतबद्ध करने में महारत हासिल थी रौशन को

कव्वाली को संगीतबद्ध करने में महारत हासिल थी रौशन को

15 Nov 2019 | 12:26 PM

..पुण्यतिथि 16 नवंबर .. मुंबई 15 नवंबर (वार्ता) हिंदी फिल्मों में जब कभी कव्वाली का जिक्र होता है संगीतकार रौशन का नाम सबसे पहले लिया जाता है। रौशन ने वैसे तो फिल्मों में हर तरह के गीतों को संगीतबद्ध किया है लेकिन कव्वालियों को संगीतबद्ध करने में उन्हें महारत हासिल थी।

see more..
रूमानी अदाओं से दीवाना बनाया मीनाक्षी ने

रूमानी अदाओं से दीवाना बनाया मीनाक्षी ने

15 Nov 2019 | 11:57 AM

..जन्मदिवस 16 नवंबर.. मुंबई 15 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड में मीनाक्षी शेषाद्री एक ऐसी अभिनेत्री के रुप में शुमार की जाती है जिन्होंने अपनी रूमानी अदाओं से लगभग दो दशक तक सिने प्रेमियों को अपना दीवाना बनाया ।

see more..
200 करोड़ के क्लब में शामिल हुई हासउफुल 4

200 करोड़ के क्लब में शामिल हुई हासउफुल 4

15 Nov 2019 | 11:48 AM

मुंबई 15 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार की फिल्म हाउसफुल 4 ने बॉक्स ऑफिस पर 200 करोड़ की कमाई कर ली है।

see more..
जूही की ख्वाहिश, बेटी जाह्नवी बनें अभिनेत्री

जूही की ख्वाहिश, बेटी जाह्नवी बनें अभिनेत्री

15 Nov 2019 | 11:43 AM

मुंबई 15 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री जूही चावला की ख्वाहिश है कि उनकी बेटी जाह्नवी अभिनेत्री बनें।

see more..
खलनायक का सीक्वल बनायेंगे संजय दत्त

खलनायक का सीक्वल बनायेंगे संजय दत्त

15 Nov 2019 | 11:35 AM

मुंबई 15 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता संजय दत्त अपनी सुपरहिट फिल्म खलनायक का सीक्वल बनाना चाहते हैं।

see more..
image