Wednesday, Jun 20 2018 | Time 03:41 Hrs(IST)
image
image
BREAKING NEWS:
  • रूस ने मिस्र को भी पीटा, नॉकऑउट दौर में पहुंचा
  • आइवरी कोस्ट में बाढ़ से 18 लोगों की मौत
  • भारतीय महिला ने बंगलादेश के रेलवे पुलिस शौचालय में दिया बच्चे को दिया
  • मणिपुर ने बाढ़ नियंत्रण पर केंद्र को सौंपी रिपोर्ट
फीचर्स Share

डकैत नही, चंबल के रग रग में बसती है प्राकृतिक सुंदरता

डकैत नही, चंबल के रग रग में बसती है प्राकृतिक सुंदरता

इटावा, 24 जनवरी (वार्ता) खूंखार डाकूओं की शरणस्थली के तौर पर दशकों तक कुख्यात रही चंबल घाटी की शक्ल ओ सूरत अब बदली बदली सी नजर आती है। प्राकृतिक नजारों से भरपूर चंबल को अब पर्यटकों के लिए गुलजार करने में पर्यावरण प्रेमी पूरी शिद्दत से जुटे हैं । पर्यटकों को चंबल घाटी की नैसर्गिक खूबसूरती का अहसास कराने के लिये पर्यावरण संस्था सोसाइटी फॉर कंजर्वेशन ऑफ नेचर ने उत्तर प्रदेश के इटावा में तीन मोटरवोट को चंबल नदी में उतारा है। पूजा पाठ के बाद तीनों मोटरवोट को गैर सरकारी संस्था के महासचिव डाक्टर राजीव चौहान ने अपनी देख-रेख में उतारा गया। तीनों मोटर बोट सहसो, भरेह और पंचनदा नदी में रहेगी । इन मोटर वोट के जरिए चंबल को देखने आने वाले सैलानी यहां का मनोरम दृश्य को देखने में कामयाब हो सकेंगे । चंबल नदी में डाल्फिन मगर घड़ियाल कई प्रजाति के दुर्लभ कछुए के अलावा सर्दियों के मौसम में सैकड़ों की तादाद में प्रवासी पक्षियों की आवाजाही से चंबल अरसे से गुलजार होता आया है । चंबल की यही खूबसूरती पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती आई है और इसी वजह से इस दुर्गम इलाके में यदाकदा सैलानी यहां आते-जाते रहते हैं हालांकि खूंखार डाकुओं की मौजूदगी मात्र ने चंबल की खूबसूरती पर दाग लगा रखा है। लोग इस खूबसूरती का आनंद अपने ढंग से नहीं उठा पाते हैं क्योंकि उनको आने में यहां पर कठिनाई होती हैं मगर अब डाकुओं का करीब-करीब खत्म होने के बाद चंबल को निहारने के लिए कई पर्यावरण प्रेमी,प्रकृति प्रेमी चंबल में पहुंचने लगे हैं।


मध्य प्रदेश के अपर पुलिस महानिदेशक प्रदीप रूकवाल पिछले दिनों अपने परिवार के साथ यहां पहुंचे । चंबल को जी भर कर निहारने के बाद उन्होंने कहा कि डाल्फिन, घड़ियाल, मगर और कछुओं के अलावा पक्षियों को देखकर आनंद की ऐसी अनुभूति का एहसास किया कि मानो चंबल देश का सबसे बेहतरीन और खूबसूरत स्थान हो । सोसाइटी फॉर कंजर्वेशन ऑफ नेचर के सचिव डाक्टर राजीव चौहान कहते हैं कि उनका प्रयास भी कुछ ऐसा ही है तीन मोटरवोट उतार दी हैं । उसके पीछे एकमात्र यही मंशा और उद्देश्य चंबल में आने वाले सैलानियों को मोटर बोट के जरिए इलाके में घुमाया जाएगा और चंबल की खूबसूरती का दीदार करीब से कराया जाएगा । चंबल घाटी का नाम आते ही शरीर मे सिहरन का एहसास खुद वा खुद हो जाता है क्योकि अधिकाधिक लोगो का मानते है कि खौफ और दहशत का दूसरा नाम चंबल घाटी है जबकि हकीकत मे ऐसा नही है । चंबल मे नीली नीली पानी वाली कल कल बहती बेहद खूबसूरत चंबल नदी तो है ही, मिटटी के ऐसे ऐसे पहाड है जिनकी कोई दूसरी बानगी शायद ही देश भर मे कही ओर देखने को मिले । डा चौहान ने कहा कि इतना ही नही सैकडो की तादाद मे दुर्लभ जलचरों ने चंबल नदी की गोद में अपना आशियाना बना रखा है। जिसमे घडियाल, मगरमच्छ, कछुए,डाल्फिन के अलावा करीब ढाई से अधिक प्रजाति के पक्षी चंबल की खूबसूरती को चार चांद लगाते है। चंबल घाटी की खूबसूरती अपने आप मे बिल्कुल ही जुदा जुदा सी बनी हुई है हालांकि चंबल की खूबसूरती को कश्मीर और उत्तराखंड की घाटियों जैसी लोकप्रियता अब तक हासिल नही हो सकी है जिसकी वाकई मे वो हकदार है ।


पीले फूलों के लिए ख्याति प्राप्त रही यह वादी उत्तराखंड की पर्वतीय वादियों से कहीं कमतर नहीं है । अंतर सिर्फ इतना है कि वहां पत्थरों के पहाड़ हैं तो यहां मिट्टी के पहाड़ है । बीहड़ की ऐसी बलखाती वादियां समूची पृथ्वी पर अन्यत्र कहीं नहीं देखी जा सकतीं हैं । प्रकृति की इस अद्भुत घाटी को दुनिया भर के लोग सिर्फ और सिर्फ डकैतों की वजह से ही जानती है । यही कारण रहा कि चंबल की इन वादियों के प्रति बालीबुड भी मुंबई की रंगीनियों से हटकर इन वादियों की ओर आकर्षित हुए और डकैत, मुझे जीने दो, चंबल की कसम , डाकू पुतलीबाई जैसी फिल्मों ने दुनिया भर के दर्शकों का मनोरंजन किया। इन डकैतों की गतिविधियों में प्रकृति द्वारा प्रदत्त की गई यह वादियां इस कदर कुख्यात हो गईं कि क्षेत्रीय लोग भी इसमें जाने का साहस नहीं जुटा सकते थे जबकि वास्तविकता यह है कि पूरी तरह से प्रदूषण रहित चंबल की नदी के पानी को गंगाजल से भी अधिक शुद्ध और स्वच्छ माना जाता है। चंबल की इन वादियों में अनगिनत ऐसी औषधियां भी समाहित है जो जीवनदान दे सकतीं हैं। डा चौहान को भरोसा है कि उत्तर प्रदेश,मध्यप्रदेश और राजस्थान सीमा पर फैली चंबल घाटी में पर्यटन की अपार संभावनाओं को जल्द ही साकार किया जा सकेगा जिससे न/न सिर्फ इन वादियों के इर्द-गिर्द रहने वाले युवकों को रोजगार के अवसर मिलेंगे बल्कि वादियों की दस्यु समस्या को भी सदा-सदा के लिए दूर किया जा सकेगा। चंबल की यह घाटी समृद्धि होकर विश्व पर्यटन के मानचित्र पर अपना नाम दर्ज कर सकेगी । सं प्रदीप वार्ता

More News
सस्ता अनाज भी नहीं राेक पा रहा मजदूरों का पलायन

सस्ता अनाज भी नहीं राेक पा रहा मजदूरों का पलायन

10 Jun 2018 | 11:43 AM

नयी दिल्ली 10 जून (वार्ता) छत्तीसगढ़ में सरकार द्वारा गरीबों को सस्ती दर पर अनाज उपलब्ध कराये जाने के बावजूद जीवन की अन्य जरूरतो को पूरा करने के लिए ग्रामीण इलाकों से मजदूरों और गरीब किसानों का अन्य राज्यों में पलायन बदस्तूर जारी है जिनमें खासी तादाद उन लोगों की भी है जिनके पास पर्याप्त खेतीबाड़ी है।

 Sharesee more..
इटावा में घड़ियालों के जन्में बच्चों से गुलजार हुई चंबल नदी

इटावा में घड़ियालों के जन्में बच्चों से गुलजार हुई चंबल नदी

03 Jun 2018 | 3:25 PM

इटावा, 03 जून (वार्ता) उत्तर प्रदेश के इटावा में पहली बार हजारों की तादात में जन्में घडियालों के बच्चों से चंबल नदी गुलजार हो गयी है।

 Sharesee more..
गीता प्रेस जल्द प्रकाशित करेगा तेलगू भाषा में ‘महाभारत’

गीता प्रेस जल्द प्रकाशित करेगा तेलगू भाषा में ‘महाभारत’

30 May 2018 | 3:41 PM

गोरखपुर, 30 मई (वार्ता) धार्मिक पुस्तकों के प्रकाशन में लगभग एक सदी से लगे उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में स्थित गीता प्रेस ने अपने इतिहास में एक नया अध्याय जोडा है।

 Sharesee more..
लोगाें की राय के बाद गांधी को सूझा था ‘सत्याग्रह’ शब्द

लोगाें की राय के बाद गांधी को सूझा था ‘सत्याग्रह’ शब्द

18 Apr 2018 | 1:34 PM

नयी दिल्ली 18 अप्रैल (वार्ता) देश की आजादी के साथ साथ सांप्रदायिक सद्भाव और सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ गांधी जी ने जिस रास्ते को अपनाया और दुनिया के लोगों के लिये जो विरोध का एक अहिंसक हथियार बन गया उसे ‘सत्याग्रह’ का नाम देने से पहले उन्होंने लोगों की राय ली थी।

 Sharesee more..
नये प्रयोगों ने बढ़ाया बच्चों में स्कूल के प्रति लगाव

नये प्रयोगों ने बढ़ाया बच्चों में स्कूल के प्रति लगाव

13 Apr 2018 | 11:17 AM

नैनीताल 13 अप्रैल (वार्ता) उत्तराखंड के सरकारी स्कूलों के बच्चों में रचनात्मकता और कल्पनाशीलता काे बढ़ाने के लिये शुरु किये अभिनव प्रयोगों से न केवल उनमें नयी उमंग का संचार हुआ है बल्कि नयी नयी चीजें सीखने की जिज्ञासा बढ़ी है।

 Sharesee more..
image