Monday, Jun 17 2019 | Time 22:24 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बिहार के लू प्रभावित इलाकों में बाजार रहेंगे बंद
  • एआईएमआईएम के पार्षदों का औरंगाबाद महापौर के खिलाफ धरना
  • कपड़ा मजदूरों ने 27 जून को हड़ताल का ऐलान किया
  • जेपी नड्डा को भाजपा का कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाये जाने पर सुशील ने दी बधाई
  • जल सरंक्षण के लिए श्री दरबार साहिब में सयंत्र स्थापित
  • दिल्ली पुलिस की सिख युवक से मारपीट की लोंगोवाल ने की निंदा
  • मरीज की मौत को लेकर हुआ हंगामा
  • स्कूल वैन से गिरे तीन बच्चे घायल
  • 2027 तक भारत सर्वाधिक आबादी वाला देश होगा
  • कुशीनगर से दो तस्कर गिरफ्तार,40 लाख की शराब बरामद
  • ‘वर्ल्‍ड फूड इंडिया नई दिल्‍ली में नवंबर में
  • चमकी बुखार से बच्चों की हुई मौत पर राष्ट्रीय मानवाधिकार का बिहार सरकार को नोटिस
  • उम्रकैद की सजा काट रहे पूर्व विधायक एवं दो साथियों के लाइसेंस निरस्त
  • चंदौली में शराब फैक्ट्री का पर्दाफाश,पांच गिरफ्तार
  • बिहार में लू का कहर जारी : मृतकों की संख्या 100 के पार
भारत


एनआरसी बेहद महत्वपूर्ण कदम: अमित शाह

एनआरसी बेहद महत्वपूर्ण कदम: अमित शाह

नयी दिल्ली 09 सितम्बर (वार्ता) भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के समापन सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि पार्टी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली केन्द्र सरकार और असम सरकार को वर्षों से लंबित राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर(एनआरसी) के वायदे को पूरा करने के लिए बधाई देती है।

श्री शाह ने सत्र को संबोधित करते हुए यहां कहा कि यह देश की सुरक्षा और असम की आर्थिक,राजनैतिक तथा सांस्कृतिक अधिकारों के लिए बेहद महत्वपूर्ण कदम है। देश के आजाद होने से पहले ही असम में बड़ी संख्या में घुसपैठ शुरू हो गया था। आजादी के बाद भी यह सिलसिला बदस्तूर जारी रही, क्योंकि राज्य सरकारों में इसे रोकने की इच्छा शक्ति नहीं थी। बड़ी संख्या में घुसपैठ के कारण ही असम की जनता को सड़कों पर उतराना पड़ा।

उन्होंने कहा कि घुसपैठ के विरूद्ध असम के लोगों ने वर्ष 1979 से 1985 के बीच ऐतिहासिक आंदोलन शुरू किया।खास कर, आॅल असम स्टूडेंट्स यूनियन के नेतृत्व में छात्र और युवाओं ने घुसपैठ के खिलाफ जोरदार विरोध प्रदर्शन किया। इस आंदोलन के दौरान आठ सौ लोगों को प्राण भी न्यौछावर करने पड़े।

श्री शाह ने कहा कि भाजपा ने1980 में अपनी स्थापना के समय से ही असम के लोगों के इस ऐतिहासिक संघर्ष को समर्थन दिया और आंदोलन में सक्रिय रूप से शामिल रही। वर्ष 2013 में उच्चतम न्यायालय ने केन्द्र सरकार को असम के लिए एनआरसी पर काम शुरू करने का आदेश दिया था। लेकिन पूर्ववर्ती केन्द्र सरकारों की इच्छा शक्ति में कमी के कारण इस पर काम नहीं किया गया। श्री मोदी के नेतृत्व में सरकार बनने के तुरंत बाद वैज्ञानिक और पारदर्शी तरीके से इस प्रक्रिया को शुरू किया गया और अंतिम प्रारूप 31 जुलाई 2018 को पूरा हुआ।

उन्होंने कहा कि सरकार असम और उसके नागरिकों के हितों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। साथ ही, सरकार यह भी सुनिश्चित करेगी कि कोई भी भारतीय नागरिकता से वंचित नहीं रहे। उन्होंने कहा,“हम एनआरसी पर विपक्षी दलों की आेलोचना की कड़ी निंदा करते हैं।”

More News
पीयूष ने किया ई काॅमर्स और डाटा स्थानीयकरण पर विचार विमर्श

पीयूष ने किया ई काॅमर्स और डाटा स्थानीयकरण पर विचार विमर्श

17 Jun 2019 | 9:48 PM

नयी दिल्ली 17 जून (वार्ता) केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने सोमवार को ई कॉमर्स और डाटा स्थानीयकरण पर सभी संबंधित पक्षों के साथ विचार विमर्श किया।

see more..
देशभर के डाक्टरों की हड़ताल से मरीज आज भी रहे परेशान

देशभर के डाक्टरों की हड़ताल से मरीज आज भी रहे परेशान

17 Jun 2019 | 9:39 PM

नयी दिल्ली, 17 जून (वार्ता) पश्चिम बंगाल में डाक्टरों पर हमले के खिलाफ देशभर के डाक्टरों ने आज भी धरना प्रदर्शन किया और कई अस्पतालों में वह हड़ताल पर रहे।

see more..
मुखर्जी नगर घटना में पुलिसकर्मियों के खिलाफ मामला दर्ज

मुखर्जी नगर घटना में पुलिसकर्मियों के खिलाफ मामला दर्ज

17 Jun 2019 | 9:18 PM

नयी दिल्ली, 17 जून (वार्ता) राजधानी दिल्ली के मुखर्जी नगर में पुलिसकर्मियों और ग्रामीण सेवा के चालक के साथ हुई मारपीट की घटना का सीसीटीवी फुटेज वायरल होने के बाद पुलिस ने दोनों पक्षों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

see more..
image