Thursday, May 28 2020 | Time 18:12 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कबड्डी कोच अनूप ने लॉकडाउन में घरों में रहने का आग्रह किया
  • जम्मू-कश्मीर में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 27 हुई
  • महाराष्ट्र के बीड शहर और आसपास के गांवों में कर्फ्यू
  • बलिया में चार और कोरोना पॉजिटिव, संक्रमितों की संख्या बढ़कर हुई 35
  • भोजन छीने जाने की घटनाओं के बाद रेलवे ने स्टेशनों पर बढ़ाई सुरक्षा
  • हरियाणा भाजपा मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का एक वर्ष पूर्ण होने पर करेगी अनेक कार्यक्रम
  • गिद्दड़पिंडी में रेलवे ओवरब्रिज के नीचे से की गाद की सफाई
  • चीनी संसद में विवादित हांगकांग सुरक्षा विधेयक पारित
  • लॉकडाऊन में जो सबसे बुरी तरह प्रभावित हुए, मोदी सरकार उनके आंसू पोंछने में नाकाम रही : बाली
  • टिड्डी दल से निपटने के लिए मॉक ड्रिल
  • बस्ती में सात और कोरोना पॉजिटिव मिले, संक्रमितों की संख्या 155 पहुंची
  • ‘संस्कृत,संस्कृति, स्वास्थ्य संरक्षण’ विषय पर अंतरराष्ट्रीय संस्कृत संगोष्ठि का आयोजित
  • राजस्थान में एपिडेमिक अध्यादेश के तहत अब तक 40 हजार से अधिक चालान-सोनी
  • पंजाब की अंतर्राष्ट्रीय सीमा फिरोजपुर से हेरोइन बरामद
मनोरंजन


रेलवे ड्राइवर बनना चाहते थे ओमपुरी

रेलवे ड्राइवर बनना चाहते थे ओमपुरी

..जन्मदिन 18 अक्टूबर  ..

मुंबई 17 अक्टूबर (वार्ता)भारतीय सिनेमा जगत में अपने दमदार अभिनय और संवाद अदायगी से ओमपुरी ने लगभग तीन दशक से दर्शको को अपना दीवाना बनाया है लेकिन कम लोगो को पता होगा कि वह अभिनेता नही बल्कि रेलवे ड्राइवर बनना चाहते थे ।

हरियाणा के अंबाला में 18 अक्टूबर 1950 को जन्में ओम पुरी का बचपन काफी कष्टो में बीता। परिवार की जरूरतों को पूरा करने के लिये उन्हें एक ढाबें में नौकरी तक करनी पड़ी थी। लेकिन कुछ दिनां बाद ढाबे के मालिक ने उन्हें चोरी का आरोप लगाकर हटा दिया। बचपन में ओमपुरी जिस मकान में रहते थे उससे पीछे एक रेलेवे यार्ड था। रात के समय ओमपुरी अक्सर घर से भागकर रेलवे यार्ड में जाकर किसी ट्रेन में सोने चले जाते थे। उन दिनों उन्हें ट्रेन से काफी लगाव था और वह सोंचा करते कि बड़े होने पर वह रेलवे ड्राइवर बनेंगे। कुछ समय के बाद ओमपुरी अपने ननिहाल पंजाब के पटियाला चले आये जहां उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा पूरी की।

इस दौरान उनका रूझान अभिनय की ओर हो गया और वह नाटकों में हिस्सा लेने लगे। इसके बाद ओम पुरी ने खालसा कॉलेज में दाखिला ले लिया। इस दौरान ओमपुरी एक वकील के यहां बतौर मुंशी काम करने लगे। इस बीच एक बार नाटक में हिस्सा लेने के कारण वह वकील के यहां काम पर नही गये। बाद में वकील ने नाराज होकर उन्हें नौकरी से हटा दिया। जब इस बात का पता कॉलेज के प्राचार्य को चला तो उन्होंने ओमपुरी को कैमिस्ट्री लैब में सहायक की नौकरी दे दी। इस दौरान ओमपुरी कॉलेज में हो रहे नाटकों में हिस्सा लेते रहे। यहां उनकी मुलाकात हरपाल और नीना तिवाना से हुई जिनके सहयोग से वह पंजाब कला मंच नामक नाट्य संस्था से जुड़ गए।

लगभग तीन वर्ष तक पंजाब कला मंच से जुड़े रहने के बाद ओमपुरी ने दिल्ली में राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय में दाखिला ले लिया। इसके बाद अभिनेता बनने का सपना लेकर उन्होंने पुणे फिल्म संस्थान में दाखिला ले लिया। वर्ष 1976 में पुणे फिल्म संस्थान से प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद ओमपुरी ने लगभग डेढ़ वर्ष तक एक स्टूडियो में अभिनय की शिक्षा भी दी। बाद में ओमपुरी ने अपने निजी थिएटर ग्रुप ‘मजमा’ की स्थापना की। ओमपुरी ने अपने सिने करियर की शुरूआत वर्ष 1976 में प्रदर्शित फिल्म ‘घासीराम कोतवाल’ से की। मराठी नाटक पर बनी इस फिल्म में ओमपुरी ने घासीराम का किरदार निभाया था। इसके बाद ओमपुरी ने गोधूलि, भूमिका, भूख, शायद, सांच को आंच नही जैसी कला फिल्मों में अभिनय किया लेकिन इससे उन्हें कोई खास फायदा नही पहुंचा।

वर्ष 1980 में प्रदर्शित फिल्म ‘आक्रोश’ ओम पुरी के सिने करियर की पहली हिट फिल्म साबित हुयी। गोविन्द निहलानी निर्देशित इस फिल्म में ओम पुरी ने एक ऐसे व्यक्ति का किरदार निभाया जिस पर पत्नी की हत्या का आरोप

लगाया जाता है। फिल्म में अपने दमदार अभिनय के लिये ओमपुरी सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किये गये।

वर्ष 1983 में प्रदर्शित फिल्म ‘अर्धसत्य’ ओमपुरी के सिने करियर की महत्वपूर्ण फिल्मों में गिनी जाती है। फिल्म में ओमपुरी ने एक पुलिस इंस्पेक्टर की भूमिका निभाई थी। फिल्म में अपने विद्रोही तेवर के कारण ओमपुरी दर्शकों के बीच काफी सराहे गये। फिल्म में अपने दमदार अभिनय के लिये वह सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के राष्ट्रीय पुरस्कार से भी सम्मानित किये गये।

अस्सी के दशक के आखिरी वर्षो में ओमपुरी ने व्यावसायिक सिनेमा की ओर भी अपना रूख कर लिया। हिंदी फिल्मों के अलावा ओमपुरी ने पंजाबी फिल्मों में भी अभिनय किया है। दर्शको की पसंद को ध्यान में रखते हुये नब्बे के

दशक में ओमपुरी ने छोटे पर्दे की ओर भी रूख किया और ‘कक्काजी कहिन’ में अपने हास्य अभिनय से दर्शकों को दीवाना बना दिया। ओमपुरी ने अपने करियर में कई हॉलीवुड फिल्मों में भी अभिनय किया है। इन फिल्मों में ‘ईस्ट इज ईस्ट’, ‘माई सन द फैनेटिक’, ‘द पैरोल ऑफिसर’, ‘सिटी ऑफ जॉय’, ‘वोल्फ’, ‘द घोस्ट एंड द डार्कनेस’, ‘चार्ली विल्सन वार’ जैसी फिल्में शामिल हैं। भारतीय सिनेमा में उनके योगदान को देखते हुए 1990 में उन्हें पदमश्री से अलंकृत किया गया।

ओमपुरी ने अपने चार दशक लंबे सिने करियर में लगभग 200 फिल्मों में अभिनय किया। उनके करियर की उल्लेखनीय फिल्मों में कुछ है ..अल्बर्ट पिंटो को गुस्सा क्यों आता है, स्पर्श, कलयुग, विजेता, गांधी, मंडी, डिस्को डांसर, गिद्ध, होली, पार्टी, मिर्च मसाला, कर्मयोद्धा, द्रोहकाल, कृष्णा, माचिस, घातक, गुप्त, आस्था, चाची 420, चाइना गेट, पुकार, हेराफेरी, कुरूक्षेत्र, पिता, देव, युवा, हंगामा, मालामाल वीकली, सिंह इज किंग, बोलो राम आदि। अपने संजीदा अभिनय से दर्शकों को मंत्रमुग्ध करने वाले ओमपुरी छह जनवरी 2017 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

 

More News
जोया मोरानी ने दूसरी बार किया प्लाज्मा डोनेट

जोया मोरानी ने दूसरी बार किया प्लाज्मा डोनेट

28 May 2020 | 4:57 PM

मुंबई 28 मई (वार्ता) बॉलीवुड फिल्मकार करीम मोरानी की पुत्री जोया मोरानी ने कोरोना संक्रमित लोगों की मदद के लिये दूसरी बार प्लाजमा डोनेट किया है।

see more..
अजय देवगन ने धारावी के 700 परिवार वालों की जिम्मेवारी ली

अजय देवगन ने धारावी के 700 परिवार वालों की जिम्मेवारी ली

28 May 2020 | 4:39 PM

मुंबई, 28 मई (वार्ता)बॉलीवुड के सिंघम स्टार अजय देवगन ने एशिया की सबसे बड़ी झुग्गी बस्ती धारावी के 700 परिवारों की जिम्मेवारी लेते हुए उनके लिये दान की अपील की है।

see more..
काम के प्रति समर्पित नरमदिल इंसान थे पृथ्वीराज कपूर

काम के प्रति समर्पित नरमदिल इंसान थे पृथ्वीराज कपूर

28 May 2020 | 12:43 PM

..पुण्यतिथि 29 मई .. मुंबई 28 मई(वार्ता) अपनी कड़क आवाज .रौबदार भाव भंगिमाओं और दमदार अभिनय के बल पर लगभग चार दशकों तक सिने प्रेमियों के दिलों पर राज करने वाले भारतीय सिनेमा के युगपुरूष पृथ्वीराज कपूर काम के प्रति समर्पित और नरम दिल इंसान थे।

see more..
‘भाई भाई’ गाना की सफलता से खुश हैं सलमान

‘भाई भाई’ गाना की सफलता से खुश हैं सलमान

28 May 2020 | 12:35 PM

मुंबई, 28 मई (वार्ता) बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान ‘भाई भाई’ सांग की सफलता से बेहद खुश हैं।

see more..
पर्यावरण के प्रति लोगों को जागरूक करेंगी भूमि पेडनेकर

पर्यावरण के प्रति लोगों को जागरूक करेंगी भूमि पेडनेकर

28 May 2020 | 12:29 PM

मुंबई, 28 मई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री भूमि पेडनेकर पर्यावरण को बचाने के लिए लोगों को जागरूक करना चाहती हैं।

see more..
image