Friday, Nov 15 2019 | Time 18:59 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • एनएमडीसी की माईनिंग लीज बढ़ाएगी छत्तीसगढ़ सरकार
  • बेंगलुरु ने स्टेन सहित 12 खिलाड़ियों को किया रिलीज
  • सूरत-मुंबई क्रूज फेरी सर्विस शुरू
  • दो मामलों में विधायक अनंत सिंह के खिलाफ पेशी वारंट
  • अक्टूबर में निर्यात गिरा
  • विदेशी मुद्रा भंडार 447 80 अरब डॉलर के रिकॉर्ड स्तर पर
  • फिरोजाबाद में फर्जी डिग्री से नौकरी पाने वाले 30 शिक्षक बर्खास्त
  • कोलकाता ने उथप्पा और लिन को किया रिलीज
  • उच्च न्यायालय ने सिविल न्यायाधीश के पद की प्रवेश परीक्षा एवं परिणाम को किया निरस्त
  • हरियाणा मंत्रिमंडल की बैठक 18 नवम्बर को
  • विदेशी मुद्रा भंडार 1 72 अरब डॉलर बढ़कर 447 80 अरब डॉलर के रिकॉर्ड स्तर पर
  • भूपेश सरकार समर्थन मूल्य पर धान खरीद को लेकर कर रहीं हैं राजनीति – रमन
  • अंतरराष्ट्रीय कबड्डी टूर्नामेंट के लिए भारतीय टीम का चयन 18 नवम्बर को
  • एसटीएफ ने गोरखपुर से पकड़े छह वन्य जीव तस्कर, 500 तोते बरामद
मनोरंजन


रेलवे ड्राइवर बनना चाहते थे ओमपुरी

रेलवे ड्राइवर बनना चाहते थे ओमपुरी

..जन्मदिन 18 अक्टूबर  ..

मुंबई 17 अक्टूबर (वार्ता)भारतीय सिनेमा जगत में अपने दमदार अभिनय और संवाद अदायगी से ओमपुरी ने लगभग तीन दशक से दर्शको को अपना दीवाना बनाया है लेकिन कम लोगो को पता होगा कि वह अभिनेता नही बल्कि रेलवे ड्राइवर बनना चाहते थे ।

हरियाणा के अंबाला में 18 अक्टूबर 1950 को जन्में ओम पुरी का बचपन काफी कष्टो में बीता। परिवार की जरूरतों को पूरा करने के लिये उन्हें एक ढाबें में नौकरी तक करनी पड़ी थी। लेकिन कुछ दिनां बाद ढाबे के मालिक ने उन्हें चोरी का आरोप लगाकर हटा दिया। बचपन में ओमपुरी जिस मकान में रहते थे उससे पीछे एक रेलेवे यार्ड था। रात के समय ओमपुरी अक्सर घर से भागकर रेलवे यार्ड में जाकर किसी ट्रेन में सोने चले जाते थे। उन दिनों उन्हें ट्रेन से काफी लगाव था और वह सोंचा करते कि बड़े होने पर वह रेलवे ड्राइवर बनेंगे। कुछ समय के बाद ओमपुरी अपने ननिहाल पंजाब के पटियाला चले आये जहां उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा पूरी की।

इस दौरान उनका रूझान अभिनय की ओर हो गया और वह नाटकों में हिस्सा लेने लगे। इसके बाद ओम पुरी ने खालसा कॉलेज में दाखिला ले लिया। इस दौरान ओमपुरी एक वकील के यहां बतौर मुंशी काम करने लगे। इस बीच एक बार नाटक में हिस्सा लेने के कारण वह वकील के यहां काम पर नही गये। बाद में वकील ने नाराज होकर उन्हें नौकरी से हटा दिया। जब इस बात का पता कॉलेज के प्राचार्य को चला तो उन्होंने ओमपुरी को कैमिस्ट्री लैब में सहायक की नौकरी दे दी। इस दौरान ओमपुरी कॉलेज में हो रहे नाटकों में हिस्सा लेते रहे। यहां उनकी मुलाकात हरपाल और नीना तिवाना से हुई जिनके सहयोग से वह पंजाब कला मंच नामक नाट्य संस्था से जुड़ गए।

लगभग तीन वर्ष तक पंजाब कला मंच से जुड़े रहने के बाद ओमपुरी ने दिल्ली में राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय में दाखिला ले लिया। इसके बाद अभिनेता बनने का सपना लेकर उन्होंने पुणे फिल्म संस्थान में दाखिला ले लिया। वर्ष 1976 में पुणे फिल्म संस्थान से प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद ओमपुरी ने लगभग डेढ़ वर्ष तक एक स्टूडियो में अभिनय की शिक्षा भी दी। बाद में ओमपुरी ने अपने निजी थिएटर ग्रुप ‘मजमा’ की स्थापना की। ओमपुरी ने अपने सिने करियर की शुरूआत वर्ष 1976 में प्रदर्शित फिल्म ‘घासीराम कोतवाल’ से की। मराठी नाटक पर बनी इस फिल्म में ओमपुरी ने घासीराम का किरदार निभाया था। इसके बाद ओमपुरी ने गोधूलि, भूमिका, भूख, शायद, सांच को आंच नही जैसी कला फिल्मों में अभिनय किया लेकिन इससे उन्हें कोई खास फायदा नही पहुंचा।

वर्ष 1980 में प्रदर्शित फिल्म ‘आक्रोश’ ओम पुरी के सिने करियर की पहली हिट फिल्म साबित हुयी। गोविन्द निहलानी निर्देशित इस फिल्म में ओम पुरी ने एक ऐसे व्यक्ति का किरदार निभाया जिस पर पत्नी की हत्या का आरोप

लगाया जाता है। फिल्म में अपने दमदार अभिनय के लिये ओमपुरी सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किये गये।

वर्ष 1983 में प्रदर्शित फिल्म ‘अर्धसत्य’ ओमपुरी के सिने करियर की महत्वपूर्ण फिल्मों में गिनी जाती है। फिल्म में ओमपुरी ने एक पुलिस इंस्पेक्टर की भूमिका निभाई थी। फिल्म में अपने विद्रोही तेवर के कारण ओमपुरी दर्शकों के बीच काफी सराहे गये। फिल्म में अपने दमदार अभिनय के लिये वह सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के राष्ट्रीय पुरस्कार से भी सम्मानित किये गये।

अस्सी के दशक के आखिरी वर्षो में ओमपुरी ने व्यावसायिक सिनेमा की ओर भी अपना रूख कर लिया। हिंदी फिल्मों के अलावा ओमपुरी ने पंजाबी फिल्मों में भी अभिनय किया है। दर्शको की पसंद को ध्यान में रखते हुये नब्बे के

दशक में ओमपुरी ने छोटे पर्दे की ओर भी रूख किया और ‘कक्काजी कहिन’ में अपने हास्य अभिनय से दर्शकों को दीवाना बना दिया। ओमपुरी ने अपने करियर में कई हॉलीवुड फिल्मों में भी अभिनय किया है। इन फिल्मों में ‘ईस्ट इज ईस्ट’, ‘माई सन द फैनेटिक’, ‘द पैरोल ऑफिसर’, ‘सिटी ऑफ जॉय’, ‘वोल्फ’, ‘द घोस्ट एंड द डार्कनेस’, ‘चार्ली विल्सन वार’ जैसी फिल्में शामिल हैं। भारतीय सिनेमा में उनके योगदान को देखते हुए 1990 में उन्हें पदमश्री से अलंकृत किया गया।

ओमपुरी ने अपने चार दशक लंबे सिने करियर में लगभग 200 फिल्मों में अभिनय किया। उनके करियर की उल्लेखनीय फिल्मों में कुछ है ..अल्बर्ट पिंटो को गुस्सा क्यों आता है, स्पर्श, कलयुग, विजेता, गांधी, मंडी, डिस्को डांसर, गिद्ध, होली, पार्टी, मिर्च मसाला, कर्मयोद्धा, द्रोहकाल, कृष्णा, माचिस, घातक, गुप्त, आस्था, चाची 420, चाइना गेट, पुकार, हेराफेरी, कुरूक्षेत्र, पिता, देव, युवा, हंगामा, मालामाल वीकली, सिंह इज किंग, बोलो राम आदि। अपने संजीदा अभिनय से दर्शकों को मंत्रमुग्ध करने वाले ओमपुरी छह जनवरी 2017 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

 

More News
कव्वाली को संगीतबद्ध करने में महारत हासिल थी रौशन को

कव्वाली को संगीतबद्ध करने में महारत हासिल थी रौशन को

15 Nov 2019 | 12:26 PM

..पुण्यतिथि 16 नवंबर .. मुंबई 15 नवंबर (वार्ता) हिंदी फिल्मों में जब कभी कव्वाली का जिक्र होता है संगीतकार रौशन का नाम सबसे पहले लिया जाता है। रौशन ने वैसे तो फिल्मों में हर तरह के गीतों को संगीतबद्ध किया है लेकिन कव्वालियों को संगीतबद्ध करने में उन्हें महारत हासिल थी।

see more..
रूमानी अदाओं से दीवाना बनाया मीनाक्षी ने

रूमानी अदाओं से दीवाना बनाया मीनाक्षी ने

15 Nov 2019 | 11:57 AM

..जन्मदिवस 16 नवंबर.. मुंबई 15 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड में मीनाक्षी शेषाद्री एक ऐसी अभिनेत्री के रुप में शुमार की जाती है जिन्होंने अपनी रूमानी अदाओं से लगभग दो दशक तक सिने प्रेमियों को अपना दीवाना बनाया ।

see more..
200 करोड़ के क्लब में शामिल हुई हासउफुल 4

200 करोड़ के क्लब में शामिल हुई हासउफुल 4

15 Nov 2019 | 11:48 AM

मुंबई 15 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार की फिल्म हाउसफुल 4 ने बॉक्स ऑफिस पर 200 करोड़ की कमाई कर ली है।

see more..
जूही की ख्वाहिश, बेटी जाह्नवी बनें अभिनेत्री

जूही की ख्वाहिश, बेटी जाह्नवी बनें अभिनेत्री

15 Nov 2019 | 11:43 AM

मुंबई 15 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री जूही चावला की ख्वाहिश है कि उनकी बेटी जाह्नवी अभिनेत्री बनें।

see more..
खलनायक का सीक्वल बनायेंगे संजय दत्त

खलनायक का सीक्वल बनायेंगे संजय दत्त

15 Nov 2019 | 11:35 AM

मुंबई 15 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता संजय दत्त अपनी सुपरहिट फिल्म खलनायक का सीक्वल बनाना चाहते हैं।

see more..
image