Sunday, Feb 25 2024 | Time 21:35 Hrs(IST)
image
राज्य


निहंग सिखों और पुलिस के बीच मुठभेड़ में एक कांस्टेबल की मौत, पांच घायल

निहंग सिखों और पुलिस के बीच मुठभेड़ में एक कांस्टेबल की मौत, पांच घायल

कपूरथला 23 नवंबर (वार्ता) पंजाब में कपूरथला के सुल्तानपुर लोधी स्थित गुरुद्वारा अकाल बुंगा पर गुरुवार तड़के निहंग सिखों के साथ झड़प में पंजाब पुलिस के एक कांस्टेबल की मौत हो गई और पांच पुलिसकर्मी घायल हो गए।

मृतक कांस्टेबल की पहचान जसपाल सिंह के रूप में हुई है। श्री सिंह सुल्तानपुर लोधी थाने में तैनात थे। मुख्य गुरुद्वारा बेर साहिब के सामने स्थित गुरुद्वारा अकाल बुंगा पर नियंत्रण को लेकर दो निहंग समूह पिछले तीन दिनों से आमने-सामने हैं। गुरुवार सुबह जब पुलिस ने मान सिंह के नेतृत्व वाले निहंग समूह से गुरुद्वारा खाली कराने की कोशिश की, तो उसके सदस्यों ने पुलिसकर्मियों पर अंधाधुंध गोलीबारी शुरू कर दी, जिसमें एक पुलिस कांस्टेबल की मौत हो गई और पांच पुलिसकर्मी घायल हो गए। घायल पुलिसकर्मियों को इलाज के लिए स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार, भारी हथियारों से लैस निहंगों ने गुरुद्वारे को अंदर से बंद कर दिया है। पुलिस ने पूरे इलाके की बैरिकेडिंग कर दी है और निहंग समूह से कब्जा खाली कराने के लिए बातचीत शुरू कर दी है।

उल्लेखनीय है कि पहले गुरुद्वारे पर पटियाला स्थित बाबा बुड्ढा दल बलबीर सिंह का कब्जा था, लेकिन 21 नवंबर को उनके विरोधी गुट मान सिंह ने गुरुद्वारे के दो कर्मचारियों के साथ बेरहमी से मारपीट कर गुरुद्वारे पर अवैध कब्जा कर लिया।

पुलिस ने पहले ही 21 नवंबर को भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया है। बुधवार को मान सिंह समूह के 10 निहंगों को गिरफ्तार कर लिया है। दोनों गुटों में 2020 में भी झड़प हुई थी, जिसमें एक निहंग की मौत हो गई थी।

साल 2020 में, पटियाला के एक सब्जी बाजार में निहंगों के एक समूह के हमले में एक पुलिसकर्मी का हाथ तलवार से काट दिया गया था और उसके छह सहयोगी घायल हो गए थे।

निहंग सिख सिख योद्धाओं का एक समूह है, जिन्होंने ऐतिहासिक रूप से सिख समुदाय में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। निहंगों की एक विशिष्ट पहचान उनकी विशिष्ट नीली पोशाक से होती है, जिसमें एक लंबी पगड़ी जिसे ‘दस्तार बुंगा’ कहा जाता है, नीले वस्त्र और तलवार, भाले और खंजर जैसे हथियार शामिल हैं। वे अपने मार्शल कौशल के लिए जाने जाते हैं और पारंपरिक रूप से सिख समुदाय के सैन्य रक्षकों के रूप में कार्य करते हैं।

ठाकुर, संतोष

वार्ता

More News
सुदर्शन सेतु आधुनिक विकास के साथ जोड़ने वाली भेंट-पटेल

सुदर्शन सेतु आधुनिक विकास के साथ जोड़ने वाली भेंट-पटेल

25 Feb 2024 | 9:20 PM

देवभूमि द्वारका, 25 फरवरी (वार्ता) गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने रविवार को कहा कि कृष्ण की भूमि द्वारका को मिले सुदर्शन सेतु की भेंट हमारी हजारों वर्ष पुरानी विरासत को आधुनिक विकास के साथ जोड़ने वाली भेंट बनेगी।

see more..
image