Monday, Apr 23 2018 | Time 01:28 Hrs(IST)
image
image image
BREAKING NEWS:
  • निकारागुआ में सरकार विरोधी प्रदर्शन, कई लोगों की मौत
  • गौतम के कमाल से राजस्थान की मुंबई पर रोमांचक जीत
फीचर्स Share

एक घंटे का सफर तय कर महानगरों में 8 से 10 घंटे काम करती हैं महिलाएं

एक घंटे का सफर तय कर महानगरों में 8 से 10 घंटे काम करती हैं महिलाएं

नयी दिल्ली, 05 मार्च (वार्ता) महानगरों में काम करने वाली 70 फीसदी महिलाएं एक घंटे का सफर तय करने के बाद अपने कार्यालय पहुंच कर आठ से 10 घंटे तक काम करती हैं। ये महिलाएं कम से कम 30 किलोमीटर की दूरी तय करने के बाद अपने ऑफिस पहुंचती हैं। कामकाजी जिंदगी और निजी जिंदगी के बीच तालमेल बिठाने की कोशिश में महानगरों की सड़कों को नापती ये महिलाएं अक्सर अपने ही स्वास्थ्य को दांव पर लगा देती हैं। पीएचडी चैंबर्स ऑफ कामर्स एंड इंडस्ट्री के ताजा सर्वेक्षण के मुताबिक सफर में इतना लंबा समय गंवाने के बावजूद 64 प्रतिशत कामकाजी महिलाओं ने अपने काम के प्रति पूर्ण या सामान्य संतुष्टि जतायी। रिपोर्ट से यह बात भी सामने आयी है कि आफिस के काम के दबाव के बावजूद 84 फीसदी महिलाएं हर दिन अपने दो से चार घंटे घरेलू कामकाज पर देती हैं । हालांकि, अधिकतर महिलाओं का कहना है कि उन्हें घर के कामकाज में परिवार के अन्य सदस्यों से कोई मदद नहीं मिलती है, जिससे यह पता चलता है कि अब भी समाज में यही धारणा है कि घर संभालने की जिम्मेदारी सिर्फ महिलाओं की हैं। करीब 49 प्रतिशत महिलाओं का कहना है कि उन्होंने घर के काम के लिए किसी को काम पर रखा हुआ है। चैंबर्स के रिसर्च ब्यूरो ने इस साल जनवरी-फरवरी के बीच दिल्ली, मुम्बई, बेंगलुरु, कोलकाता तथा चेन्नई में लगभग 5,000 कामकाजी महिलाओं तथा गृहणियों का सर्वेक्षण करके यह रिपोर्ट तैयार की है। यह सर्वेक्षण महिलाओं की कामकाजी जिंदगी तथा निजी जिंदगी के संतुलन और महिलाओं के स्वास्थ्य की जानकारी हासिल करने के उद्देश्य से किया गया। इसमें साथ ही महिलाओं को काम पर रखने वाले संगठनों तथा आफिस में उनके अनुकूल काम का माहौल बनाने की दिशा में क्या प्रयास किये गये, इस पर भी ध्यान दिया गया। रिपोर्ट के अनुसार अधिकतर यानी 63 फीसदी महिलाएं अपने स्वास्थ्य की वजह से अवकाश लेती हैं। इनमें से 41 फीसदी ने ठंड-जुकाम और बुखार की वजह से अवकाश लिया। करीब 27 फीसदी महिलाओं ने दर्द खासकर सिरदर्द और पीठ दर्द की वजह से छुट्टी ली।


महिलाओं की आमदनी का कितना हिस्सा उनके स्वास्थ्य पर खर्च होता है जब इसका विश्लेषण किया गया तो पता चलता है कि 52 फीसदी महिलाएं अपनी आमदनी का 10 प्रतिशत से भी कम हिस्सा अपने स्वास्थ्य पर खर्च करती हैं। सिर्फ पांच फीसदी महिलाएं ऐसी थीं ,जो 40 प्रतिशत से अधिक आमदनी अपने स्वास्थ्य पर खर्च करती हैं। मात्र दो फीसदी कामकाजी महिलाओं का कहना है कि उनके आॅफिस में क्रेच की सुविधा है। चैंबर्स का कहना है कि इस दिशा में काम करके रोजगारदाता अपने यहां काम करने वाली महिलाओं को तनावमुक्त बना सकते हैं। सात प्रतिशत महिलाओं के पास घर से ही ऑफिस का काम करने की सुविधा है। यह भी पाया गया कि शादी के बाद ,बच्चे के जन्म के बाद और परिवार में किसी के बीमार होने की स्थिति में अधिकतर महिलाएं घर से ही ऑफिस का काम करती हैं। करीब 58 प्रतिशत महिलाएं निजी अस्पतालों पर सरकारी या स्थानीय क्लिनिक के बजाय अधिक भरोसा करती हैं। रिपोर्ट से यह भी पता चला है कि 69 प्रतिशत कामकाजी महिलाओं के पास बीमारी पर वेतन सहित अवकाश लेने की सुविधा है। करीब 37 फीसदी ने कहा कि उन्हें तीन से छह माह तक का मातृत्व अवकाश दिया गया है। बुनियादी ढांचे के क्षेत्र में 83 फीसदी महिलाओं का कहना है कि उनके कार्यालय में महिलाओं के लिए अलग से शौचालय है। सिर्फ 27 फीसदी का कहना है कि उनके ऑफिस में महिला चिकित्सक तथा डिस्पेंसरी की सुविधा भी है। अर्चना, यामिनी वार्ता

More News
नये प्रयोगों ने बढ़ाया बच्चों में स्कूल के प्रति लगाव

नये प्रयोगों ने बढ़ाया बच्चों में स्कूल के प्रति लगाव

13 Apr 2018 | 11:17 AM

नैनीताल 13 अप्रैल (वार्ता) उत्तराखंड के सरकारी स्कूलों के बच्चों में रचनात्मकता और कल्पनाशीलता काे बढ़ाने के लिये शुरु किये अभिनव प्रयोगों से न केवल उनमें नयी उमंग का संचार हुआ है बल्कि नयी नयी चीजें सीखने की जिज्ञासा बढ़ी है।

 Sharesee more..
गांधी से बहुत कम याद की जाती हैं कस्तूरबा

गांधी से बहुत कम याद की जाती हैं कस्तूरबा

11 Apr 2018 | 10:47 AM

(प्रसून लतांत) नयी दिल्ली, 11 अप्रैल (वार्ता) दक्षिण अफ्रीका और देश में आजादी के आंदोलन के दौरान साए की तरह राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के साथ रहीं और जनसेवा तथा रचनात्मक कार्यों में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेने वाली कस्तूरबा गांधी को बहुत कम ही याद किया जाता है।

 Sharesee more..
एक मुट्ठी नमक बना गांधी ने ललकारा था अंग्रेज हुकुमत को

एक मुट्ठी नमक बना गांधी ने ललकारा था अंग्रेज हुकुमत को

06 Apr 2018 | 12:55 PM

नयी दिल्ली, 06 अप्रैल (वार्ता) राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का नमक सत्याग्रह केवल नमक कर के खात्मे तक सीमित नहीं था बल्कि इसके जरिये उन्होंने ब्रिटिश हुकूमत को सीधी चुनौती दी और उसे यह अहसास कराया कि उसका शासन ज्यादा दिन टिकने वाला नहीं है।

 Sharesee more..
विवाह में देरी बांझपन का मुख्य कारक

विवाह में देरी बांझपन का मुख्य कारक

01 Apr 2018 | 1:13 PM

लखनऊ 01 अप्रैल (वार्ता) आमतौर पर बांझपन की समस्या के लिये महिलाओं को जिम्मेदार ठहराया जाता है लेकिन चिकित्सकों का मानना है कि अनियमित दिनचर्या,खानपान,तनाव,नशे की लत और विवाह में देरी समेत कई कारकों से देश में पुरूषों में बांझपन की समस्या विकराल रूप धारण कर रही है।

 Sharesee more..
गांधी ने चरखे को बनाया आर्थिक स्वावलम्बन का प्रतीक

गांधी ने चरखे को बनाया आर्थिक स्वावलम्बन का प्रतीक

27 Mar 2018 | 2:21 PM

(प्रसून लतांत से) नयी दिल्ली, 27 मार्च (वार्ता) एक सौ साल पहले राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की इच्छा पर खोज निकाला गया चरखा आजादी की लड़ाई में आर्थिक स्वावलम्बन का प्रतीक बना लेकिन आज वह देश में सिर्फ प्रदर्शन की वस्तु बन कर रह गया है जबकि विदेशियों के लिये वह चिंतन और ध्यान का आधार बन रहा है।

 Sharesee more..
image