Sunday, Jul 21 2019 | Time 09:44 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • जापान में ऊपरी सदन के लिए मतदान शुरू
  • भाजपा नेता मांगे राम गर्ग का निधन
  • न्यूजीलैंड में भूकंप के तेज झटके
  • शाहजहांपुर सड़क दुर्घटना में 17 कांवडिये घायल
  • सम्भल में दो कांस्टेबलों की हत्या करने वाला इनामी बदमाश कमल मुठभेड़ में ढेर
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 22 जुलाई)
  • ईरान की संपत्ति जब्त कर सकता है ब्रिटेन
  • हवाई हमले में तीन आईएस आतंकवादियों की मौत
  • ब्रिटिश एयरवेज ने काहिरा के लिए सात दिनों तक सेवा निलंबित की
  • पापुआ न्यू ग्यूनिया में 5 6 तीव्रता के भूंकप के झटके
  • हिमा का विजय अभियान जारी, जीता पांचवां स्वर्ण
  • हिमा का विजय अभियान जारी, जीता पांचवां स्वर्ण
  • शिकागो में गोलीबारी, दो की मौत, 19 घायल
  • नेतन्याहू ने बनाया इजरायल के सबसे लंबे समय तक प्रधानमंत्री रहने का रिकॉर्ड
  • बहरीन ने ब्रिटेन का टैंकर कब्जे में लेने पर ईरान की आलोचना की
खेल


भारतीय कबड्डी के पतन की सूत्रधार एक भारतीय

भारतीय कबड्डी के पतन की सूत्रधार एक भारतीय

जकार्ता, 25 अगस्त (वार्ता) एशियाई खेलों में कबड्डी के इतिहास में पिछले 28 वर्षाें में यह पहली बार है जब भारतीय टीमें स्वर्ण पदक के बिना स्वदेश लौटेंगी। भारतीय कबड्डी के इस पतन में किसी और की नहीं बल्कि एक भारतीय कोच की महत्वपूर्ण भूमिका रही है।

महाराष्ट्र के नासिक जिले की शैलजा जैन ने लगभग 30 साल का समय अपने राज्य में सैंकड़ों बच्चों को कबड्डी सिखाते हुये गुजारा था लेकिन उन्हें कभी भी भारतीय राष्ट्रीय टीम की अगुवाई करने का मौका नहीं मिला। यह बात हमेशा शैलजा को बहुत चुभती रही और इसी चुभन का नतीजा है कि दो बार की चैंपियन भारतीय महिला टीम फाइनल में ईरान के हाथों शिकस्त खा बैठी।

अब सवाल यह उठता है कि शैलजा और ईरान का क्या वास्ता है। दरअसल शैलजा ही ईरान की महिला टीम की कोच हैं और उन्होंने अपनी टीम से इन एशियाई खेलों से स्वर्ण पदक का वादा लिया था जिसे उनकी टीम ने पूरा कर दिखाया। 62 साल की शैलजा ईरान की इस सफलता से बेहद खुश हैं। ईरानी महिला खिलाड़ियों ने अपनी खिताबी जीत के बाद शैलजा के पास जाकर कहा,“ मैडम हमने आपको वह तोहफा दे दिया जो आपने चाहा था।”

एक वर्ष पहले ईरान ने शैलजा के सामने महिला टीम की कोचिंग का प्रस्ताव रखा था, हालांकि शुरू में इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया था लेकिन जब ईरान ने दोबारा एक बेहतर प्रस्ताव रखा तो वह इसे ठुकरा न सकीं। उनके मन में खुद को साबित करने की एक कसक थी जिसे उन्होंने ईरानी टीम के जरिये पूरा करने का लक्ष्य उठाया।

 

More News
सुशील के वज़न वर्ग में होगा घमासान

सुशील के वज़न वर्ग में होगा घमासान

20 Jul 2019 | 9:19 PM

नयी दिल्ली, 20 जुलाई (वार्ता) भारतीय कुश्ती महासंघ टोक्यो ओलंपिक के लिये पहली क्वालिफाइंग प्रतियोगिता विश्व चैंपियनशिप के लिये चयन ट्रायल आयोजित करेगा और इसमें दो बार के ओलंपिक पदक विजेता सुशील कुमार के 74 किग्रा वर्ग में जगह बनाने के लिये घमासान होगा।

see more..
टोक्यो में दोहरी पदक संख्या का लक्ष्य: बत्रा

टोक्यो में दोहरी पदक संख्या का लक्ष्य: बत्रा

20 Jul 2019 | 9:05 PM

आगरा, 20 जुलाई (वार्ता) भारतीय ओलम्पिक संघ के अध्यक्ष डॉ नरेंद्र ध्रुव बत्रा ने कहा है कि उनकी नजरें अगले साल के टोक्यो ओलम्पिक में दोहरी संख्या में पदक जीतने पर टिकी हुई हैं।

see more..
खालसा हाॅकी अकादमी की 7 खिलाड़ियों को वजीफा

खालसा हाॅकी अकादमी की 7 खिलाड़ियों को वजीफा

20 Jul 2019 | 7:47 PM

अमृतसर, 20 जुलाई (वार्ता) पंजाब में अमृतसर के खालसा कालेज चेरिटेबल सोसायटी के अधीन चल रही खालसा हाॅकी अकादमी (लड़कियों) की सात खिलाड़ियों को खेलों में शानदार गतिविधियों के कारण भारत की सर्वोत्तम तेल कंपनी इंडियन आयल कारपोरेशन, नई दिल्ली की ओर से वजीफा देकर सम्मानित किया गया है।

see more..
शिवा थापा ने प्रेसीडेंट कप में जीता स्वर्ण

शिवा थापा ने प्रेसीडेंट कप में जीता स्वर्ण

20 Jul 2019 | 7:39 PM

नयी दिल्ली, 20 जुलाई (वार्ता) चार बार के एशियाई चैंपियनशिप के पदक विजेता शिवा थापा ने कजाखस्तान में नूर सुलतान में आयोजित प्रेसीडेंट कप मुक्केबाजी टूर्नामेंट में 63 किग्रा वर्ग में स्वर्ण पदक जीत लिया जबकि महिला मुक्केबाज परवीन के हिस्से में 60 किग्रा वर्ग में रजत पदक आया।

see more..
शीला दीक्षित दिल्ली के खिलाड़ियों की सबसे बड़ी हमदर्द थीं : सतपाल

शीला दीक्षित दिल्ली के खिलाड़ियों की सबसे बड़ी हमदर्द थीं : सतपाल

20 Jul 2019 | 7:10 PM

नयी दिल्ली, 20 जुलाई (वार्ता) द्रोणाचार्य अवार्डी महाबली सतपाल ने दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए कहा है कि वह दिल्ली के खिलाडियों की सबसे बड़ी हमदर्द थीं।

see more..
image