Friday, Oct 30 2020 | Time 21:44 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • वित्त आयोग ने रिपोर्ट पर विचार-विमर्श पूरा किया
  • झारखंड में कोरोना के 323 नये संक्रमित मिले
  • बुंदेलखंड राज्य की मांग को लेकर बुनिमो ने सांसदों को लिखा पत्र
  • केरल सरकार ने अभिनेत्री पर हमले के मामले में निचली अदालत की आलोचना की
  • गेल 99 रन, 1000 छक्के पूरे, पंजाब 185
  • लोहरदगा में आईईडी विस्फोट में तीन जवान घायल
  • भाजपा-जदयू और राजद-कांग्रेस एक जैसे : ओवैसी
  • चाईबासा से चार नक्सली गिरफ्तार, आठ केन बम बरामद
  • झांसी: धूमधाम से मनाया गया मिलाद उन नबी का पर्व
  • चुनावी रैली में ट्रम्प और बिडेन ने कोरोना से निपटने पर दिये विरोधाभासी संदेश
  • बिहार में प्रथम चरण के चुनाव में पुनर्मतदान की जरूरत नहीं
  • रिलायंस जियो का तिमाही मुनाफा तीन गुना बढ़ा
  • गिरिडीह में सड़क हादसे में सीआरपीएफ के कई जवान घायल
  • वडोदरा में सोना आभूषण के साथ लुटेरा गिरफ्तार
  • रद्द रद्द रद्द
राज्य » अन्य राज्य


विपक्षी सांसदों का निलंबन सरकार की तानाशाही मानसिकता: ममता

विपक्षी सांसदों का निलंबन सरकार की तानाशाही मानसिकता: ममता

कोलकाता, 21 सितंबर (वार्ता) तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो एवं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कृषि संबंधी विधेयकों को पारित कराने के दौरान हंगामा करने वाले विपक्ष के आठ सांसदों को शेष सत्र के लिये निलंबित किये जाने को सरकार की तानाशाही मानसिकता का परिचायक बताते हुए सोमवार को इस लड़ाई को सड़क से संसद तक लड़ने का ऐलान किया।

राज्यसभा में रविवार को कृषि विधेयकों पर चर्चा के दौरान विपक्षी दलों के सांसदों ने जमकर हंगामा किया था। सभापति एम. वेंकैया नायडू इस की घटना से नाराज दिखे और कड़ी कार्रवाई करते हुए हंगामा करने वाले आठ सांसदों को शेष सत्र के लिए निलंबित कर दिया है।

सुश्री बनर्जी ने सांसदों के निलंबन को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा, “ किसानों के हितों की आवाज उठा रहे आठ सांसदों का निलंबन दुर्भाग्यपूर्ण है और यह सरकार की तानाशाही सोच को दर्शाता है जो लोकतांत्रिक मूल्यों और सिद्धांतों का सम्मान नहीं करती है। हम पीछे हटने वाले नहीं है और हम इस फासीवादी सरकार के खिलाफ संसद से सड़क तक लड़गें।”

इस बीच श्री नायडू ने आज सदन की कार्यवाही के शुरु होने पर कहा, “ कल का दिन राज्‍यसभा के लिए बहुत खराब दिन था। कुछ सदस्‍य सदन के बीचों-बीच तक आ गए औँर उपसभापति के साथ धक्‍कामुक्‍की की गई। कुछ सांसदों ने कागजों को फेंका । माइक को तोड़ दिया रूल बुक फेंका गया । घटना से बेहद दुखी हूं। उपसभापति को धमकी दी गई । यही नहीं उन पर आपत्तिजनक टिप्पणी की गयी।

निलंबित सांसदों में डेरेक ओ ब्रायन, संजय सिंह, रिपुन बोरा, सैयद नजीर हुसैन, केके रागेश, ए करीम, राजीव सातव और डोला सेन हैं।

मिश्रा टंडन

वार्ता

image