Monday, Sep 24 2018 | Time 15:11 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कांग्रेस की सीवीसी से राफेल मामले की जांच की गुहार
  • पितृऋण से मुक्त होने का अवसर देता है “ पितृपक्ष”
  • टैफ़े ने लॉँन्च किया ट्रैक्टर रेंटल प्‍लेटफॉर्म ‘जेफार्म सर्विसेज’
  • राहुल भारत के अगले प्रधानमंत्री: रहमान मलिक
  • मुंबई में पेट्रोल 90 के पार दिल्ली में 83 रुपये के निकट
  • टीवीएस स्टार सिटी प्लस का नया संस्करण लांच
  • अपराधियों ने किराना व्यवसायी को मारी गोली
  • भारती एक्सा लाईफ ने व्हाट्सऐप के जरिये की क्लेम प्रोसेसिंग की शुरुआत
  • प्रमुख मुद्राओं में तेजी
  • सोना 100 रुपये चमका;चांदी 50 रुपये फिसली
  • कुपवाड़ा में घुसपैठ की कोशिश नाकाम, दो आतंकवादी ढेर
  • त्रिपुरा हथियारों के साथ तीन लोग गिरफ्तार
  • सरकार का मकसद आम जनता का जीवन सरल बनाना: पुरी
  • राफेल को लेकर राहुल का मोदी पर फिर हमला
  • एसपीजी पर राहुल का बयान निराधार और दुर्भाग्यूपर्ण: गृह मंत्रालय
भारत Share

विपक्षी दलों के ‘भारत बंद’ का रहा मिला-जुला असर

विपक्षी दलों के ‘भारत बंद’ का रहा मिला-जुला असर

नयी दिल्ली 10 सितंबर (वार्ता) पेट्रोल और डीजल की आसमान छूती कीमतों और रुपये के मूल्य में गिरावट के विरोध में कांग्रेस की अगुवाई में विपक्षी दलों के ‘भारत बंद’ का सोमवार को मिला-जुला असर रहा और कुछ स्थानाें पर तोड़-फोड़ की घटनाओं को छोड़कर यह शांतिपूर्ण रहा।

कांग्रेस नेतृत्व में 21 दलों के इस भारत बंद के दौरान बिहार और महाराष्ट्र में कुछ स्थानों पर रेलगाड़ियों को रोके जाने तथा बसों और अन्य वाहनों में तोड़ फोड़ करने एवं जबरन बाजार बंद कराने की घटनाएं सामने आयी। कांग्रेस ने सुबह नौ बजे से अपराह्न तीन बजे तक आयोजित बंद के सफल हाेने का दावा किया है।

राष्ट्रीय राजधान दिल्ली में अध्यक्ष राहुल गांधी तथा कुछ अन्य विपक्षी नेताओं ने बंद की शुरूआत पर सुबह राजघाट जाकर महात्मा गांधी की समाधि पर पुष्प चढ़ाकर श्रद्धांजलि अर्पित की और वहां से रामलीला मैदान तक रैली निकाली। विपक्षी नेताओं ने रामलीला मैदान में कुछ देर धरना भी दिया जिसमें श्री गांधी के अलावा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद एवं अशोक गहलोत, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार, लोकतांत्रिक जनता दल के शरद यादव, राष्ट्रीय जनता दल के जयप्रकाश नारायण यादव, राष्ट्रीय लोकदल के जयंत चौधरी, आम आदमी पार्टी के संजय सिंह और आरएसडी के एन के प्रेमचंद्रन समेत विभिन्न दलों नेता मौजूद थे। इन नेताओं ने आरोप लगाया कि आम आदमी पेट्रोल और डीजल की कीमतों और महंगाई से त्रस्त है लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस पर चुप्पी साधे हुए हैं।

पटना में बंद समर्थकों ने प्रमुख डाक बंगला चौराहे पर प्रदर्शन करके यातायात बाधित कर दिया। इस दौरान बंद समर्थकों ने कई वाहनों के शीशे तोड़ दिये। बंद के दौरान दानापुर, बेलीरोड और मनेर में सड़क पर टायर जलाकर यातायात को बाधित किया गया। राज्य के सभी जिलों में बंद का व्यापक असर देखा गया।

बिहार में भारत बंद के समर्थन में कांग्रेस, राष्ट्रीय जनता दल (राजद), हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा (हम), जन अधिकार पार्टी (जाप), समाजवादी पार्टी (सपा) और लोकतांत्रिक जनता दल (लोजद) के नेता और कार्यकर्ता सुबह से ही सड़कों पर उतर आये और जगह-जगह सड़क तथा रेल यातायात रोकने तथा दुकानों को बंद कराने की कोशिश की। इसी दौरान जाप के कार्यकर्ताओं ने पटना में राजेन्द्र नगर टर्मिनल पर पूर्व मध्य रेलवे के कर्मचारियों को हाजीपुर ले जाने वाली बस के शीशे तोड़ दिये। नालंदा मेडिकल कॉलेज जा रहे एक डाक्टर के साथ बंद समर्थकों ने दुर्व्यवहार किया।

देश की वाणिज्यिक राजधानी मुंबई में पेट्रोलियम उत्पादों की बढ़ती कीमतों के विरोध में भारत बंद के दौरान उपनगर अंधेरी में कांग्रेस नेताओं ने ट्रेन रोकने का प्रयास किया और पुणे में महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के कार्यकर्ताओं ने एक बस में तोड़फोड़ की। शिवसेना ने हालांकि इस बंद का विरोध किया। महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चव्हाण, मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष संजय निरुपम, वरिष्ठ नेता माणिकराव ठाकरे और अन्य नेताआें को अंधेरी रेलवे स्टेशन पर ‘ट्रेन रोको’ अभियान के दौरान हिरासत में लिया गया। मनसे के कार्यकर्ताओं ने घाटकोपर-अंधेरी मेट्रो रेल लाइन को डी एन नगर स्टेशन पर अवरूद्ध कर दिया। चेंबूर स्टेशन पर भी ट्रेन रोकी गयी। प्रतीक्षानगर डिपो और वाशी नाका में सरकारी बेस्ट की बसों पर पथराव की रिपोर्ट भी मिली है।

पंजाब में कांग्रेस की सरकार होने के बावजूद भारत बंद का असर मिला-जुला ही रहा। राज्य के कई जिलों में बाजार बंद रहे। कांग्रेस कार्यकर्ता जगह-जगह दुकानदारों से बंद को सफल बनाने में सहयोग की अपील करते और बाजार और दुकानें बंद कराते देखे गए। पंजाब में गुरू ग्रंथ का पहला प्रकाश पर्व होने के कारण सरकारी कार्यालयों तथा सभी स्कूल और कॉलेजों में अवकाश रहा। सड़कों पर बसें दाैड़ती नजर आयीं। समूचे राज्य में बंद का मिला-जुला असर दिखाई दिया।

हिमाचल प्रदेश में भारत बंद का मिला-जुला असर रहा। शिमला सहित बड़े शहरों में व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रहे तथा निजी बसें नहीं चलीं जिससे लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। सरकारी संस्थानों को छोड़कर, स्कूल, कार्यालय, बैंक और राज्य ट्रांसपोर्ट बंद रहे। दुकानें तथा व्यापारिक प्रतिष्ठान और होटल भी बंद रहे।

टीम.श्रवण सत्या

जारी.वार्ता

More News
एसपीजी पर राहुल का बयान निराधार और दुर्भाग्यूपर्ण: गृह मंत्रालय

एसपीजी पर राहुल का बयान निराधार और दुर्भाग्यूपर्ण: गृह मंत्रालय

24 Sep 2018 | 3:07 PM

नयी दिल्ली 24 सितम्बर (वार्ता) केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने ‘स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप’ (एसपीजी) के पूर्व प्रमुख के बारे में दिये गये कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बयान को निराधार, तथ्यों से परे तथा दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है।

 Sharesee more..
राफेल को लेकर राहुल का मोदी पर फिर हमला

राफेल को लेकर राहुल का मोदी पर फिर हमला

24 Sep 2018 | 3:01 PM

नयी दिल्ली, 24 सितम्बर (वार्ता) कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फिर कटघरे में खड़ा करते हुए फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के उस साक्षात्कार का वीडियो जारी किया जिसमें उन्होंने कहा था कि राफेल लड़ाकू विमान सौदे में ऑफसेट पार्टनर के लिए अनिल अंबानी की कंपनी का नाम भारत सरकार ने सुझाया था।

 Sharesee more..
सरकार का मकसद आम जनता का जीवन सरल बनाना: पुरी

सरकार का मकसद आम जनता का जीवन सरल बनाना: पुरी

24 Sep 2018 | 2:53 PM

नयी दिल्ली 24 सितंबर (वार्ता) केंद्रीय आवास एवं शहरी कार्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने आज कहा कि सरकार का ‘जीवन सुगमता सूचकांक’ संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्यों के अनुरुप है और सूचकांक इसके 17 में से आठ लक्ष्यों को पूरा करता है।

 Sharesee more..

24 Sep 2018 | 2:28 PM

 Sharesee more..
मॉब लिंचिंग मामलों पर राज्यों के रवैये से सुप्रीम कोर्ट नाराज

मॉब लिंचिंग मामलों पर राज्यों के रवैये से सुप्रीम कोर्ट नाराज

24 Sep 2018 | 2:18 PM

नयी दिल्ली, 24 सितम्बर (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने ‘मॉब लिंचिंग’ रोकने के लिए जारी दिशा-निर्देशों पर अमल न किये जाने को लेकर सोमवार को एक बार फिर गहरी नाराजगी जताते हुए आठ राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से जवाब मांगा।

 Sharesee more..
image