Tuesday, Jan 18 2022 | Time 12:54 Hrs(IST)
image
Parliament


सभापति पर विपक्ष के आरोप बेबुनियाद: पीयूष गोयल

सभापति पर विपक्ष के आरोप बेबुनियाद: पीयूष गोयल

नयी दिल्ली 30 नवंबर (वार्ता) राज्यसभा में सदन के नेता पीयूष गोयल ने मंगलवार को कहा कि 12 विपक्षी सदस्यों के निलंबन के मुद्दे पर सरकार बातचीत के लिए तैयार हैं और इसे लेकर सदन के सभापति पर लगाये गये विपक्ष के आरोप बेबुनियाद हैं।
भोजनावकाश के बाद उप सभापति हरिवंश ने सदन की कार्यवाही शुरू की तो श्री गोयल ने कहा कि विपक्ष के नेता 12 विपक्षी सदस्यों के निलंबर को लेकर सभापति पर बेबुनियाद आरोप लग रहे है। सदस्यों को निलंबित करने का निर्णय सदन का है। सभापति ने अपने विशेषाधिकारों का प्रयोग करते हुए सदस्यों को निलंबित किया है।
श्री गोयल ने कहा कि इसके बावजूद सरकार यह मानती है कि गलती हो जाती है। सरकार विपक्ष का साथ चाहती है लेकिन इसके लिए निलंबित सदस्यों को माफी मांगनी होगी और सदन के सुचारु संचालन का आश्वासन देना होगा। सरकार निलंबन के मुद्दे पर चर्चा के लिए तैयार है।
इससे पूर्व उन्होंने सदन के पिछले सत्र के दौरान विभिन्न घटनाओं का सिलेसिलेवार ब्यौरा देते हुए कहा कि सभापति पर आरोप लगाना खेदजनक है। सदस्यों के व्यवहार से सदन और सभापति की मर्यादा तथा गरिमा कम हुई हैं। इसके लिए उन्हें सदन और देश से माफी मांगनी चाहिए। सदस्यों ने न केवल सदन की गरिमा भंग की बल्कि सुरक्षा कर्मियों, सहायक कर्मियों, राज्यसभा सचिवालय के कर्मचारियों के साथ बदसलूकी की और उनपर हमला किया। इससे एक महिला कर्मचारी घायल तक हो गयी। इन सदस्यों ने सत्तापक्ष के सदस्यों पर हमला करने तक का प्रयास किया। सदन के नेता और संसदीय कार्यमंत्री को सदन में प्रवेश नहीं करने दिया।
श्री गोयल ने कहा कि इस सदस्यों ने प्रधानमंत्री को अपना संवैधानिक दायित्व पूरा करने से रोका और उन्हें सदन में नये मंत्रियों का परिचय नहीं कराने दिया गया। उन्होंने आरोप लगाया कि विपक्ष को आदिवासी समाज से मंत्री बनना पचा नहीं। नये मंत्रियों में से अधिकतर पूर्वांचल और आदिवासी क्षेत्र से थे। मणिपुर का कोई व्यक्ति पहली केंद्रीय मंत्रि परिषद में शामिल हुआ है। उन्होंने कहा कि एक विपक्षी सदस्य ने सदन में की गयी हरकतों का वीडियो बना लिया और यू-टयूब पर डाल दिया।
इस पर श्री हरिवंश ने कहा कि विपक्षी सदस्यों के निलंबन पर सभापति ने पक्ष और विपक्ष के बीच बातचीत करने का परामर्श दिया है। दोनों पक्षों को इस दिशा में बढ़ना चाहिए।
सत्या
वार्ता

There is no row at position 0.
image