Wednesday, Oct 16 2019 | Time 20:21 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • उप्र में अपराध नियंत्रण एवं त्योहारों पर हो पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था: ओ पी सिंह
  • मास्टर्स नेशनल चैंपियनशिप 18 से लखनऊ में
  • सोनिया गांधी से माफी मांगे खट्टर: मंड
  • सुखबीर का अहंकार ही अकाली दल को खत्म करेगा : कैप्टन अमरिन्दर सिंह
  • करतारपुर में 31 अक्टूबर तक पूरा हो जायेगा निर्माण कार्य: गृह मंत्रालय
  • अनुच्छेद 370 आतंकवाद और अलगाववाद का मंच बन गया था: प्रसाद
  • मुकेरियां उपचुनाव: कांगड़ा, ऊना सीमावर्ती क्षेत्रों में कार्यरत मतदाताओं के लिये अवकाश
  • नॉन इंटरलॉकिंग कार्य के कारण कई ट्रेन रद्द
  • भावनाओं पर नियंत्रण मेरे कूल रहने का राज : धोनी
  • ट्रैक्टर और ऑटोरिक्शा की टक्कर में चार महिला समेत पांच कांवरिया घायल
  • मर्सिडीज बेंज जी-क्लास ने भारत में अपना पहला डीजल संस्करण पेश किया
  • मुंडा ने की वन-धन प्रशिक्षण की शुरूआत
  • रामनगर देह व्यापार के आरोपियों को नहीं मिली जमानत
  • सियेट ने ट्रकों के लिए लाँच किये एक्स 3 सीरीज के टायर
  • मंदी पर सरकार ने नहीं सुनी अभिजीत बनर्जी की बात : चिदम्बरम
भारत


कर्नाटक में यथास्थिति बनाये रखने का आदेश

कर्नाटक में यथास्थिति बनाये रखने का आदेश

नयी दिल्ली, 12 जुलाई (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने कर्नाटक में 10 विधायकों के त्यागपत्र मामले में अगली सुनवाई मंगलवार को होने तक यथास्थिति बनाये रखने का आदेश दिया है।

मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने शुक्रवार को कहा कि इस मामले में कुछ बड़े मुद्दे उठे हैं और वह इस पर मंगलवार को आगे सुनवाई कर निर्णय देगी। न्यायालय ने कहा कि अगली सुनवाई तक इस मामले में यथास्थिति बनाये रखी जाय।

बागी विधायकों की ओर से अदालत में उपस्थित हुए वरिष्ठ अधिवक्ता मुकुल रोहतगी ने कहा कि इस मामले में कानून स्पष्ट है और विधानसभा अध्यक्ष इस पूरे मामले में अदालत के प्रति जवाबदेह हैं।

विधानसभा अध्यक्ष के. आर. रमेश कुमार के वकील डॉ. अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि इस्तीफा देने वाले 10 विधायकों का उद्देश्य कुछ और है और यह अयोग्य ठहराये जाने से बचने के लिए किया गया है।

उन्होंने कहा कि इस मामले की संवेदनशीलता तथा गंभीरता को देखते हुए अदालत को सावधानीपूर्वक उचित निर्णय देना चाहिए।

मुख्यमंत्री एच. डी. कुमारस्वामी की ओर से अदालत में उपस्थित हुए राजनीतिक विचारक डॉ. राजीव धवन ने बागी विधायकों के उस बयान पर आपत्ति जतायी, जिसमें उन्हें विधानसभा अध्यक्ष पर बदनीयती से काम करने का आरोप लगया था। उन्होंने कहा कि असाधारण स्थिति में अदालत को विधानसभा अध्यक्ष को आदेश देना पड़ा। उन्होंने कहा कि विधानसभा अध्यक्ष कानून के अनुसार काम कर रहे हैं।

डॉ. सिंघवी ने कहा कि सभी 10 विधायकों ने गुरुवार को अपना नया त्याग पत्र सौंपा है।

उल्लेखनीय है कि उच्चतम न्यायालय ने बागी विधायकों को गुरुवार शाम छह बजे तक विधानसभा अध्यक्ष से मिलने और फिर से इस्तीफा नेता को कहा था। इसके बाद सत्तारूढ़ कांग्रेस तथा जनता दल (एस) के 10 बागी विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष के. आर. रमेश कुमार से मुलाकात कर फिर से अपना इस्तीफा सौंपा था।

संतोष.श्रवण

वार्ता

More News
लोक-लुभावन कदमों से विकास प्रभावित होगा:नायडु

लोक-लुभावन कदमों से विकास प्रभावित होगा:नायडु

16 Oct 2019 | 8:00 PM

नयी दिल्ली, 16 अक्टूबर (वार्ता) उप राष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने चुनावों के दौरान मतदाताओं को रिझाने के लिए लोक-लुभावन कदमों पर बुधवार को राजनीतिक दलों को चेतावनी देते हुए कहा कि इससे विकास पर होने वाले खर्च पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा।

see more..
image