Wednesday, May 27 2020 | Time 17:09 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • भारत-ऑस्ट्रेलिया एडिलेड में खेलेंगे दिन-रात्रि टेस्ट
  • गिरिडीह से बैंक चोरी के मामले में तीन अपराधी गिरफ्तार
  • नेशनल इंश्युरेंस कंपनी के कार्यालय में लगी आग
  • भाजपा के अमृतसर देहाती और जालंधर शहरी अध्यक्ष नियुक्त
  • इंडोनेशिया में कोरोना वायरस के 686 नये मामले, 55 मरीजों की मौत
  • मजदूर यूनियन के विरोध से शामलात जमीनों की बोली रद्द
  • सीतापुर में लापरवाही बरतने पर छह ग्राम प्रधानों को कारण बताओं नोटिस जारी
  • सऊदी अरब में गोलीबारी में छह की मौत, तीन घायल
  • बैंकिग समूह में जबरदस्त लिवाली से शेयर बाजार में तूफानी तेजी
  • आनंदीबेन ने किया कोविड-19 से बचाव एवं सुरक्षा के लिए विकसित टूल्स का अवलोकन
  • धान रोपाई पर पाबंदी के खिलाफ किसानों के साथ है कांग्रेस : सैलजा
  • जेपी माॅर्गन की सम्पत्ति कुर्क की गयी : ईडी
  • प्रदेश भाजपा अध्यक्ष राजीव बिंदल ने नैतिकता के आधार पर दिया इस्तीफा
  • राजव राव हरियाणा कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी सैलजा के राजनीतिक सचिव नियुक्त
  • हेमंत ने तमिलनाडु में फंसी बच्चियों की वापसी के लिए मुख्यमंत्री से किया आग्रह
मनोरंजन » जानीमानी हस्तियों का जन्म दिन


पार्श्वगायिका बनना चाहती थीं पद्मिनी कोल्हापुरी

पार्श्वगायिका बनना चाहती थीं पद्मिनी कोल्हापुरी

..जन्मदिन 01 नवंबर के अवसर पर ..
मुंबई 31 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड में अपनी दिलकश अदाओं से अभिनेत्री पद्मिनी कोल्हापुरी ने दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया लेकिन वह फिल्म अभिनेत्री न बनकर पार्श्वगायिका बनना चाहती थीं ।

पद्मिनी का जन्म एक नवंबर 1965 को एक मध्यम वर्गीय महाराष्ट्रियन कोंकणी परिवार में हुआ।
उनके पिता पंढरीनाथ कोल्हापुरे शास्त्रीय गायक थे जबकि उनकी मां एयरलाइंस में काम किया करती थीं।
घर में संगीत का माहौल रहने के कारण पद्मिनी का रूझान भी संगीत की ओर हो गया और वह अपने पिता से संगीत सीखने लगीं।

वर्ष 1973 में प्रदर्शित फिल्म यादो की बारात में पद्मिनी को गाने का अवसर मिला।
इस फिल्म में उनकी आवाज में रचा बसा यह गीत ..यादो की बारात निकली है आज दिल के द्वारे ..श्रोताओं के बीच काफी लोकप्रिय हुआ।
इसके बाद उन्होंने किताब, दुश्मन दोस्त जैसी फिल्मों में भी अपनी बहन शिवांगी के साथ पार्श्वगायन किया ।

पद्मिनी ने बतौर बाल कलाकार अपने करियर की शुरूआत निर्माता बी. एस. थापा की फिल्म ‘एक खिलाड़ी बावन पत्ते’ से की।
वर्ष 1974 में पद्मिनी को अपनी दूर की रिश्तेदार आशा भोंसले के प्रयास से देवानंद की फिल्म इश्क इश्क इश्क में बतौर बाल कलाकार काम करने का मौका मिला।
इसके बाद उन्होंने ड्रीमगर्ल, साजन बिना सुहागन, जिंदगी जैसी फिल्मों में भी बतौर बाल कलाकार काम किया।

    वर्ष 1977 में प्रदर्शित फिल्म ‘सत्यम शिवम सुंदरम’ पद्मिनी के करियर की अहम फिल्म साबित हुयी।
महान निर्माता -निर्देशक राजकपूर की इस फिल्म में उन्होंने अभिनेत्री जीनत अमान के बचपन की भूमिका निभाई थी।
इस फिल्म में पद्मिनी के अभिनय को जबरदस्त सराहना मिली इसके साथ ही वह दर्शको के बीच अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गयीं।

वर्ष 1980 में प्रदर्शित फिल्म ‘इंसाफ का तराजू’ पद्मिनी के करियर की महत्वपूर्ण फिल्म साबित हुयी।
बी.आर.चोपड़ा के बैनर तले बनी यह फिल्म वर्ष 1976 में प्रदर्शित हॉलीवुड फिल्म लिपिस्टक की रिमेक थी।
इस फिल्म में पद्मिनी ने अभिनेत्री जीनत अमान की बहन की भूमिका निभाई थी जो बलात्कार की शिकार एक युवती की भूमिका में थीं।
फिल्म में अपनी संजीदा भूमिका से उन्होंने दर्शको का दिल जीत लिया साथ ही सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार से भी सम्मानित की गयी।

बतौर अभिनेत्री पद्मिनी ने अपने करियर की शुरूआत वर्ष 1980 में प्रदर्शित फिल्म ‘जमाने को दिखाना है’ से की।
नासिर हुसैन निर्मित इस फिल्म में उनके नायक की भूमिका अभिनेता ऋषि कपूर ने निभाई थी।
बेहतरीन गीत-संगीत के बावजूद फिल्म को टिकट खिड़की पर अपेक्षित सफलता नही मिली।

वर्ष 1982 में प्रदर्शित फिल्म ‘प्रेम रोग’ में पद्मिनी के अभिनय के नये रूप देखने को मिले।
राजकपूर के निर्देशन में बनी इस फिल्म में पद्मिनी ने एक विधवा का किरदार निभाया था ।
अपने भावपूर्ण अभिनय से पद्मिनी ने दर्शकों का दिल जीतकर फिल्म को सुपरहिट बना दिया।
फिल्म में अपने दमदार अभिनय के लिये वह सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित की गयीं।

   वर्ष 1982 में पद्मिनी कोल्हापुरी को सुभाष घई निर्मित फिल्म ‘विधाता’ में काम करने का अवसर मिला जो उनके करियर की एक और सुपरहिट फिल्म साबित हुयी।
इस फिल्म में पद्मिनी ने अभिनय के अलावे एक गीत ..सात सहेलियां खड़ी खड़ी ..को भी अपनी आवाज दी थी जो उन दिनों श्रोताओं के बीच क्रेज बन गया था।
हालांकि बाद में यह गीत बैन कर दिया गया था।

वर्ष 1983 में प्रदर्शित फिल्म ‘सौतन’ पद्मिनी के करियर की महत्वपूर्ण फिल्मों में शुमार की जाती है।
इस फिल्म में उन्हें सुपरस्टार राजेश खन्ना के साथ काम करने का अवसर मिला।
फिल्म में एक अछूत कन्या का किरदार निभाया था।
फिल्म में अपने संजीदा अभिनय के लिये पद्मिनी सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार से नामांकित की गयीं।

वर्ष 1985 में प्रदर्शित फिल्म ‘प्यार झुकता नहीं’ पद्मिनी के करियर की सर्वाधिक सुपरहिट फिल्मों में शुमार की जाती है।
इस फिल्म में उनके नायक की भूमिका मिथुन चक्रवर्ती ने निभायी थी।
दोनों की जोड़ी को दर्शको ने बेहद पसंद किया।
फिल्म में अपने दमदार अभिनय के लिये पद्मिनी अपने करियर में दूसरी बार सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार से नामांकित की गयीं।

वर्ष 1986 में प्रदर्शित फिल्म ‘ऐसा प्यार कहां’ के निर्माण के दौरान पद्मिनी का झुकाव निर्माता टुटु शर्मा की ओर हो गया और बाद में उन्होंने शादी कर ली।
शादी के बाद पद्मिनी ने फिल्मों में काम करना काफी हद तक कम कर दिया।
वर्ष 1993 में प्रदर्शित फिल्म ‘प्रोफेसर की पड़ोसन’ के बाद पद्मिनी फिल्म इंडस्ट्री से संयास ले लिया।
वर्ष 2004 में प्रदर्शित मराठी फिल्म ‘मंथन’ से पद्मिनी ने फिल्म इंडस्ट्री में अपनी वापसी की।
फिल्म में उनकी भूमिका दर्शको के बीच काफी सराही गयीं।
पद्मिनी ने अपने करियर में लगभग 60 फिल्मों में काम किया है।
पदमिनी कोल्हापुरी इन दिनों बॉलीवुड में अधिक सक्रिय नहीं हैं।

अक्षय

अक्षय ने ‘बेल बॉटम’ पर शुरू किया काम

मुंबई, 27 मई (वार्ता) बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार ने लॉकडाउन के बीच अपनी आने वाली फिल्म ‘बेल बॉटम’ पर काम शुरू कर दिया है।

आलम

आलम आरा के लिये महबूब खान का किया गया था चयन

..पुण्यतिथि 28 मई ..
मुंबई, 27 मई (वार्ता) हिन्दी सिनेमा जगत के युगपुरूष महबूब खान को एक ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने दर्शकों को लगभग तीन दशक तक क्लासिक फिल्मों का तोहफा दिया लेकिन कम लोगो को पता होगा कि भारत की पहली बोलती फिल्म आलम आरा के लिये महबूब खान का अभिनेता के रूप में चयन किया गया था।

अजय

अजय ने सोनू सूद की तारीफ की

मुंबई 27 मई (वार्ता) बॉलीवुड के सिंघम स्टार अजय देवगन ने श्रमिकों की सहायता करने के लिये सोनू सूद की तारीफ की है।

विद्या

विद्या बालन बनीं निर्माता

मुंबई 27 मई (वार्ता) बॉलीवुड में अपने संजीदा अभिनय के लिये मशहूर विद्या बालन अब निर्माता बन गयी है।

सोनू

सोनू सूद ने प्रवासी मजदूरों की मदद के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किया

मुंबई, 27 मई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद ने प्रवासी मजदूरों की मदद के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किया है।

मुंबई

मुंबई में रोजाना 4500 फूड पैकेट बांट रहे अमिताभ

मुंबई, 27 मई (वार्ता) बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन लॉकडाउन के दौरान जरूरतमंद लोगों के बीच हर दिन 4500 फूड पैकेट बांट रहे हैं।

सलमान

सलमान की एनिमेटेड ‘दबंग’ होगी रिलीज

मुंबई 27 मई (वार्ता) बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान की सुपरहिट फिल्म दबंग एनिमेटड सीरीज में रिलीज होगी।

रामगोपाल

रामगोपाल वर्मा की फिल्म 'कोरोना वायरस' का ट्रेलर रिलीज

मुंबई 27 मई (वार्ता) बॉलीवुड फिल्मकार रामगोपाल वर्मा की फिल्म 'कोरोना वायरस' का ट्रेलर रिलीज कर दिया गया है।

रणवीर

रणवीर ने पूरा नहीं किया दीपिका से किया वादा

मुंबई 26 मई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता रणवीर सिंह का कहना है कि उन्होंने दीपिका पादुकोण से शादी के समय एक वादा किया था जिसे उन्होंने अबतक पूरा नहीं किया है।

लॉकडाउन

लॉकडाउन में अक्षय ने शूटिंग शुरू की

मुंबई, 26 मई (वार्ता) बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार ने लॉकडाउन में शूटिंग शुरू की है।

image