Wednesday, Sep 19 2018 | Time 11:34 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सिद्धार्थनगर: लेखपाल निलंबित
  • सड़क दुर्घटना में गर्भवती महिला सहित एक की मौत
  • रचनात्मक सोच विकसित कर राजनीतिक दल ढूंढे देश की समस्याओं का हल: हरिवंश सिंह
  • भाजपा शासन में तानाशाही बन गया पेशा : राहुल
  • इमरान सऊदी नेतृत्व के साथ द्विपक्षीय संबंधों पर करेंगे चर्चा
  • अगस्ता वेस्टलैंड: आरोपी मिशेल का भारत को किया जाएगा प्रत्यर्पण
  • ग्रामीण की पीट-पीटकर हत्या
  • बेगूसराय में 650 कार्टन शराब बरामद, चार गिरफ्तार
  • कटरीना की बहन इसाबेल करेगी बॉलीवुड में डेब्यू
  • कटरीना की बहन इसाबेल करेगी बॉलीवुड में डेब्यू
  • परिणीति हैं अर्जुन के लिये परफेक्ट दुल्हन !
  • परिणीति हैं अर्जुन के लिये परफेक्ट दुल्हन !
  • हाउसफुल 4 में डबल धमाल मचायेंगे अक्षय !
  • हाउसफुल 4 में डबल धमाल मचायेंगे अक्षय !
  • जौनपुर :आग में झुलसकर महिला की मौत
दुनिया Share

पाकिस्तान चुुनाव नतीजा घोषित, पीटीआई सबसे बड़ी पार्टी

पाकिस्तान चुुनाव नतीजा घोषित, पीटीआई सबसे बड़ी पार्टी

इस्लामाबाद, 28 जुलाई (वार्ता) पाकिस्तान चुनाव आयोग ने मतदान के दो दिन बाद शनिवार को चुनाव नतीजों की घोषणा कर दी। क्रिकेटर से नेता बने इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) को सबसे अधिक 115 सीटें मिली हैं। कम से कम पांच संसदीय सीटों पर दोबारा मतगणना होनी है ऐसी सूरत में यह आंकड़ा बदल सकता है।

पाकिस्तानी अखबार डाॅन ने चुनाव आयोग के आंकड़ों के हवाले से बताया कि 270 संसदीय सीटों पर हुए चुनाव में पीटीआई को 115, पूर्व राष्ट्रपति नवाज शरीफ की पार्टी पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) को 64 और पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) को 43 सीटें मिली हैं। मुत्ताहिदा मजलिस-ए-अमल (एमएमए) की झोली में 12 सीटें गयी हैं जबकि मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट -पाकिस्तान को छह सीटों पर संतोष करना पड़ा है।

नवगठित बलूचिस्तान अावामी पार्टी और पीएमएल-क्यू ने चार-चार सीटों पर जीत हासिल की है। ग्रैंड डेमोक्रेटिक अलाएंस ने दो सीट हासिल की है जबकि बलूचिस्तान नेशनल पार्टी की झोली में तीन सीटें गयी हैं और आवामी नेशनल पार्टी ने एक सीट पर सफलता हासिल की है।

अावामी मुस्लिम लीग (एएमएल),पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसानियत और जम्हूरी वतन पार्टी को भी एक-एक सीट मिली है।

आम चुनाव में 12 निदर्लीय उम्मीदवारों ने भी जीत हासिल की है और सरकार के गठन में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका हो सकती है।

इस बीच पीएमएल-एन और पीपीपी समेत 12 विपक्षी दलों ने धांधली का आरोप लगाते हुए चुनाव नतीजे को खारिज कर दिया है और दोबारा चुनाव कराये जाने की मांग की है। उन्होंने आरोप लगाया है कि श्री खान सेना का मुखौटा हैं और किसी भी हाल में निष्पक्ष और स्वतंत्र चुनाव नहीं हुआ है। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि मतदान केन्द्रों से उनके लोगों को सुरक्षाबलों ने बाहर निकाल दिया था।

अल्लाह -हु- अकबर पार्टी से अपने बेटे और दामाद को चुनाव में उतारने वाले मुंबई हमले के मास्टरमाइंड एवं आतंकवादी सरगना हाफिज सईद को इस चुनाव में जनता ने सिरे से नकार दिया है। इस पार्टी का सूपड़ा साफ हो गया है। पीटीआई सरकार बनाने के जादुई आंकड़ा प्राप्त करने में असफल रहने के बाद मुताहिदा मजलिस-ए अमल समेत कट्टरपंथी धड़ों से हाथ मिला सकती है।

इस बीच संसदीय चुनाव में अच्छा प्रदर्शन करने से चूकने के बाद पीएमएल-एन अपने गढ़ पंजाब प्रांत में सरकार बनाने के प्रयास में है। वह इस प्रांत में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है लेकिन पीटीआई इसके साथ होड़ में है। पीटीआई श्री नवाज की पार्टी से कुछ ही सीटों से कम है लेकिन वह छोटी और निदर्लीय उम्मीदवारों के सहयोग से इस प्रांत में अपनी सरकार बनाने की कोशिश में है।

इस बीच यूरोपीय संघ और अमेरिका ने भी आरोप लगाया है कि चुनाव निष्पक्ष और स्वतंत्र नहीं हुआ है।

अमेरिका ने चुनाव की निष्पक्षता पर संदेह जताते हुए आरोप लगाया है कि इन चुनावों में पीटीआई को सेना का समर्थन मिला जबकि पीएमएल - एन और पीपीपी ने बंदिशों में अपना प्रचार किया। डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन ने चुनाव को स्वतंत्र और निष्पक्ष घोषित करने से इंकार कर दिया है। पाकिस्तान के राजदूत रहे हुसैन हक्कानी ने कहा कि चुनाव के नतीजे पहले से ही तय थे।

यूराेपीय संघ और अमेरिका का साथ मिलने के बाद विपक्षी दलों ने खुलकर चुनाव परिणामों का बहिष्कार करते हुए दोबारा चुनाव कराये जाने की मांग की है। चुनाव के दौरान हिंसक घटनाएं भी हुयी। मतदान के दिन 25 जुलाई को क्वेटा में विस्फोट हुआ था जिसमें कई लोगों की जान गयी थी।

उल्लेखनीय है कि भ्रष्टाचार के मामले में रावलपिंडी की जेल में बंद श्री शरीफ 10 साल की सजा काट रहे हैं। इस जेल में उनकी बेटी मरियम शरीफ भी सात साल की सजा भोग रही है। श्री शरीफ बीमार पत्नी को लंदन छोड़कर इस माह स्वदेश लौटे थे और कहा था कि वह अपने देश के नागरिकों और पार्टी नेताओं एवं कार्यकर्ताओं को अकेले नहीं छोड़ सकते। उन्होंने यह भी कहा था कि वह कायर नहीं है कि देश से बाहर रहें। उन्हें किसी बात का डर नहीं है क्योंक वह किसी प्रकार के भ्रष्टााचार में शामिल नहीं हैं, वह अदालत के फैसले को चुनौती देंगे।

आशा आजाद

वार्ता

More News
अगस्ता वेस्टलैंड: आरोपी मिशेल का भारत को किया जाएगा प्रत्यर्पण

अगस्ता वेस्टलैंड: आरोपी मिशेल का भारत को किया जाएगा प्रत्यर्पण

19 Sep 2018 | 11:04 AM

दुबई 19 सितम्बर (वार्ता) दुबई की एक अदालत ने 3700 करोड़ के अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकाप्टर घोटाले में आरोपी ब्रिटिश नागरिक क्रिश्चियन मिशेल के भारत को प्रत्यर्पण के पक्ष में निर्णय सुनाया है।

 Sharesee more..
उ. कोरिया परमाणु मिसाइल केंद्रों को स्थायी रूप से नष्ट्र करने को राजी

उ. कोरिया परमाणु मिसाइल केंद्रों को स्थायी रूप से नष्ट्र करने को राजी

19 Sep 2018 | 10:45 AM

सोल 19 सितंबर (रायटर) दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन ने बुधवार को कहा कि उत्तर कोरिया अपनी महत्वपूर्ण मिसाइल केंद्रों को स्थायी रूप से नष्ट करने और इसके अंतरराष्ट्रीय निरीक्षण के लिए तैयार है।

 Sharesee more..
अमेरिका-द. कोरिया व्यापार समझौता संयुक्त राष्ट्र में संभव : ट्रंप

अमेरिका-द. कोरिया व्यापार समझौता संयुक्त राष्ट्र में संभव : ट्रंप

19 Sep 2018 | 10:16 AM

वाशिंगटन / सोल 19 सितंबर (रायटर) अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार को कहा कि दक्षिण कोरिया के साथ व्यापार समझौते पर पुन: बातचीत पूरी कर ली गयी है और सुयंक्त राष्ट्र महासभा के 73वें सत्र के दौरान इस समझौते पर हस्ताक्षर होने की संभावना है।

 Sharesee more..
दोनों कोरियाई देश संयुक्त वक्तव्य पर करेंगे हस्ताक्षर

दोनों कोरियाई देश संयुक्त वक्तव्य पर करेंगे हस्ताक्षर

19 Sep 2018 | 10:05 AM

सोल 19 सितंबर (रायटर) उत्तर और दक्षिण कोरिया के नेता उत्तर कोरिया की राजधानी प्योंगयांग में अपने शिखर सम्मेलन के बाद बुधवार को अंतर-कोरियाई संबंधों को लेकर संयुक्त वक्तव्य पर हस्ताक्षर करेंगे।

 Sharesee more..
चीन-पाकिस्तान के सैन्य संबंध दोनों देशों के रिश्तों की ‘रीढ़’: चीन

चीन-पाकिस्तान के सैन्य संबंध दोनों देशों के रिश्तों की ‘रीढ़’: चीन

19 Sep 2018 | 9:44 AM

बीजिंग 19 सितंबर (रायटर) चीन ने कहा है कि चीन और पाकिस्तान के सैन्य संबंध दोनों देशों के रिश्तों की ‘रीढ़’ है।

 Sharesee more..
image