Wednesday, Apr 25 2018 | Time 02:42 Hrs(IST)
image
image image
BREAKING NEWS:
  • अब्दुल हामिद ने ली बंगलादेश के राष्ट्रपति पद की शपथ
  • फर्जी पासपोर्ट मामले में पाकिस्तानी नागरिक को जेल
फीचर्स Share

पाॅली हाउस में खेती किसानों के लिए वरदान, जमीन उगल रही है सोना

पाॅली हाउस में खेती किसानों के लिए वरदान, जमीन उगल रही है सोना

इटावा, 25 फरवरी (वार्ता) कभी-कभी मौसम की बेरूखी और बढती लागत के चलते किसानों का खेती के प्रति कम होते मोह के बीच अत्याधुनिक पॉली हाऊस तकनीक से की जा खेती किसानों के लिए वरदान साबित हो रही है। यही नहीं,आर्थिक रुप से बेहाल किसानों के लिए यह एक आशा की एक नई किरण के रूप में देखी जा रही है । उत्तर प्रदेश के इटावा जिले के बख्तियारपुरा निवासी किसान सुरेश चन्द्र यादव ने एक एकड़ में पॉली हाउस तैयार कर नई तकनीक के जरिए मल्टी स्टार खीरा पैदा कर क्षेत्र में एक बड़े उत्पादक के रूप में अपनी पहचान बनाई है। श्री यादव इटावा के अलावा दिल्ली, पंजाब, हरियाणा में प्रतिदिन पांच से छह कुंतल खीरा भेजकर दस हजार रुपए से अधिक कमा रहे हैं । उनका कहना है यह खीरा नहीं उसके लिए हीरा बन गया है । सुरेश का कहना है कि उसके इस प्रयास को केन्द्र सरकार के राष्ट्रीय बागवानी मिशन से भरपूर सहयोग मिला । उसने पंजाब के एक पाली हाउस प्रोजेक्ट में बतौर मजदूर इस तकनीक को देखा और उसी समय तय कर लिया कि वह अपने जिले में पॉली हाउस तकनीक अपनायेगा। सुरेश इटावा के किसानों के लिए एक मिसाल बन गया हैं। उसने बताया कि एक एकड़ जमीन पर उसने 42 लाख रुपए खर्च करके पाली हाउस लगवाया। सरकार से उसे 21 लाख रुपए सब्सिडी के रुप में मिल चुकी है। अब वह अन्य किसानों को भी इस तकनीकी के जरिए खेती के नए प्रयोग सिखा रहा हैं।


सुरेश ने गत वर्ष जून में पाॅली हाउस प्रोजेक्ट के लिए आवेदन किया था। जिसके बाद उन्होंने अपनी जमीन पर इसके लिए महाराष्ट्र की एक कम्पनी से सम्पर्क किया था। दिसम्बर में तैयार हुए पाली हाउस में दस हजार मल्टी स्टार खीरा का बीज रोपा था। मल्टी स्टार खीरा के इन बीजों ने जनवरी में ही पांच फुट ऊंची बेल की शक्ल ले ली और फरवरी में अब तक वह दस कुंतल से अधिक खीरे को बाजार भाव पर बेच चुका हैं। उसने बताया कि बगैर सीजन में होने वाले इस खीरे की फसल को केवल चार माह में ही फल देने लायक बनाया जा सकता है। इससे जहां उत्पादन बढ़ जाता है वहीं खीरे की गुणवत्ता भी बाजार के लिए आकर्षक होती है। पाॅली हाउस का प्रयोग मुख्यता ग्रीन हाउस गैसों के प्रभाव को कम करने के लिए किया जाता है । श्री यादव का कहना है कि अशुद्ध वातावरण से दूर होने के कारण इस फसल में कीटनाशकों का प्रयोग भी नहीं किया जाता। इसके अलावा तापमान के नियंत्रण और पेड़ों के सही विकास के लिए पूरे पॉली हाउस में तापमान नियंत्रक फोकर लगाए गए हैं। फव्वारेनुमा इस यंत्र से पाली हाउस का तापमान अधिक होने पर उसे नियंत्रित किया जा सकता है। इसके अलावा ड्रिप सिंचाई और पेड़ों की जड़ों तक यूरिया पहुंचाने के लिए भी एक व्यवस्थित पाइप यंत्र लगे हुए हैं।


सुरेश द्वारा लगाये गये इस पाली हाउस की फसलों में जहां एक बेल से 30 किलो खीरे का उत्पादन किया जाता है। वहीं गुणवत्ता के लिहाज से भी इस फसल को बेहतर माना जाता है । खेती के लिए इटावा की जलवायु वैसे तो काफी बेहतर मानी जाती है लेकिन पाॅली हाउस के प्रयोग से किसान कम लागत में अधिक उत्पादन से अपनी कृषि आय को बढ़ा सकते हैं। फिलहाल जिले में यह पहला सफल प्रयोग है और इस प्रयोग के बाद अब बडे़ पैमाने पर किसान इस योजना से जुड़ना चाह रहे हैं । इटावा के जिला उधान अधिकारी राजेंद्र कुमार शाहू का कहना है कि जिला उद्यान कार्यालय में भी इसके लिए अब तक कुल 11 आवेदन आ चुके हैं । ऐसे में उम्मीद है कि आने वाले समय में किसानों के लिए यह तकनीक जहां आय के लिहाज से कारगर सिद्ध होगी वहीं दूसरी ओर आम जनता को भी इससे पूर्णतरू कीटनाशक मुक्त फलों व सब्जियों का स्वाद मिल सकेगा। गौरतलब है कि कृषि प्रधान देश कहे जाने वाले भारत में अब केवल 18 प्रतिशत लोग ही खेती पर निर्भर हैं । अन्नदाता की इस दुर्दशा का मुख्य कारण तेजी से बदलता मौसम और महंगी हो रही प्राचीन कृषि पद्धति है । बदलते दौर में अत्याधुनिक तकनीक के बल पर खेती का बदला स्वरूप एक बार फिर किसानों के लिए एक नई ऊर्जा की किरण लेकर आया । पाली हाउस के जरिए ग्रीन हाउस गैसों के प्रभाव को कम करके और बिना कीटनाशकों के प्रयोग से होने वाली उन्नत खेती आज किसानों के लिए वरदान साबित हो रही है । सं त्यागी नरेन्द्र चौरसिया वार्ता

More News
नये प्रयोगों ने बढ़ाया बच्चों में स्कूल के प्रति लगाव

नये प्रयोगों ने बढ़ाया बच्चों में स्कूल के प्रति लगाव

13 Apr 2018 | 11:17 AM

नैनीताल 13 अप्रैल (वार्ता) उत्तराखंड के सरकारी स्कूलों के बच्चों में रचनात्मकता और कल्पनाशीलता काे बढ़ाने के लिये शुरु किये अभिनव प्रयोगों से न केवल उनमें नयी उमंग का संचार हुआ है बल्कि नयी नयी चीजें सीखने की जिज्ञासा बढ़ी है।

 Sharesee more..
गांधी से बहुत कम याद की जाती हैं कस्तूरबा

गांधी से बहुत कम याद की जाती हैं कस्तूरबा

11 Apr 2018 | 10:47 AM

(प्रसून लतांत) नयी दिल्ली, 11 अप्रैल (वार्ता) दक्षिण अफ्रीका और देश में आजादी के आंदोलन के दौरान साए की तरह राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के साथ रहीं और जनसेवा तथा रचनात्मक कार्यों में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेने वाली कस्तूरबा गांधी को बहुत कम ही याद किया जाता है।

 Sharesee more..
एक मुट्ठी नमक बना गांधी ने ललकारा था अंग्रेज हुकुमत को

एक मुट्ठी नमक बना गांधी ने ललकारा था अंग्रेज हुकुमत को

06 Apr 2018 | 12:55 PM

नयी दिल्ली, 06 अप्रैल (वार्ता) राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का नमक सत्याग्रह केवल नमक कर के खात्मे तक सीमित नहीं था बल्कि इसके जरिये उन्होंने ब्रिटिश हुकूमत को सीधी चुनौती दी और उसे यह अहसास कराया कि उसका शासन ज्यादा दिन टिकने वाला नहीं है।

 Sharesee more..
विवाह में देरी बांझपन का मुख्य कारक

विवाह में देरी बांझपन का मुख्य कारक

01 Apr 2018 | 1:13 PM

लखनऊ 01 अप्रैल (वार्ता) आमतौर पर बांझपन की समस्या के लिये महिलाओं को जिम्मेदार ठहराया जाता है लेकिन चिकित्सकों का मानना है कि अनियमित दिनचर्या,खानपान,तनाव,नशे की लत और विवाह में देरी समेत कई कारकों से देश में पुरूषों में बांझपन की समस्या विकराल रूप धारण कर रही है।

 Sharesee more..
गांधी ने चरखे को बनाया आर्थिक स्वावलम्बन का प्रतीक

गांधी ने चरखे को बनाया आर्थिक स्वावलम्बन का प्रतीक

27 Mar 2018 | 2:21 PM

(प्रसून लतांत से) नयी दिल्ली, 27 मार्च (वार्ता) एक सौ साल पहले राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की इच्छा पर खोज निकाला गया चरखा आजादी की लड़ाई में आर्थिक स्वावलम्बन का प्रतीक बना लेकिन आज वह देश में सिर्फ प्रदर्शन की वस्तु बन कर रह गया है जबकि विदेशियों के लिये वह चिंतन और ध्यान का आधार बन रहा है।

 Sharesee more..
image