Wednesday, Feb 19 2020 | Time 22:46 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सीमांचल घुसपैठियों का सबसे बड़ा अड्डा : गिरिराज
  • तटरक्षक दल ने बीच समुद्र में पुराने जहाज में चोरी के आरोप में नौका और नौ सवारों को पकड़ा
  • हत्यारा पति गया जेल
  • केंद्र से मिले धन का उपयोग करने में विफल रही पटनायक सरकार: राम माधव
  • फोटो कैप्शन-तीसरा सेट
  • मोदी अगले महीने बंगलादेश आयेंगे: मोमेन
  • डकैती मामले में दो दोषी को सात साल की सजा
  • मादक पदार्थ तस्करी मालमे में अकाली नेता गिरफ्तार
  • सीएए से गरीबों एवं कमजोर वर्गों की नागरिकता खत्म करना चाहती है मोदी सरकार : कन्हैया
  • केजरीवाल के विकास मॉडल को हरियाणा में हर घर तक पहुंचाएगी ‘आप‘ : सुशील गुप्ता
  • विश्व कप आयोजन से महिला क्रिकेट को मिलेगा बढ़ावा : ली
  • विश्व कप आयोजन से महिला क्रिकेट को मिलेगा बढ़ावा : ली
  • भारतीय ग्रीको रोमन पहलवानों ने जीते तीन कांस्य पदक
  • भारतीय ग्रीको रोमन पहलवानों ने जीते तीन कांस्य पदक
लोकरुचि


माघ मेला में पंचगव्य निर्मित आयुर्वेदिक औषधि की धूम

माघ मेला में पंचगव्य निर्मित आयुर्वेदिक औषधि की धूम

प्रयागराज,07 फरवरी (वार्ता) तीर्थराज प्रयाग में माघ मेला के दौरान दूर दराज से आस्था की डुबकी लगाने पहुंचे श्रद्धालुओं में गौ मूत्र और गोबर से निर्मित आयुर्वेदिक औषधि और अन्य सामानों की खरीद के लिए विशेष रूचि देखने को मिल रही है।

      परेड़ स्थित त्रिवेणी मार्ग में विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के शिविर स्टाल लगा कर गौमूत्र और गोबर के सौजन्य से तैयार आयुर्वेदिक औषधियों की बिक्री करने वाले अभिषेक बाजपेयी ने शुक्रवार को बताया कि गौमूत्र महौषधि है। इसमें पोटैशियम, मैग्नीशियम क्लोराइड, फॉस्‍फेट, अमोनिया, कैरोटिन, स्वर्ण क्षार आदि पोषक तत्व विद्यमान रहते हैं इसलिए

इसे औषधीय गुणों की दृष्टि से महौषधि माना गया है।    



    श्री वाजपेयी ने बताया कि उनके स्टॉक में अपच, आर्थराइटिस, कैटरैक्ट, डायबिटीज और फेफड़ों के संक्रमण के लिए दवाएं शामिल हैं। आंखों की देखभाल के उत्पाद दृष्टि में सुधार करने में मदद कर सकते हैं। गोमूत्र के अलावा गोबर का उपयोग साबुन, फेस पैक और अगरबत्ती बनाने के लिए भी किया जाता है।


आयुर्वेदिक औषधियों की बिक्री करने वाले अभिषेक बाजपेयी ने बताया कि माघमेला में पहली बार इन उत्पादों को रखा गया है। उम्मीद से अधिक सार्थक परिणाम मिले हैं। इससे पहले 2007 अर्ध कुंभ, 2013 एवं 2019 के कुंभ मेलों में इसके स्टाल लगाये गये थे जिसके सकारात्मक परिणाम मिले थे। उन्ही परिणामों से प्रेरित होकर इस बार माघ मेला में इसका प्रयोग किया गया है। साबुन और टूथ पेस्ट से लेकर रूम फ्रेशर और अगरबत्ती से लेकर आई ड्रॉप और दर्द से राहत देने वाले तेल तक के उत्पादों की खरीद के लिए लोग चुंबक की तरह खिंचे चले आ रहे हैं।

    उन्होंने कहा कि उत्पाद में ऑर्गेनिक फ़र्टिलाइज़र और होम क्लीनर से लेकर आई ड्रॉप और दर्द निवारक तक हैं। जो लोग गोमूत्र और गोबर के औषधीय गुणों में विश्वास करते हैं, वे हमारे स्टॉलों पर जाते हैं। उत्पाद पहले से ही पूरे देश में सभी विहिप और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस)के शिविरों में उपलब्ध हैं। उन्होने बताया कि हम अब ग्राहाकों के लिए आनलाइन की खरीदारी साइटों के साथ पंजीकरण करने की प्रक्रिया में हैं।

    श्री बाजपेयी उन्होने बताया कि आरएसएस और विहिप और अन्य हिन्दू संगठनों के स्वयंसेवक समेत बहुत से लोग ऐसे उत्पादों का इस्तेमाल करते हैं। इसकी सबसे बड़ी उपयोगिता यह है कि इसकी कभी कोई नकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं होती है। माघी अमावस्या नौ फरवरी स्नान पर्व के बाद वह कानपुर वापस लौट जाएंगे।

         आयुर्वेदिक औषधियों की बिक्री करने वाले अभिषेक बाजपेयी ने बताया कि माघमेला में पहली बार इन उत्पादों को रखा गया है। उम्मीद से अधिक सार्थक परिणाम मिले हैं। इससे पहले 2007 अर्ध कुंभ, 2013 एवं 2019 के कुंभ मेलों में इसके स्टाल लगाये गये थे जिसके सकारात्मक परिणाम मिले थे। उन्ही परिणामों से प्रेरित होकर इस बार माघ मेला में इसका प्रयोग किया गया है। साबुन और टूथ पेस्ट से लेकर रूम फ्रेशर और अगरबत्ती से लेकर आई ड्रॉप और दर्द से राहत देने वाले तेल तक के उत्पादों की खरीद के लिए लोग चुंबक की तरह खिंचे चले आ रहे हैं।

उन्होंने कहा कि उत्पाद में ऑर्गेनिक फ़र्टिलाइज़र और होम क्लीनर से लेकर आई ड्रॉप और दर्द निवारक तक हैं। जो लोग गोमूत्र और गोबर के औषधीय गुणों में विश्वास करते हैं, वे हमारे स्टॉलों पर जाते हैं। उत्पाद पहले से ही पूरे देश में सभी विहिप और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस)के शिविरों में उपलब्ध हैं। उन्होने बताया कि हम अब ग्राहाकों के लिए आनलाइन की खरीदारी साइटों के साथ पंजीकरण करने की प्रक्रिया में हैं।

श्री बाजपेयी उन्होने बताया कि आरएसएस और विहिप और अन्य हिन्दू संगठनों के स्वयंसेवक समेत बहुत से लोग ऐसे उत्पादों का इस्तेमाल करते हैं। इसकी सबसे बड़ी उपयोगिता यह है कि इसकी कभी कोई नकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं होती है। माघी अमावस्या नौ फरवरी स्नान पर्व के बाद वह कानपुर वापस लौट जाएंगे।

दिनेश भंडारी

वार्ता

More News
गैस रोग से छुटकारा दिलाता है पवनमुक्तासन

गैस रोग से छुटकारा दिलाता है पवनमुक्तासन

15 Feb 2020 | 3:53 PM

सहारनपुर, 15 फरवरी (वार्ता) अनियमित दिनचर्या और खानपान के चलते आम हो चुकी गैस और घबराहट की समस्या से छुटकारा पाने में योग आपकी मदद कर सकता है।

see more..
‘बेटी बचाओ,बेटी पढ़ाओ’ अभियान में डाबर योगी सरकार के साथ

‘बेटी बचाओ,बेटी पढ़ाओ’ अभियान में डाबर योगी सरकार के साथ

13 Feb 2020 | 7:03 PM

लखनऊ 13 फरवरी (वार्ता) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की महत्वाकांक्षी ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ अभियान को गति देने के लिये देश की जानीमानी कंपनी डाबर ने उत्तर प्रदेश सरकार के साथ हाथ मिलाया है।

see more..
विख्यात खाटूश्यामजी का मेला 27 फरवरी से

विख्यात खाटूश्यामजी का मेला 27 फरवरी से

13 Feb 2020 | 12:22 PM

सीकर, 13 फरवरी (वार्ता) राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त खाटू श्याम जी का वार्षिक फाल्गुन मेला 27 फरवरी से सात मार्च तक खाटू में भरेगा। इस मेले के लिये प्रशासनिक तैयारियां शुरू हो गई है।

see more..
युवा बाघिन को सुरक्षा के मद्देनजर पहनाया गया रेडियाे कॉलर

युवा बाघिन को सुरक्षा के मद्देनजर पहनाया गया रेडियाे कॉलर

12 Feb 2020 | 10:41 AM

पन्ना, 12 फरवरी (वार्ता) मध्यप्रदेश के पन्ना टाइगर रिजर्व की एक युवा बाघिन का विचरण क्षेत्र बढ़ने के कारण सुरक्षा के मद्देनजर उसे 'रेडियाे कॉलर' पहनाया गया।

see more..
माघ मेला में पंचगव्य निर्मित आयुर्वेदिक औषधि की धूम

माघ मेला में पंचगव्य निर्मित आयुर्वेदिक औषधि की धूम

07 Feb 2020 | 4:38 PM

प्रयागराज,07 फरवरी (वार्ता) तीर्थराज प्रयाग में माघ मेला के दौरान दूर दराज से आस्था की डुबकी लगाने पहुंचे श्रद्धालुओं में गौ मूत्र और गोबर से निर्मित आयुर्वेदिक औषधि और अन्य सामानों की खरीद के लिए विशेष रूचि देखने को मिल रही है।

see more..
image