Wednesday, Aug 5 2020 | Time 01:39 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • लेबनान की राजधानी बेरूत में भीषण विस्फोट, 30 लोगों की मौत
  • दुष्कर्म पीड़िता की मददगार को तत्काल रिहा करने का आदेश
  • लेबनान की राजधानी बेरूत में भीषण विस्फोट, कई लोगों की मौत
  • सुशांत की मौत की सीबीआई जांच को लेकर दो और याचिकाएं
  • कश्मीर में आतंकवादी हमलों में भाजपा का एक पंच और दो पुलिसकर्मी घायल
लोकरुचि


माघ मेला में पंचगव्य निर्मित आयुर्वेदिक औषधि की धूम

माघ मेला में पंचगव्य निर्मित आयुर्वेदिक औषधि की धूम

प्रयागराज,07 फरवरी (वार्ता) तीर्थराज प्रयाग में माघ मेला के दौरान दूर दराज से आस्था की डुबकी लगाने पहुंचे श्रद्धालुओं में गौ मूत्र और गोबर से निर्मित आयुर्वेदिक औषधि और अन्य सामानों की खरीद के लिए विशेष रूचि देखने को मिल रही है।

      परेड़ स्थित त्रिवेणी मार्ग में विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के शिविर स्टाल लगा कर गौमूत्र और गोबर के सौजन्य से तैयार आयुर्वेदिक औषधियों की बिक्री करने वाले अभिषेक बाजपेयी ने शुक्रवार को बताया कि गौमूत्र महौषधि है। इसमें पोटैशियम, मैग्नीशियम क्लोराइड, फॉस्‍फेट, अमोनिया, कैरोटिन, स्वर्ण क्षार आदि पोषक तत्व विद्यमान रहते हैं इसलिए

इसे औषधीय गुणों की दृष्टि से महौषधि माना गया है।    



    श्री वाजपेयी ने बताया कि उनके स्टॉक में अपच, आर्थराइटिस, कैटरैक्ट, डायबिटीज और फेफड़ों के संक्रमण के लिए दवाएं शामिल हैं। आंखों की देखभाल के उत्पाद दृष्टि में सुधार करने में मदद कर सकते हैं। गोमूत्र के अलावा गोबर का उपयोग साबुन, फेस पैक और अगरबत्ती बनाने के लिए भी किया जाता है।


आयुर्वेदिक औषधियों की बिक्री करने वाले अभिषेक बाजपेयी ने बताया कि माघमेला में पहली बार इन उत्पादों को रखा गया है। उम्मीद से अधिक सार्थक परिणाम मिले हैं। इससे पहले 2007 अर्ध कुंभ, 2013 एवं 2019 के कुंभ मेलों में इसके स्टाल लगाये गये थे जिसके सकारात्मक परिणाम मिले थे। उन्ही परिणामों से प्रेरित होकर इस बार माघ मेला में इसका प्रयोग किया गया है। साबुन और टूथ पेस्ट से लेकर रूम फ्रेशर और अगरबत्ती से लेकर आई ड्रॉप और दर्द से राहत देने वाले तेल तक के उत्पादों की खरीद के लिए लोग चुंबक की तरह खिंचे चले आ रहे हैं।

    उन्होंने कहा कि उत्पाद में ऑर्गेनिक फ़र्टिलाइज़र और होम क्लीनर से लेकर आई ड्रॉप और दर्द निवारक तक हैं। जो लोग गोमूत्र और गोबर के औषधीय गुणों में विश्वास करते हैं, वे हमारे स्टॉलों पर जाते हैं। उत्पाद पहले से ही पूरे देश में सभी विहिप और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस)के शिविरों में उपलब्ध हैं। उन्होने बताया कि हम अब ग्राहाकों के लिए आनलाइन की खरीदारी साइटों के साथ पंजीकरण करने की प्रक्रिया में हैं।

    श्री बाजपेयी उन्होने बताया कि आरएसएस और विहिप और अन्य हिन्दू संगठनों के स्वयंसेवक समेत बहुत से लोग ऐसे उत्पादों का इस्तेमाल करते हैं। इसकी सबसे बड़ी उपयोगिता यह है कि इसकी कभी कोई नकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं होती है। माघी अमावस्या नौ फरवरी स्नान पर्व के बाद वह कानपुर वापस लौट जाएंगे।

         आयुर्वेदिक औषधियों की बिक्री करने वाले अभिषेक बाजपेयी ने बताया कि माघमेला में पहली बार इन उत्पादों को रखा गया है। उम्मीद से अधिक सार्थक परिणाम मिले हैं। इससे पहले 2007 अर्ध कुंभ, 2013 एवं 2019 के कुंभ मेलों में इसके स्टाल लगाये गये थे जिसके सकारात्मक परिणाम मिले थे। उन्ही परिणामों से प्रेरित होकर इस बार माघ मेला में इसका प्रयोग किया गया है। साबुन और टूथ पेस्ट से लेकर रूम फ्रेशर और अगरबत्ती से लेकर आई ड्रॉप और दर्द से राहत देने वाले तेल तक के उत्पादों की खरीद के लिए लोग चुंबक की तरह खिंचे चले आ रहे हैं।

उन्होंने कहा कि उत्पाद में ऑर्गेनिक फ़र्टिलाइज़र और होम क्लीनर से लेकर आई ड्रॉप और दर्द निवारक तक हैं। जो लोग गोमूत्र और गोबर के औषधीय गुणों में विश्वास करते हैं, वे हमारे स्टॉलों पर जाते हैं। उत्पाद पहले से ही पूरे देश में सभी विहिप और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस)के शिविरों में उपलब्ध हैं। उन्होने बताया कि हम अब ग्राहाकों के लिए आनलाइन की खरीदारी साइटों के साथ पंजीकरण करने की प्रक्रिया में हैं।

श्री बाजपेयी उन्होने बताया कि आरएसएस और विहिप और अन्य हिन्दू संगठनों के स्वयंसेवक समेत बहुत से लोग ऐसे उत्पादों का इस्तेमाल करते हैं। इसकी सबसे बड़ी उपयोगिता यह है कि इसकी कभी कोई नकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं होती है। माघी अमावस्या नौ फरवरी स्नान पर्व के बाद वह कानपुर वापस लौट जाएंगे।

दिनेश भंडारी

वार्ता

More News
अयोध्या में मंदिर के लिये बुधवार को भूमि पूजन तो मथुरा में होगा कृष्ण दर्शन

अयोध्या में मंदिर के लिये बुधवार को भूमि पूजन तो मथुरा में होगा कृष्ण दर्शन

03 Aug 2020 | 9:29 PM

मथुरा 03 अगस्त (वार्ता)-पांच अगस्त को जब मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम की जन्मभूमि अयोध्या में भूमि पूजन के समारोह से गुंजायमान हो रही होगी उसी समय मथुरा के श्रीकृष्ण जन्मस्थान स्थित केशवदेव मंदिर में भगवान केशवदेव राम रूप में भक्तों को दर्शन दे रहे होंगे।

see more..
रक्षाबंधन पर्व अछूता नही रह सका आधुनिकता के प्रभाव से: डा कुमुद दुबे

रक्षाबंधन पर्व अछूता नही रह सका आधुनिकता के प्रभाव से: डा कुमुद दुबे

03 Aug 2020 | 1:07 PM

प्रयागराज, 03 अगस्त (वार्ता) भारतीय संस्कृति की गौरवमयी परंपरा और भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक रक्षाबंधन भी आधुनिकता के प्रभाव से अछूता नही रहा और परंपरागत राखियों के स्थान ने रेशम के चमकीले एवं चांदी और सोने के जरी युक्त राखियों ने ले लिया है।

see more..
मैनपुरी में ईशन नदी को पुनर्जीवित करने का कार्य शुरू

मैनपुरी में ईशन नदी को पुनर्जीवित करने का कार्य शुरू

02 Aug 2020 | 7:02 PM

मैनपुरी,02 अगस्त (वार्ता) उत्तर प्रदेश के मैनपुरी में वर्षों से अपने मूल स्वरूप को खो चुकी ईशन नदी को पुनर्जीवित करने का बीड़ा जिलाधिकारी महेन्द्र बहादुर सिंह ने उठाया है।

see more..
पीलीभीत में कैदियों द्वारा बनाई गयी राफेल और मास्क राखी की बाजार में बढ़ी मांग

पीलीभीत में कैदियों द्वारा बनाई गयी राफेल और मास्क राखी की बाजार में बढ़ी मांग

01 Aug 2020 | 7:34 PM

पीलीभीत, 01 अगस्त(वार्ता) उत्तर प्रदेश के पीलीभीत में रक्षा बंधन पर जेल के बंदियों द्वारा बनाई गयी राफेल और मास्क वाली राखियाें की बाजार में मांग बढ़ गयी है।

see more..
जाएं तो कहां जाएं हर मोड पर रूसवाई: जाफरी

जाएं तो कहां जाएं हर मोड पर रूसवाई: जाफरी

31 Jul 2020 | 8:03 PM

बलरामपुर,31 जुलाई (वार्ता) “आवारा है गलियो में मै और मेरी तन्हाई ” जाएं तो कहां जाएं हर मोड पर रूसवाई” जैसी बेमिशाल शायरी लिखने वाले मशहूर शायर और देश के सबसे बडे साहित्यिक पुरस्कार ज्ञानपीठ से सम्मानित अली सरदार जाफरी ने इन पंक्तियों को लिखते वक्त यह नही सोचा होगा कि उनके इन्तकाल के बाद वह खुद इसकी मिशाल बन जायेगे।

see more..
image