Wednesday, Jun 19 2019 | Time 09:25 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चीन में मादक पदार्थ बनाने पर पांच को मौत की सजा
  • फैक्ट्री विस्फोट से मरने वालों की संख्या बढ़कर 6 हुई
  • मोदी ने राहुल को जन्मदिन की शुभकामनायें दी
  • जापान में 6 7 तीव्रता के भूकंप से 21 लोग घायल
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 20 जून)
  • मार्क एस्पर होंगे पेंटागन के नए प्रमुख
  • पोम्पियो और मोघरीनी ने अमेरिका-यूरोपीय संघ की साझा चुनौतियों पर की चर्चा
  • माली में आतंकवादी हमले में 38 लोगों की मौत
  • ईरान के मुद्दे पर सहयोगियों के साथ मिलकर काम करेगा अमेरिका: पोम्पियो
  • मार्क एस्पर होंगे अमेरिका के नए कार्यकारी रक्षा मंत्री
  • झारखंड में होगी केवल एक जल योजना : रघुवर
  • केरल माकपा प्रमुख के बेटे पर दुष्कर्म का मामला दर्ज
  • किसानों को प्रति बूंद अधिक फसल योजना का लाभ देने में झारखंड अव्वल
मनोरंजन » जानीमानी हस्तियों का जन्म दिन


गजल गायकी को नया आयाम दिया पंकज उधास ने

गजल गायकी को नया आयाम दिया पंकज उधास ने

जन्मदिवस 17 मई के अवसर पर
मुंबई 16 मई (वार्ता) संगीत जगत में पंकज उधास एक ऐसे गजल गायक हैं जो अपनी गायकी से पिछले चार दशक से श्रोताओ को मंत्रमुग्ध किए हुए हैं।

पंकज उधास का जन्म 17 मई 1951 को गुजरात के राजकोट के निकट जेटपुर में जमींदार गुजराती परिवार में हुआ।
उनके बड़े भाई मनहर उधास जाने माने पाश्र्वगायक है।
घर में संगीत के माहौल से पंकाज उधास की भी रूचि संगीत की ओर हो गयी।
महज सात वर्ष की उम्र से ही पंकज उधास गाना गाने लगे।
उनके इस शौक को उनके बड़े भाई मनहर उधास ने पहचान लिया और उन्हें इस राह पर चलने के लिये प्रेरित किया।
मनहर उधास अक्सर संगीत से जुड़े कार्यक्रम में हिस्सा लिया करते थे।
उन्होंने पंकज उधास को भी अपने साथ शामिल कर लिया।

एक बार पकंज को एक संगीत कार्यक्रम में हिस्सा लेने का मौका मिला जहां उन्होंने .ए मेरे वतन के लोगों जरा आंख में भर लो पानी (गीत गाया।
इस गीत को सुनकर श्रोता भाव.विभोर हो उठे।
उनमें से एक ने पंकज उधास को खुश होकर 51 रूपये दिये।
इस बीच पंकज उधास राजकोट की संगीत नाट्य अकादमी से जुड़ गये और तबला बजाना सीखने लगे।

कुछ वर्ष के बाद पंकज उधास का परिवार बेहतर जिंदगी की तलाश में मुंबई आ गया ।
पंकज उधास ने अपनी स्नातक की पढ़ाई मुंबई के मशहूर सैंट जेवियर्स कॉलेज से हासिल की ।
इसके बाद उन्होंने स्नाकोत्तर पढ़ाई करने के लिये दाखिला ले लिया लेकिन बाद में उनकी रूचि संगीत की ओर हो गयी और उन्होंने उस्ताद नवरंग जी से संगीत की शिक्षा लेनी शुरू कर दी।
पंकज उधास के सिने कैरियर की शुरूआत 1972 में प्रदर्शित फिल्म (कामना) से हुयी लेकिन कमजोर पटकथा और निर्देशन के कारण फिल्म टिकट खिड़की पर बुरी तरह असफल साबित हुयी ।

इसके बाद गजल गायक बनने के उद्देश्य से पंकज उधास ने उर्दू की तालीम हासिल करनी शुरू कर दी ।
वर्ष 1976 में पंकज उधास को कनाडा जाने का अवसर मिला और वह अपने एक मित्र के यहां टोरंटो में रहने लगे ।
उन्हीं दिनों अपने दोस्त के जन्मदिन के समारोह में पंकज उधास को गाने का अवसर मिला ।
उसी समारोह में टोरंटो रेडियो में हिंदी के कार्यक्रम प्रस्तुत करने वाले एक सज्जन भी मौजूद थे उन्होंने पंकज उधास की प्रतिभा को पहचान लिया और उन्हें टोरंटो रेडियो और दूरदर्शन में गाने का मौका दे दिया ।
लगभग दस महीने तक टोरंटो रेडियो और दूरदर्शन में गाने के बाद पंकज उधास का मन इस काम से उब गया ।

इस बीच कैसेट कंपनी के मालिक मीरचंदानी से उनकी मुलाकात हुयी और उन्हें अपनी नई एलबम आहट में पार्श्वगायन का अवसर दिया।
यह अलबम श्रोताओं के बीच काफी लोकप्रिय हुआ ।
वर्ष 1986 में प्रदर्शित फिल्म नाम पंकज उधास के सिने कैरियर की महत्वपूर्ण फिल्मों में एक है ।
यूं तो इस फिल्म के लगभग सभी गीत सुपरहिट साबित हुये लेकिन पंकज उधास की मखमली आवाज में चिट्ठी आई है वतन से चिटी आई है गीत..आज भी श्रोताओ की आंखो को नम कर देता है ।
इस फिल्म की सफलता के बाद पंकज उधास को कई फिल्मों में पार्श्ववगायन का अवसर मिला ।

इन फिल्मों में गंगा जमुना सरस्वती,बहार आने तक, थानेदार, साजन, दिल आश्ना है, फिर तेरी कहानी याद आई, ये दिल्लगी, मोहरा, मै खिलाड़ी तू अनाड़ी, मंझधार, घात, और ये है जलवा, प्रमुख है।
पंकज उधास के गाये गीतों की संवदेनशीलता उनकी निजी जिन्दगी में भी दिखाई देती थी ।
वह एक सरल हृदय के संवदेशनशील इंसान भी है जो दूसरों के दुख.दर्द को अपना समझकर उसे दूर करने का प्रयास करते है ।
दूसरों के प्रति हमदर्दी और संवेदनशीलता की इस भावना को प्रदर्शित करने वाला एक वाकया है ।

एक बार मुंबई के नानावती अस्पताल से एक डाक्टर ने पंकज उधास को फोन किया कि एक व्यक्ति के गले के कैंसर का आपरेशन हुआ है और उसकी उनसे मिलने की तमन्ना है।
इस बात को सुनकर पंकज उधास तुरंत उस शख्स से मिलने अस्पताल गए और न सिर्फ उसे गाना गाकर सुनाया बल्कि अपने गाये गाने का कैसेट भी दिया ।
बाद में पंकज उधास को जब इस बात का पता चला कि उसके गले का ऑपेरशन कामयाब रहा है और उसकी बीमारी धीरे-धीरे ठीक हो रही है तो पंकज उधास काफी खुश हुये ।
पंकज उधास को अपने कैरियर में मान सम्मान भी खूब मिला।

इनमें सर्वश्रेष्ठ गजल गायक .के.एल.सहगल अवार्ड .रेडियो लोटस अवार्ड .इंदिरा गांधी प्रियदर्शनी अवार्ड.दादाभाई नौरोजी मिलेनियम अवार्ड और कलाकार अवार्ड जैसे कई पुरस्कार शामिल है ।
साथ ही गायकी के क्षेत्र में उनके उल्लेखनीय योगदान को देखते हुये उन्हें 2006 में पदमश्री पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया ।
पंकज उधास अब तक 40 एलबम के लिये पाश्र्वगायन कर चुके है।
इनमें नशा, हसरत, महक, घूंघट, नशा 2, अफसाना, आफरीन, नशीला, हमसफर, खूशबू और टुगेदर, प्रमुख है ।
पंकज उधास आज भी अपने पार्श्वगायन से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर रहे हैं।

 

ट्विंकल

ट्विंकल ने अक्षय की तारीफ की

मुंबई 18 जून (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री ट्विंकल खन्ना ने अपने पति और अभिनेता अक्षय कुमार की तारीफ की है।

फिल्म

फिल्म जगत की ब्यूटी क्वीन थीं नसीम बानो

..पुण्यतिथि 18 जून के अवसर पर ..
मुंबई 17 जून (वार्ता)भारतीय सिनेमा जगत में अपनी दिलकश अदाओं से दर्शको को दीवाना बनाने वाली ना जाने कितनी अभिनेत्री हुयी लेकिन चालीस के दशक में एक ऐसी अभिनेत्री भी हुयी जिन्हें ‘ब्यूटी क्वीन’ कहा जाता था और आज के सिने प्रेमी उन्हें नहीं जानते, वह थीं ..नसीम बानो ..
नसीम बानो का जन्म चार जुलाई 1916 को हुआ था।

साहो

साहो में पुलिस ऑफिसर के किरदार में नजर आयेंगी श्रद्धा कपूर

मुंबई 16 जून (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री श्रद्धा कपूर अपनी आने वाली फिल्म साहो में पुलिस ऑफिसर के किरदार में नजर आयेंगी।

कलंक

कलंक की असफलता से प्रभावित हुये हैं वरूण धवन

मुंबई 18 जून (वार्ता) बॉलीवुड के चॉकलेटी हीरो वरूण धवन का कहना है कि फिल्म कलंक की असफलता ने उन्हें बुरी तरह प्रभावित किया है।

हर

हर फिल्म में हेयर स्टाइल बदलते हैं शाहिद कपूर

मुंबई 16 जून (वार्ता) बॉलीवुड के चॉकलेटी हीरो शाहिद कपूर अपनी हर फिल्म में हेयर स्टाइल बदलते हैं।

चुलबुल

चुलबुल पांडे की तरह का किरदार निभाना चाहती है कैटरीना

मुंबई 18 जून (वार्ता) बॉलीवुड की बार्बी गर्ल कैटरीना कैफ फिल्म दबंग में सलमान खान के निभाये किरदार चुलबुल पांडे जैसा किरदार निभाना चाहती है।

जूही

जूही चावला के साथ फिर काम करेंगे ऋषि कपूर

मुंबई 17 जून (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता ऋषि कपूर एक बार फिर जूही चावला के साथ काम करने जा रहे हैं।

सैफ

सैफ की फिल्म में स्पेशल अपीयरेंस करेंगी करीना

मुंबई 18 जून (वार्ता) बॉलीवुड के छोटे नवाब सैफ अली खान और उनकी पत्नी करीना कपूर की जोड़ी सिल्वर स्क्रीन पर फिर साथ नजर आयेगी।

आइटम

आइटम नंबर टैग पसंद नहीं करती हैं कृति सैनन

मुंबई 17 जून (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री कृति सैनन को आइटम नंबर टैग पसंद नहीं है।

शिल्पा

शिल्पा ने लांच किया योगा एप

मुंबई 18 जून (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी ने ‘योगा’ के लिये एक एप लांच किया है।

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

..जन्मदिवस 29 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 28 अगस्त(वार्ता)किंग ऑफ पॉप माइकल जैक्सन को ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने पॉप संगीत की दुनिया को पूरी तरह बदलकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनायी है।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

फिल्म जगत की ब्यूटी क्वीन थीं नसीम बानो

फिल्म जगत की ब्यूटी क्वीन थीं नसीम बानो

..पुण्यतिथि 18 जून के अवसर पर ..
मुंबई 17 जून (वार्ता)भारतीय सिनेमा जगत में अपनी दिलकश अदाओं से दर्शको को दीवाना बनाने वाली ना जाने कितनी अभिनेत्री हुयी लेकिन चालीस के दशक में एक ऐसी अभिनेत्री भी हुयी जिन्हें ‘ब्यूटी क्वीन’ कहा जाता था और आज के सिने प्रेमी उन्हें नहीं जानते, वह थीं ..नसीम बानो ..
नसीम बानो का जन्म चार जुलाई 1916 को हुआ था।

image