Friday, Oct 7 2022 | Time 20:39 Hrs(IST)
image
राज्य » बिहार / झारखण्ड


नीतीश को विकास पुरुष के रूप में याद नहीं रखेगी बिहार की जनता: चिराग

नीतीश को विकास पुरुष के रूप में याद नहीं रखेगी बिहार की जनता: चिराग

पटना 08 अगस्त (वार्ता) लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं बिहार के जमुई से सांसद चिराग पासवान ने आज कहा कि प्रदेश की जनता मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को विकास पुरुष के रूप में याद नहीं रखेगी।

श्री पासवान ने सोमवार को यहां पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष राजू तिवारी की उपस्थिति में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री कैसे बने रहें सिर्फ इस बात की चिंता रहती है। उन्हें विकास से कोई मतलब नहीं है जबकि चिराग मॉडल तो विकास का मॉडल है ।

लोजपा रामविलास के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि बिहार की 32 लाख जनता ने उन्हें और उनकी पार्टी को वर्ष 2020 के विधानसभा के चुनाव में वोट देकर समर्थन किया था। चिराग का मॉडल बिहार फर्स्ट बिहारी फर्स्ट विकास का रहा है। उन्होंने कहा जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं सांसद राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह और उनकी पार्टी का मॉडल क्या है, यह उन्हें बताना चाहिए।

श्री पासवान ने कहा कि जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष सिंह ने जदयू के वर्ष 2020 के विधानसभा चुनाव में सीटें कम आने के पीछे उनकी साजिश करार दिया था। श्री सिंह ने कहा था कि जदयू का जनाधार नहीं घटा है बल्कि चिराग मॉडल से हमें कमजोर करने की साजिश रची गई थी। अब वैसी ही साजिश पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह के रूप में की जा रही थी जिसे चिराग मॉडल-2 नाम दिया गया था। उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सात निश्चय कार्यक्रम को पूरी तरह से विफल करार दिया और कहा कि यह कोई विकास का मॉडल नहीं है। यदि यह विकास का मॉडल होता तो प्रदेश में शिक्षा, स्वास्थ्य, विधि व्यवस्था और बेरोजगारी समेत कई अन्य ज्वलंत मुद्दे नहीं होते।

सांसद ने कहा कि श्री नीतीश कुमार अपनी आंख का इलाज कराने दिल्ली जाते हैं। लेकिन, उन्हें सारण में जहरीली शराब से 11 लोगों की मौत और एक दिन मैं 10 लोगों की हत्या हो जाने जैसे मामलों में अपनी सरकार कि विफलता दिखाई नहीं देती है। उन्होंने जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री सिंह के इस बयान पर कि जदयू डूबता नहीं बल्कि दौड़ता जहाज है पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि पानी में चलने वाला जहाज दौडेगा कैसे। उन्होंने सवालिया लहजे में कहा कि क्या श्री उपेंद्र कुशवाहा वर्ष 2020 के बिहार विधानसभा चुनाव में चिराग मॉडल के प्रतीक नहीं है। गौरतलब है कि उपेंद्र कुशवाहा उस समय अपनी राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसोपा) के साथ चुनावी मैदान में उतर कर मुख्यमंत्री पद के दावेदार थे। बाद में उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जदयू में रालोसपा का विलय कर लिया था।

लोजपा रामविलास के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री कुमार ने अपने ही कई नेताओं का राजनीतिक रूप से वध किया है। उन्होंने सवालिया लहजे में कहा कि जदयू नेता रहे शरद यादव, जार्ज फर्नांडिस और प्रशांत किशोर के साथ क्या हुआ, सब जानते हैं।

सांसद ने मुख्यमंत्री श्री कुमार से सवाल किया, "वर्ष 2015 में आप जिनके साथ गए थे तब जंगलराज याद नहीं था। इसी जंगलराज का डर दिखाकर सत्ता में बैठे थे। किसने तैयार किया चिराग मॉडल, जदयू को इस सवाल का जवाब देना चाहिए।" उन्होंने कहा कि जदयू इस सवाल का जवाब ढूंढने में किस के इंतजार में है।

श्री पासवान ने कहा कि चिराग यदि किसी का मॉडल है तो वह अपने पिता एवं लोजपा संस्थापक रामविलास पासवान का। मुख्यमंत्री श्री कुमार ने जीते जी श्री रामविलास पासवान को अपमानित करने का कोई मौका नहीं छोड़ा। उन्होंने कहा कि वह चाहते थे कि मुख्यमंत्री श्री कुमार अपने सात निश्चय में बिहार फर्स्ट बिहारी फर्स्ट को जोड़ें। हालांकि इस बात को लेकर हमारे बीच तल्खी भी बढ़ी।

सांसद ने कहा कि उनकी पार्टी और परिवार को मुख्यमंत्री श्री कुमार ने तोड़ दिया है। आज जब खुद ही जदयू पार्टी टूट रही है तो बहाना बना रहे हैं। उन्होंने सवालिया लहजे में कहा कि क्या मुख्यमंत्री श्री कुमार चाहते हैं उन्हें प्रदेश के लोग उन्हें पलटूराम की तरह याद करें। फिर से श्री कुमार पलटी मारने में लगे हुए। उन्होंने मौजूदा राजनीतिक परिदृश्य को लेकर दावा किया की बिहार में मध्यावधि चुनाव होना तय है।

उपाध्याय सूरज

वार्ता

More News
आरक्षण के लिए विशेष आयोग बनाने का निर्देश सुप्रीम कोर्ट का - सुशील

आरक्षण के लिए विशेष आयोग बनाने का निर्देश सुप्रीम कोर्ट का - सुशील

07 Oct 2022 | 7:40 PM

पटना 07 अक्टूबर(वार्ता) बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी ने आज कहा कि सर्वोच्च न्यायालय ने पिछड़ों को स्थानीय निकाय चुनाव में राजनीतिक आरक्षण के लिए विशेष आयोग बनाने का निर्देश दिया था, लेकिन श्री नीतीश कुमार की आरक्षण विरोधी नीयत के चलते न विशेष आयोग बना और न निकाय चुनाव में आरक्षण तय हुआ।

see more..
नेता और कार्यकर्ता हर परिस्थिति के लिए रहे तैयार: हेमंत सोरेन

नेता और कार्यकर्ता हर परिस्थिति के लिए रहे तैयार: हेमंत सोरेन

07 Oct 2022 | 7:34 PM

रांची, 07 अक्टूबर (वार्ता)झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो )केंद्रीय कार्य समिति की उच्चस्तरीय बैठक रांची के हरमू स्थित स्थानीय सोहराय भवन में शुक्रवार को हुई।

see more..
image