Friday, Jul 19 2019 | Time 20:14 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • उप्र मुठभेड़ में पांच इनामी बदमाश गिरफ्तार
  • कामत गोवा विस में विपक्ष के नेता
  • हम सदन में बहुमत साबित कर देंगे: कुमारस्वामी
  • राष्ट्रीय राजमार्गों पर दिसंबर से सिर्फ फास्टैग से भुगतान
  • राष्ट्रीय राजमार्गों पर दिसंबर से सिर्फ फास्टैग से भुगतान
  • सबसे हल्की बुलेट प्रूफ जैकेट ‘भाभा कवच’ लांच
  • राजा रणधीर सिंह डॉक्टरेट की उपाधि से सम्मानित
  • बोरीवली एवं भायंदर स्टेशनों के बीच जम्बो ब्लॉक
  • जीईएम पर एक लाख करोड़ रुपए के लक्ष्य की कार्य योजना की समीक्षा
  • देश में एक दशक में 85 लाख किसान घटे
  • पानी भरे गड्ढे में डूबने से किशोर की मौत
  • पुलिस कर्मचारी ने थाने के सामने जहर पीकर आत्महत्या का किया प्रयास
  • जनजाति आयोग का दल 22 जुलाई को जाएगा सोनभद्र
  • बस और ट्रक की टक्कर में महिला की मौत, 10 घायल
  • रक्षा मंत्री द्रास में करगिल युद्ध स्मारक पर शहीदों को देंगे श्रद्धांजलि
भारत


सम्पत्ति का ब्योरा छिपाने को लेकर मोदी के खिलाफ पीआईएल

सम्पत्ति का ब्योरा छिपाने को लेकर मोदी के खिलाफ पीआईएल

नयी दिल्ली, 15 अप्रैल (वार्ता) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा चुनावी हलफनामे में सम्पत्ति का ब्योरा छिपाये जाने को लेकर उच्चतम न्यायालय में सोमवार को एक जनहित याचिका दायर की गयी।

एक पूर्व पत्रकार साकेत गोखले ने एक जनहित याचिका दायर की है जिसमें उन्होंने गुजरात सरकार की भूमि आवंटन नीति के तहत उठाये गये लाभ का हवाला देते हुए कहा है कि श्री मोदी ने अपने हलफनामों में उस सम्पत्ति का जिक्र नहीं किया है।

याचिका में कहा गया है कि श्री मोदी ने 2002 में इस नीति से लाभ उठाया। उन्हें 25 अक्टूबर 2002 को गांधीनगर सिटी में 13 लाख रुपये की मामूली रकम पर जमीन मिली थी। बाद में उस भूमि आवंटन को लेकर विवाद हुआ था।

सुरेश टंडन

वार्ता

image