Wednesday, Jan 23 2019 | Time 08:54 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मोदी ने सुभाष चंद्र बोस को दी श्रद्धांजलि
  • इजरायल के लड़ाकू विमानों ने हमास के शिविर पर किए हमले
  • तुर्की में 4 6 तीव्रता का भूकंप
  • अफगानिस्तान में गोलीबारी में अमेरिकी सैनिक की मौत
  • अफगानिस्तान में गोलीबारी में अमेरिकी सैनिक की मौत
  • नागालैंड सरकार ने किया मुख्य सचिव का तबादला
  • रूसी विमान के अपहरण की कोशिश, एक यात्री गिरफ्तार
विशेष » कुम्भ Share

कुम्भ में श्रद्धालुओं को स्नान के लिए झूंसी में नये घाट का पूजन

कुम्भ में श्रद्धालुओं को स्नान के लिए झूंसी में नये घाट का पूजन

प्रयागराज, 09 जनवरी (वार्ता) दुनिया के सबसे बड़े धार्मिक पर्व कुम्भ में आने वाले श्रद्धालुओं की भीड़ के मद्देनजर साधु-महात्माओं ने गंगा पार झूंसी में बुधवार को एक नए घाट का उद्घाटन करते हुए पूजन आरती की।

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी ने इस अवसर पर कहा कि इसे संगम का दूसरा हिस्सा कह सकते हैं। कुम्भ में स्नान के दौरान सभी श्रद्धालु संगम में स्नान की इच्छा से आते हैं। जो श्रद्धालु झूंसी क्षेत्र का है वह यहां स्नान कर सकता है। गंगा और यमुना के मिलन को संगम कहा गया है और वही जल यहां से गुजरता है इसलिए इसे संगम का दूसरा हिस्सा कह सकते हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहले ही दिव्य और भव्य कुम्भ के दौरान देश-विदेश से करीब 12 से 14 करोड़ श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद व्यक्त कर चुके हैं। ऐसे में हर व्यक्ति संगम नोज पर ही स्नान करना चाहेगा तो जिला प्रशासन के लिए समस्या खड़ी हो सकती है। इसलिए इस श्रद्धालुओं की भीड़ को कम करने के लिए नए घाट पर भी गंगा में आस्था की डुबकी लगायेंगे। झूंसी से संगम नोज जाने के लिए लम्बा रास्ता तय करना पडेगा जो सभी श्रद्धालुओं के लिए के लिए संभव नहीं होगा।

इस अवसर पर स्वामी वासुदेवानंद ने सभी आखाड़ो के साथ संगम पर मेला सकुशल संपन्न हो इसलिए गंगा जी की पूजन-आरती की। पूजा में अखाड़ा परिषद के महंत नरेन्द्र गिरी, महामंत्री और जूना अखाडे के मुख्य संरक्षक हरि गिरी महराज,अंतरराष्ट्रीय उपाध्यक्ष महंत प्रेम गिरी, मंत्री नारायण गिरी और तीनो अनी अखाड़ो श्री पंच निर्मोही अनी अखाड़ा, श्री पंच निर्वाणी अनी और श्री पंच दिगम्बर अनी अखाड़े के प्रमुख क्रमश: श्री महंत राजेन्द्र दास, महंत धर्मदास और महंत राम किशोर दास जी महराज समेत सभी आखाड़ो एवं प्रशासन के पदाधिकारी और संत-महात्मा उपस्थित रहे। पूजन के बाद साधु महात्मा समेत मेला प्रशासन के अधिकारियों ने संगम का आचमन लिया।

More News
कुम्भ क्षेत्र में प्रवासी भारतीयों के आगमन पर होगा संगम सील

कुम्भ क्षेत्र में प्रवासी भारतीयों के आगमन पर होगा संगम सील

22 Jan 2019 | 12:30 PM

कुम्भ नगर, 22 जनवरी (वार्ता) कुम्भ नगरी प्रयाग में प्रवासी भारतीयों के आगमन पर संगम क्षेत्र को आम श्रद्धालुओं के स्नान के लिए लिए बन्द रखा जायेगा।

 Sharesee more..
उत्तराखण्ड और हरियाणा के मुख्यमंत्री ने कुम्भ में आकर साधु-संतो से की मुलाकात

उत्तराखण्ड और हरियाणा के मुख्यमंत्री ने कुम्भ में आकर साधु-संतो से की मुलाकात

21 Jan 2019 | 9:21 PM

कुम्भ नगर, 21 जनवरी (वार्ता) उत्तराखंड और हरियाणा के मुख्यमंत्रियों ने सोमवार को यहां कुम्भ मेले में साधु-संतों से मुलाकात की।

 Sharesee more..
पौष पूर्णिमा स्नान पर एक करोड़ सात लाख श्रद्धालुओं ने संगम में डुबकी लगाई

पौष पूर्णिमा स्नान पर एक करोड़ सात लाख श्रद्धालुओं ने संगम में डुबकी लगाई

21 Jan 2019 | 6:58 PM

कुम्भ नगर,21 जनवरी (वार्ता) दुनिया के सबसे बड़े आध्यात्मिक और सांस्कृतिक समागम कुम्भ में पौष पूर्णिमा के पवान पर्व पर सोमवार को गंगा, यमुना अौर त्रिवेणी के संगम में अस्था की डुबकी लगाई।

 Sharesee more..
संगम की रेती पर संयम,श्रद्धा एवं कायाशोधन का 'कल्पवास' शुरू

संगम की रेती पर संयम,श्रद्धा एवं कायाशोधन का 'कल्पवास' शुरू

21 Jan 2019 | 11:30 AM

इलाहाबाद, 21 जनवरी (वार्ता) कुम्भ में पौष पूर्णिमा के पावन पर्व पर श्रद्धा की डुबकी के साथ ही संयम, अहिंसा, श्रद्धा एवं कायाशोधन के लिए तीर्थराज प्रयाग में गंगा, यमुना और अदृश्य सरस्वती की रेती पर कल्पवासियों ने डेरा जमा लिया।

 Sharesee more..
कुम्भ के दौरान 22 पण्टून पुल से श्रद्धालुओं का हो रहा आवागमन

कुम्भ के दौरान 22 पण्टून पुल से श्रद्धालुओं का हो रहा आवागमन

20 Jan 2019 | 6:50 PM

प्रयागराज , 20 जनवरी (वार्ता) दुनिया के सबसे बड़े धर्मिक पर्व कुम्भ मेले में दूर दराज से आने वाले श्रद्धालुओं के आवागमन के लिए 22 पैण्टून पुल तैयार कराया गया है।

 Sharesee more..
image