Sunday, Nov 29 2020 | Time 10:58 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • वैशाली में 95 कार्टन विदेशी शराब बरामद
  • ट्रंप की टीम पेन्सिलवेनिया चुनाव धोखाधड़ी मामले में करेगी अपील
  • कृषि कानूनों पर फिर से विचार करे केंद्र सरकार
  • संस्मरण लिखने की तैयारी में है मेलानिया ट्रम्प
  • क्रोएशिया के प्रधानमंत्री ‘सेल्फ आइसोलेशन’ में
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 30 नवंबर)
  • रूस के मास्कों में कोरोना से नौ हजार के करीब लोगों मौतें
  • फ्रांस में नए सुरक्षा कानून के खिलाफ प्रदर्शन, कई पुलिसकर्मी घायल
  • अमेरिका में पिछले 24 घंटों में कोरोना से 1404 लोगों की मौत
  • लंदन में लॉकडाउन के खिलाफ प्रदर्शन में 60 लोग गिरफ्तार
  • ईरान में कोरोना के 13,402 नए मामले
  • फ्रांस में नए सुरक्षा कानून के खिलाफ प्रदर्शन में 37 पुलिसकर्मी घायल
  • अमेरिका में कोरोना के एक दिन में दो लाख से अधिक नए मामले
राज्य » बिहार / झारखण्ड


माल बनाने के लिए सत्ता चाहिए विकास के लिए नहीं, ऐसे लोग अंदर हैं, बाकी और भी जाएंगे: नीतीश

माल बनाने के लिए सत्ता चाहिए विकास के लिए नहीं, ऐसे लोग अंदर हैं, बाकी और भी जाएंगे: नीतीश

औरंगाबाद/सासाराम 17 अक्टूबर(वार्ता) बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज राष्ट्रीय जनता दल (राजद) प्रमुख लालू प्रसाद यादव और उनके परिवार पर तीखा हमला करते हुए कहा कि कुछ लोगों को राज्य के विकास लिए नहीं बल्कि माल बनाने के लिए सत्ता चाहिए, ऐसे लोग अंदर (जेल में) हैं और बाकी भी जायेंगे।

श्री कुमार ने शनिवार को औरंगाबाद जिले के नवीनगर, रोहतास जिले के नोखा, करगहर और दिनारा विधानसभा क्षेत्र के प्रत्याशियों के पक्ष में चुनावी सभाओं को संबोधित करते हुए लालू-राबड़ी शासनकाल का नाम लिये बगैर कहा, “पहले जो लोग सरकार में थे उन्हें विकास के काम से कोई मतलब नहीं था। उनकी तो सिर्फ अपने विकास में रूचि थी।

इसलिए, वे अंदर है और कौन-कौन अंदर जायेगा अभी किसी को पता है लेकिन कुछ दिन के बाद सबको पता चल जायेगा।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार में 15 साल पति पत्नी (लालू-राबड़ी) को काम करने का मौका मिला। बिहार की उस समय क्या हालत थी, आने-जाने के लिए न ढंग का रास्ता था और न शिक्षा की कोई अच्छी व्यवस्था थी। शाम होने के बाद लोग घरों से बाहर नहीं निकल पाते थे। अपराध चरम पर था। सामूहिक नरसंहार और अपहरण की घटनाएं कितनी होती थी। बिहार में व्यापार करने वाले कितने लोग भाग कर दूसरे राज्यों में चले गये। उन्होंने कहा कि नवंबर 2005 में जब हमलोगों को काम करने का मौका मिला तब राज्य में कानून का राज कायम किया गया और समाज में भाईचारे एवं साम्प्रदायिक सद्भाव का माहौल कायम हुआ। इससे हर तरह के अपराध में कमी आई।

शिवा सूरज

जारी वार्ता

image