Sunday, Mar 24 2019 | Time 18:25 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • वार्नर की विस्फोटक वापसी, हैदराबाद के 181
  • झांसी: पारिवारिक विवाद में पति ने किया पत्नी पर धारदार हथियार से हमला
  • चीन में रासायनिक संयंत्र में विस्फोट, 117 लोग अभी भी अस्पताल में
  • भारत ने आखिरी क्षणों में खाया गोल, कोरिया से मैच ड्रॉ
  • भारत ने आखिरी क्षणों में खाया गोल, कोरिया से मैच ड्रॉ
  • पाकिस्तानी गोलाबारी में जवान शहीद
  • कांग्रेस में हताशा बढ़ रही है: जेटली
  • प्रेमी युगल ने नदी में कूद कर की खुदकुशी
  • अहमदाबाद में झोपड़पट्टी में लगी भीषण आग
  • भारत साम्राज्यवादियों के हमले से मातृभाषाओं को बचाने में कामयाब रहा : उपराष्ट्रपति
  • जांबिया अफ्रीका कप क्वालिफायर में 4-1 से जीता
  • जांबिया अफ्रीका कप क्वालिफायर में 4-1 से जीता
  • मिट्टी के तोंदे के नीचे दबने से दो महिलाओं की मौत, आठ घायल
  • बीजद की केंद्र में सरकार गठन में अहम भूमिका:नवीन
फीचर्स


2018 में राहुल का राजनीतिक ‘कद’ बढ़ा

2018 में राहुल का राजनीतिक ‘कद’ बढ़ा

नयी दिल्ली, 04 जनवरी (वार्ता) श्री राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष पद संभालने के बाद पार्टी को मिली सफलता से न केवल वह पार्टी में एकछत्र नेता बनकर उभरे बल्कि उनका राजनीतिक कद बढ़ा है तथा यह माना जाने लगा है कि वह अगले कुछ महीनों में होने वाले लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिये बड़ी चुनौती बन सकते हैं।


एक वर्ष पहले श्री गांधी के अध्यक्ष संभालने के बाद पार्टी ने 2018 में चुनावी रण में अच्छा प्रदर्शन किया जिसके चलते वह भारतीय जनता पार्टी को चार राज्यों में सत्ता से बाहर करने में सफल हुयी जबकि इससे पहले उसे लगातार उसे एक के एक बाद शिकस्त का सामना करना पड़ रहा था। कर्नाटक में जिस तरह पार्टी के रणनीतिकारों ने तेजी और चतुराई से काम किया उसके आगे भाजपा की एक नहीं चल पायी और विधानसभा में बड़ी पार्टी के रूप में उभरने के बावजूद सत्ता से बाहर होना पड़ा।

पिछले नवंबर-दिसंबर में हुये विधानसभा चुनाव में भाजपा के साथ सीधी लड़ाई वाले तीन राज्यों राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में सरकार बनायी उससे न केवल पार्टी कार्यकर्ताओं का उत्साह बढ़ा बल्कि श्री गांधी का राजनीतिक कद  भी बढ़ा। द्रविड मुन्नेत्र कषगम (द्रमुक) जैसे सहयोगी दल ने उन्हें विपक्षी दलों की ओर से प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाये जाने का सुझाव दिया वहीं कांग्रेस की कट्टर विरोधी रही शिवसेना ने भी श्री गांधी के नेतृत्व की सराहना की।

बीते वर्ष श्री गांधी ने विभिन्न राजनीतिक मंचों में जिस आत्मविश्वास से प्रभावी उपस्थिति दर्ज की उससे उनकी छवि में जबरदस्त सुधार हुआ और जनमानस को उनके व्यक्तित्व में क्रांतिकारी बदलाव देखने को मिला। कांग्रेस के दिल्ली में हुए 84वें महाअधिवेशन में पार्टी अध्यक्ष के रूप में श्री गांधी के नाम पर मोहर लगी थी और इसमें उन्होंने जिस विजन के साथ अपनी बात रखी उससे कांग्रेस कार्यकर्ताओं का उन पर भरोसा बढा और उन्हें लगा कि पार्टी की कमान सही हाथों में है।     

कांग्रेस अध्यक्ष पद छोड़ने के बाद श्रीमती सोनिया गांधी ने भी कांग्रेस कार्यकर्ताओं को संदेश दिया था कि राहुल गांधी कांग्रेस के एकमात्र नेता हैं। श्रीमती गांधी ने फरवरी मेें कांग्रेस संसदीय दल की बैठक में पार्टी के नेताओं स्पष्ट शब्दों में  संदेश देते हुए कहा “राहुल अब सबके बॉस हैं। वह मेरे भी बॉस हैं।” 

श्री गांधी के नेतृत्व में पार्टी ने पहले गुजरात विधानसभा चुनाव में प्रभावशाली प्रदर्शन किया और फिर कर्नाटक में गठबंधन सरकार बनाकर समर्थकों का जो विश्वास अर्जित किया साल के अंत तक तीन राज्यों में कांग्रेस की सरकार बनाकर इस विश्वास को और मजबूती प्रदान की।  इससे कांग्रेस कार्यकर्ता श्री गांधी के मुरीद हो गये और विपक्षी दलों की गठबंधन की राजनीति में भी उनका वजन बढा है। बाद में द्रमुक के प्रमुख स्टालिन ने खुले मंच से कहा कि श्री गांधी विपक्षी दलों की तरफ से प्रधानमंत्री पद का चेहरा है।    

श्री गांधी के व्यक्तित्व में हाल के वर्षों बड़ा बदलाव आया है और उन्होंने अपनी आलोचनाओं और विरोधियों की टिप्पणियों पर ध्यान दिये बिना अपनी बात पूरे जाेर शोर से सामने रखनी शुरू कर दी। उन्होंने स्वयं पत्रकारों से कहा कि उनके विरोधी उन्हें क्या नाम देते हैं और क्या कहते हैं इससे उन्हें अब कोई फर्क नहीं पड़ता। उन्होंने कहा कि आलोचना सुनते-सुनते उनकी चमड़ी बहुत मोटी हो चुकी है इसलिए अब इनका उन पर कोई असर नहीं होता। उन्होंने स्वीकार किया कि बदले माहौल में किस तरह की राजनीति करनी है यह सब भी उन्होंने आलोचना करने वालों से सीखा है।

कांग्रेस अध्यक्ष ने विदेशों में भारतीय समुदाय के लोगों से उसी तर्ज पर मिलना शुरू किया जिस तरह से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मिलते रहे हैं। अमेरिका और खाड़ी देशों की यात्रा के दौरान उन्होंने भारतीय समुदाय के लोगों से मिलकर उनसे जो बात की उससे वह खासे चर्चा में रहे और उनका व्यक्तित्व नये रूप में सामने आया।     

इसके अलावा उन्होंने मंदिरों में जाना शुरू किया है और त्रिपुंड लगाकर जनता के बीच जाकर यह संदेश देने का पूरा प्रयास किया कि वह भी हिंदू हैं और उन्हें भी अपने देवी-देवताओं पर भरोसा है। बीते साल इस संदर्भ में उन्होंने कैलास मानसरोवर की दुर्गम यात्रा कर यह सिद्ध किया कि वह भी किसी ‘शिवभक्त’ से कम नहीं हैं। इस क्रम में ‘जनेऊधारी’ के रूप में और अपने गोत्र का नाम बताने को लेकर भी वह खूब सुर्खियों में रहे। चुनाव प्रचार के दौरान जिस क्षेत्र में भी गये वहां के प्रसिद्ध मंदिर में जाकर पूजा अर्चना की और लोगों का विश्वास जीता।     

कांग्रेस ने साल की शुरुआत से ही सरकार के विरुद्ध आक्रामक रुख अपनाए रखा। साल के पहले दिन उसने असम में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर का मुद्दा उठाया और मोदी सरकार को घेरते हुए कहा कि उसे असम के शांति समझौते 1985 का अनुपालन करना चाहिए। यह समझौता तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने किया था।

श्री गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस ने बीते वर्ष में जिस तेवर के साथ श्री मोदी और उनकी सरकार पर हमले शुरू किये उसने सरकार की बेचैनी जरूर बढायी है। श्री गांधी का हर हमला सीधे श्री मोदी पर होता है। राफेल लड़ाकू विमान सौदे को लेकर उन्होंने श्री मोदी को पूरे साल घेरे रखा और सरकार इस पर सफाई देते दिखी। भ्रष्टाचार के पुराने मामलों को लेकर भाजपा की ओर से गांधी परिवार पर लगातार हमलों का भी उन पर असर पड़ता नहीं दिखा। पीछे हटने की बजाय श्री गांधी ने प्रधानमंत्री के विरूद्ध अपने आरोपों को और धार दी।

राफेल मसले पर तो श्री गांधी ने खुद कई प्रेस कांफ्रेंस की और प्रधानमंत्री से लगातार इस मुद्दे पर सवाल पूछते रहे हैं। उनका यह भी आरोप था कि श्री मोदी कांग्रेस द्वारा पूछे गये सवालों का जवाब नहीं देते हैं। पार्टी ने मोदी सरकार पर लोकतांत्रिक संस्थाओं को बर्बाद करने का भी आरोप लगाया। उनका यह भी आरोप रहा है कि सरकार नेहरू गांधी की विरासत को बदलना चाहती है।

कांग्रेस अध्यक्ष ने श्री मोदी को ‘तानाशाह’ बताकर लगातार कटघरे में खड़ा करने का प्रयास किया है। इस क्रम में उनका सबसे तगड़ा हमला यह था कि श्री मोदी ने प्रधानमंत्री बनने के बाद कभी प्रेस से संवाद नहीं किया है। देश को जनता से जुड़े सवालों का जवाब नहीं दिया है। उनका आरोप है कि प्रधानमंत्री के पास सवालों का जवाब नहीं है इसलिए वह लगातार प्रेस कांफ्रेंस से बच रहे हैं।       

सरकार पर भय, डर और आतंक का माहौल बनाने का आरोप लगाते हुए कांग्रेस ने कहा कि मोदी सरकार ने उस व्यक्ति, संस्था और राजनीतिक पार्टी का दमन किया है जिसकी बात उसको पंसद नहीं आती या जो उसकी नीतियों के खिलाफ बोलता है। पार्टी का आरोप है कि इस सरकार ने अपने कार्यकाल में उन पत्रकारों और संस्थानों को निशाना बनाया है जिन्होंने सरकार की गुणवत्ता को सराहा नहीं है।       

पार्टी ने डोकलाम में चीन के कब्जे तथा पाकिस्तानी आतंकवादियों के सैन्य ठिकानों को निशाना बनाए जाने पर भी सरकार को खूब घेरे रखा और आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री और विदेश मंत्री ने अपने भिन्न-भिन्न बयानों से इस बारे में देश को गुमराह किया है।       

उच्चतम न्यायालय के चार न्यायाधीशों के प्रेस कांफ्रेंस करने को भी कांग्रेस ने बडा मुद्दा बनाया और इसके बहाने विपक्षी एकता को साधने का भी प्रयास किया। विपक्ष के 15 राजनैतिक दलों के 114 सांसदों के हस्ताक्षरित ज्ञापन को कांग्रेस के नेतृत्व में राष्ट्रपति को सौंपा गया।       

कांग्रेस ने लगातार श्री मोदी पर गुस्सा फैलाने का भी आरोप लगाया और कहा कि वह असहिष्णु होकर काम कर रहे हैं। उन्होंने श्री मोदी द्वारा पिछले आम चुनाव में किए गये वादे पूरा नहीं करने का भी आरोप लगाया और कहा कि न काला धन आया और ना ही बेरोजगारों को नौकरी मिली है।

अभिनव.जय.संजय

वार्ता

More News
साधना के प्राचीन केंद्रों में शुमार है धूमेश्वर महादेव मंदिर

साधना के प्राचीन केंद्रों में शुमार है धूमेश्वर महादेव मंदिर

03 Mar 2019 | 7:07 PM

इटावा, 03 मार्च (वार्ता) यमुना नदी के तट पर बसे उत्तर प्रदेश के इटावा जिले में स्थित पांडवकालीन धूमेश्वर महादेव मंदिर सदियों से शिव साधना के प्राचीन केंद्र के रूप में विख्यात रहा है।

see more..
स्मार्टफोन के ऐप के जरिए संचालित होने लगा हियरिंग एड

स्मार्टफोन के ऐप के जरिए संचालित होने लगा हियरिंग एड

02 Mar 2019 | 2:20 PM

वर्ल्ड हियरिंग डे पर विशेष (अशोक टंडन से ) नयी दिल्ली 02 मार्च (वार्ता) आंशिक अथवा पूर्ण रूप से सुन पाने में असमर्थ लोगों के लिए वरदान साबित हुए श्रवण यंत्र (हियरिंग एड) अब स्मार्ट फोन के ऐप के जरिए संचालित किये जा सकते हैं अौर उपभोक्ता स्वयं अपनी जरुरत के अनुरुप इसकी फ्रीक्वेंसी में बदलाव कर सकता है।

see more..
कीड़ा जड़ी का विकल्प प्रयोगशाला में बना

कीड़ा जड़ी का विकल्प प्रयोगशाला में बना

25 Feb 2019 | 7:43 PM

नयी दिल्ली, 25 फरवरी (वार्ता) प्राकृतिक रुप से ताक़त बढ़ाने के लिए मशहूर कीड़ा जड़ी का विकल्प अब प्रयोगशालाओं में कार्डिसेप्स मिलिट्रीज मशरुम के रुप में तैयार हो गया है जिसकी दवा उद्योग में अच्छी मांग है।

see more..
प्रवासी पक्षियाें के कलरव से गुंजायमान है मथुरा रिफाइनरी

प्रवासी पक्षियाें के कलरव से गुंजायमान है मथुरा रिफाइनरी

14 Feb 2019 | 3:47 PM

मथुरा ,14 फरवरी (वार्ता) आमतौर पंक्षी अभयारण्य के लिये ऐसी जगह का चुनाव करते है जहां पर शोर शराबा न हो लेकिन मशीनो की तेज आवाज के बावजूद मथुरा रिफाइनरी का ईकोलाॅजिकल पार्क इन दिनों प्रवासी पक्षियों के कलरव से गुंजायमान है।

see more..
अंग्रेजी और तकनीक से बदल रही सरकारी स्कूलों की तस्वीर

अंग्रेजी और तकनीक से बदल रही सरकारी स्कूलों की तस्वीर

08 Feb 2019 | 5:21 PM

(डाॅ संजीव राय) नयी दिल्ली, 08 फरवरी (वार्ता) इसे समय की मांग कहें या छात्रों के निजी स्कूलों की ओर हो रहे पलायन को रोकने का दबाव, सरकारी स्कूलों ने अंग्रेजी और नयी तकनीक का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है जिससे उनकी तस्वीर बदलने लगी है।

see more..
image