Thursday, Jan 24 2019 | Time 16:43 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • क्षेत्र में घना कोहरा ,पाला तथा शीतलहर की संभावना
  • गणतंत्र दिवस के मौके पर एनटीपीसी की सुरक्षा बढ़ायी गयी
  • आसिया मामले में समीक्षा याचिका पर 29 जनवरी को सुनवाई
  • नडाल पांचवीं बार ऑस्ट्रेलियन ओपन के फाइनल में
  • जाधव ने भाजपा में शामिल होने से इन्कार किया
  • चिकित्सक के लापता भतीजे का शव बरामद
  • जयंती के मौके पर याद किये गये कर्पूरी ठाकुर
  • रॉकिंगडील्स की स्पाइस हॉटस्पॉट रिटेल के साथ साझेदारी
  • केदारनाथ कस्तूरी मृग अभ्यारण्य में मंदिरों को शामिल करने के मामले में केन्द्र से मांगा जवाब
  • मैसी सर्वकालिक सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी: गार्सिया
  • चंदा के खिलाफ सीबीआई ने किया मुकदमा दर्ज, चार जगह छापे
  • असम के तीन व्याख्याता सड़क हादसे के शिकार
  • शोपियां में दूसरे दिन भी रहा जनजीवन प्रभावित
  • सिंधू और श्रीकांत क्वार्टरफाइनल में
खेल Share

रामकुमार बने उपविजेता, अपनी सर्वश्रेष्ठ रैंकिंग की बराबरी की

रामकुमार बने उपविजेता, अपनी सर्वश्रेष्ठ रैंकिंग की बराबरी की

नयी दिल्ली, 23 जुलाई (वार्ता) भारतीय डेविस कप खिलाड़ी रामकुमार रामनाथन ने अमेरिका के टिम स्माइजेक के खिलाफ तीन सेटों तक कड़ा संघर्ष किया लेकिन उन्हें अमेरिका के न्यूपोर्ट में 623,710 डॉलर के हॉल ऑफ फेम एटीपी टेनिस टूर्नामेंट के फाइनल में हार का सामना करना पड़ा।

अपना पहला एटीपी फाइनल खेल रहे रामकुमार को अमेरिकी खिलाड़ी ने 7-5, 3-6, 6-2 से हराया। 23 वर्षीय रामकुमार पर तीन टूर खिताब जीतने वाले 28 वर्षीय जॉनसन का अनुभव थोड़ा भारी पड़ गया और उन्होंने लगभग दो घंटे में यह मुकाबला जीत लिया।

जानसन ने मैच में पांच में से तीन ब्रेक अंक भुनाये जिसमें निर्णायक सेट के शुरूआत में मिला ब्रेक शामिल था। रामकुमार दूसरे सेट में दो ब्रेक अंकों में से एक ही भुना पाये। वह पहले और तीसरे सेट में एक भी ब्रेक अंक हासिल नहीं कर सके। जानसन का यह चौथा टूर खिताब और सत्र का दूसरा खिताब है। अमेरिकी खिलाड़ी को इस जीत से 99375 डॉलर और 250 एटीपी अंक मिले।

23 वर्षीय रामकुमार को 52340 डॉलर और 150 अंक मिले। रामकुमार ने इसके साथ ही 46 स्थान की लंबी छलांग लगाकर अपनी सर्वश्रेष्ठ 115वीं रैंकिंग की बराबरी हासिल कर ली जो उन्होंने अप्रैल में हासिल की थी। रामकुमार यदि खिताब जीतने में कामयाब रहते तो वह विश्व रैंकिंग में पहली बार टॉप 100 में पहुंच जाते।

 

image