Monday, Aug 26 2019 | Time 10:28 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • विराट ने धोनी की बराबरी की, तोड़ा गांगुली का रिकॉर्ड
  • चीन में सड़क हादसे में सात की मौत, 11 घायल
  • सिंधु ने हर हिंदुस्तानी का सिर गर्व से ऊंचा कर दिया : रघुवर
  • हांगकांग में भड़की हिंसा, 15 पुलिस अधिकारी घायल
  • नीतीश ने पी वी सिंधु को दी बधाई
  • बुमराह का कहर, भारत की विंडीज पर सबसे बड़ी जीत
  • बुमराह का कहर, भारत की विंडीज पर सबसे बड़ी जीत
  • बुमराह का कहर, भारत की विंडीज पर सबसे बड़ी जीत
  • नीतीश ने पी वी सिंधु को दी बधाई
  • केरल में लॉरी के पलटने से तीन लोगों की मौत
  • जी-7 में रूस की वापसी पर ट्रंप का मतभेद
  • केन्द्रीय टीम ने बाढ़ प्रभावित इलाकों का लिया जायजा
  • सोलोमन द्वीप पर भूकंप के झटके
  • मुजफ्फरनगर के शाहपुर इलाके में बस पलटी,32 श्रद्धालु घायल
फीचर्स


रक्षा बंधन पर ‘पत्थर युद्ध’ के लिए रणबांकुरे हैं तैयार

रक्षा बंधन पर ‘पत्थर युद्ध’ के लिए रणबांकुरे हैं तैयार

नैनीताल, 11 अगस्त (वार्ता) रक्षाबंधन पर जहां पूरा देश भाई बहन के पवित्र प्यार की डोर से बंधकर खुशी में सराबोर रहता है वहीं इस दिन उत्तराखंड में कुमायूं के देवीधूरा में ‘पत्थर युद्ध’ खेला जाता है और इसकी तैयारी में जुटे प्रशासन ने जरूरी चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने की पुख्ता व्यवस्था कर ली है।

स्थानीय भाषा में इसे बग्वाल कहा जाता है जो हर साल रक्षाबंधन के दिन आयोजित होती है। इस बग्वाल में पत्थर युद्ध खेला जाता है। परंपरा के अनुसार बग्वाल में युवा और बुजुर्ग सभी रणबांकुरे शामिल होते हैं। इन रणबांकुरों के पास पत्थर होते हैं और एक दूसरे पक्ष पर पत्थर फेंकते हैं जिसमें कई लोग घायल हो जाते हैं।

बग्वाल मेला कमेटी के संरक्षक खीम सिंह लमगड़िया, भुवन चंद्र जोशी और कीर्ति वल्लभ जोशी ने यूनीवार्ता को बताया कि यह अजीबो-गरीब पंरपरा है जिसमें एक पक्ष दूसरे पक्ष पर पत्थर फेंकर बग्वाल मनाता है और अपनी आराध्य देवी को खुश करने लिए खूनी खेल में हिस्सा लेता है। बग्वाल में रणबांकुरे परस्पर पत्थरों की बरसात करते हैं और इसमें कई लोग जख्मी हो जाते हैं। यह आयोजन हर साल होता है इसलिए घायलों को प्राथमिक उपचार मुहैया करने के लिये सरकारी अमला मुस्तैद रहता है।

उन्होंने बताया कि बग्वाल पर्व हर साल राखी के त्यौहार के अवसर पर आयोजित किया जाता है और इसे देखने के लिए आसपास के साथ ही बाहर से भी बड़ी संख्या में लोग आते हैं। यह खेल उत्तराखंड में कुमाऊं मंडल के चंपावत जिले के देवीधूरा में आयोजित होता है। इस बग्वाल को असाड़ी कौथिक के नाम से भी जाना जाता है। इसका आयोजन देवीधूरा के खोलीखांड मैदान में होता है और इस पत्थर युद्ध में चंपावत के चार खाम तथा सात थोक के लोग हिस्सा लेते हैं।

कमेटी के सदस्यों ने बताया कि प्रचलित मान्यताओं के अनुसार पौराणिक काल में चार खामों के लोग अपनी आराध्या बाराही देवी को मनाने के लिए हर साल नर बलि देते थे। एक साल एक खाम का नंबर आता था। एक बार नर बलि देने का नंबर चमियाल खाम का था। एक बार चमियाल खाम के एक परिवार को नर बलि देनी थी। परिवार में एक वृद्धा और उसका एक पौत्र था। वृद्धा ने अपने पौत्र की रक्षा के लिए मां बाराही की स्तुति की तो मां बाराही ने वृद्धा को मंदिर परिसर में स्थित खोलीखांड मैदान में बग्वाल (पत्थर युद्ध) खेलने को कहा। तब से नर बलि की जगह बग्वाल की परंपरा शुरू हो गयी।

परंपरा के अनुसार बग्वाल में चारों खामों के रणबांकुरे शामिल होते हैं। लमगड़िया तथा बालिग खाम एक तरफ और गहड़वाल तथा चमियाल खाम के रणबांकुरे दूसरी तरफ होते हैं। दोनों पक्षों के रणबांकुरे सज धजकर और हाथों में पत्थर लेकर आते हैं। पुजारी के संकेत मिलते ही पत्थरों की वर्षा शुरू हो जाती है। दोनों ओर के रणबांकुरे पूरी ताकत से एक दूसरे पर पत्थर फेंकते हैं और पुजारी का आदेश मिलने तक यह सिलसिल जारी रहता है। पत्थर वर्षा से बचने के लिए रणबांकुरे छत्तड़े यानी बांस से बनी ढाल का इस्तेमाल करते हैं।

कमेटी के लोगों ने बताया कि सभी रणबांकुरे पहले ही मंदिर में आ जाते हैं और मां बाराही का आशीर्वाद लेते हैं। बग्वाल के अगले दिन मंदिर में मां बाराही की भव्य पूजा अर्चना होती है। उसके अगले दिन मां की शोभायात्रा निकाली जाती है और इसके साथ ही ‘रणबांकुरों का खेल’ खत्म हो जाता है।

More News
आजादी के दीवानो में जोश भरने वीरंगना लक्ष्मीबाई आई थी भरेह किला

आजादी के दीवानो में जोश भरने वीरंगना लक्ष्मीबाई आई थी भरेह किला

12 Aug 2019 | 1:26 PM

इटावा , 12 अगस्त (वार्ता) प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की नायिका वीरंगना रानी लक्ष्मी बाई इटावा में चंबल नदी के किनारे स्थित भरेह के ऐतिहासिक किले मे आजादी के दीवानो मे जोश भरने को आई थी ।

see more..
रक्षा बंधन पर ‘पत्थर युद्ध’ के लिए रणबांकुरे हैं तैयार

रक्षा बंधन पर ‘पत्थर युद्ध’ के लिए रणबांकुरे हैं तैयार

11 Aug 2019 | 2:24 PM

नैनीताल, 11 अगस्त (वार्ता) रक्षाबंधन पर जहां पूरा देश भाई बहन के पवित्र प्यार की डोर से बंधकर खुशी में सराबोर रहता है वहीं इस दिन उत्तराखंड में कुमायूं के देवीधूरा में ‘पत्थर युद्ध’ खेला जाता है और इसकी तैयारी में जुटे प्रशासन ने जरूरी चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने की पुख्ता व्यवस्था कर ली है।

see more..
ठाकुर की मदद से ही फूलन ने जमाये थे राजनीति के क्षेत्र में पांव

ठाकुर की मदद से ही फूलन ने जमाये थे राजनीति के क्षेत्र में पांव

09 Aug 2019 | 3:32 PM

इटावा , 09 अगस्त (वार्ता) अस्सी के दशक में चंबल घाटी मे आतंक का पर्याय बनी दस्यु सुंदरी फूलन देवी के तेवर अगणी जाति विशेषकर ठाकुर को प्रति बेहद तल्ख थे लेकिन यह भी सच है कि बीहड़ों से निकल कर राजनीति के गलियारे में कदम रखने में उनकी मदद करने वाला एक ठाकुर ही था।

see more..
बुंदेलो की शौर्य गाथा ‘आल्हा’ पर गुमनामी का साया

बुंदेलो की शौर्य गाथा ‘आल्हा’ पर गुमनामी का साया

04 Aug 2019 | 2:30 PM

महोबा 04 अगस्त (वार्ता) मातृ भूमि की आन,बान और शान के लिए अपना सर्वस्व न्योछावर करने वाले 12वीं सदी के बुंदेले शूरवीरों की लोक शौर्य गाथा ‘आल्हा’ के अस्तित्व पर संकट छाने लगा है।

see more..
आजाद की मां की समाधि झेल रही है उपेक्षा का दंश

आजाद की मां की समाधि झेल रही है उपेक्षा का दंश

22 Jul 2019 | 10:26 PM

झांसी 22 जुलाई (वार्ता) भारत मां की आजादी के लिए अपना र्स्वस्व न्यौछावर करने वाले महानायक चंद्रशेखर आजाद की मां जगरानी देवी की उत्तर प्रदेश के झांसी स्थित समाधि सरकारी उदासीनता के कारण उपेक्षा का दंश झेल रही है।

see more..
image