Wednesday, Jan 22 2020 | Time 19:37 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • एयर प्यूरीफायर के लिए नयी प्रौद्योगिकी
  • शिअद ने किया कमलनाथ का विरोध
  • एनएचपीसी हिमाचल में सीएसआर के तहत 19 32 करोड़ रूपये खर्च करेगी
  • गुजरात में सत्तारूढ़ भाजपा के नाराज विधायक के त्यागपत्र से राजनीतिक भूचाल
  • एसटीएफ कर रही है अपराधियों के विरूद्व अभियान चलाकर कार्रवाई :अवस्थी
  • मोदी ने छत्तीसगढ़ में 90 प्रतिशत पुलिस थानों के ऑनलाईन किए जाने की प्रशंसा की
  • पंजाब के आदमपुर में हत्या का आरोपी गिरफ्तार
  • बारिश के साथ ही उत्तरी हवाएं चलने से दिन का पारा लुढ़का
  • ओम बिड़ला ने की हरियाणा के राज्यपाल से मुलाकात
  • टाटा मोटर्स ने लाँच की नयी कार ऑल्ट्रोज , शुरूआती कीमत 5 29लाख रुपये
  • अभाविप ने सीएए के समर्थन में हस्ताक्षर अभियान चलाया
  • पंजाब की नहरों में पानी छोड़ने की सूची जारी
  • एनएचआरसी ने आदिवासी बालिका की हत्या, दुष्कर्म पर मांगी रिपोर्ट
  • सिंहभूम की जघन्य घटना की जांच के लिए भाजपा भेजेगी उच्चस्तरीय समिति
  • स्वराज इंडिया ने हरियाणा में 9वीं से 12वीं तक मुफ्त पुस्तकें देने का किया स्वागत
फीचर्स


रक्षा बंधन पर ‘पत्थर युद्ध’ के लिए रणबांकुरे हैं तैयार

रक्षा बंधन पर ‘पत्थर युद्ध’ के लिए रणबांकुरे हैं तैयार

नैनीताल, 11 अगस्त (वार्ता) रक्षाबंधन पर जहां पूरा देश भाई बहन के पवित्र प्यार की डोर से बंधकर खुशी में सराबोर रहता है वहीं इस दिन उत्तराखंड में कुमायूं के देवीधूरा में ‘पत्थर युद्ध’ खेला जाता है और इसकी तैयारी में जुटे प्रशासन ने जरूरी चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने की पुख्ता व्यवस्था कर ली है।

स्थानीय भाषा में इसे बग्वाल कहा जाता है जो हर साल रक्षाबंधन के दिन आयोजित होती है। इस बग्वाल में पत्थर युद्ध खेला जाता है। परंपरा के अनुसार बग्वाल में युवा और बुजुर्ग सभी रणबांकुरे शामिल होते हैं। इन रणबांकुरों के पास पत्थर होते हैं और एक दूसरे पक्ष पर पत्थर फेंकते हैं जिसमें कई लोग घायल हो जाते हैं।

बग्वाल मेला कमेटी के संरक्षक खीम सिंह लमगड़िया, भुवन चंद्र जोशी और कीर्ति वल्लभ जोशी ने यूनीवार्ता को बताया कि यह अजीबो-गरीब पंरपरा है जिसमें एक पक्ष दूसरे पक्ष पर पत्थर फेंकर बग्वाल मनाता है और अपनी आराध्य देवी को खुश करने लिए खूनी खेल में हिस्सा लेता है। बग्वाल में रणबांकुरे परस्पर पत्थरों की बरसात करते हैं और इसमें कई लोग जख्मी हो जाते हैं। यह आयोजन हर साल होता है इसलिए घायलों को प्राथमिक उपचार मुहैया करने के लिये सरकारी अमला मुस्तैद रहता है।

उन्होंने बताया कि बग्वाल पर्व हर साल राखी के त्यौहार के अवसर पर आयोजित किया जाता है और इसे देखने के लिए आसपास के साथ ही बाहर से भी बड़ी संख्या में लोग आते हैं। यह खेल उत्तराखंड में कुमाऊं मंडल के चंपावत जिले के देवीधूरा में आयोजित होता है। इस बग्वाल को असाड़ी कौथिक के नाम से भी जाना जाता है। इसका आयोजन देवीधूरा के खोलीखांड मैदान में होता है और इस पत्थर युद्ध में चंपावत के चार खाम तथा सात थोक के लोग हिस्सा लेते हैं।

कमेटी के सदस्यों ने बताया कि प्रचलित मान्यताओं के अनुसार पौराणिक काल में चार खामों के लोग अपनी आराध्या बाराही देवी को मनाने के लिए हर साल नर बलि देते थे। एक साल एक खाम का नंबर आता था। एक बार नर बलि देने का नंबर चमियाल खाम का था। एक बार चमियाल खाम के एक परिवार को नर बलि देनी थी। परिवार में एक वृद्धा और उसका एक पौत्र था। वृद्धा ने अपने पौत्र की रक्षा के लिए मां बाराही की स्तुति की तो मां बाराही ने वृद्धा को मंदिर परिसर में स्थित खोलीखांड मैदान में बग्वाल (पत्थर युद्ध) खेलने को कहा। तब से नर बलि की जगह बग्वाल की परंपरा शुरू हो गयी।

परंपरा के अनुसार बग्वाल में चारों खामों के रणबांकुरे शामिल होते हैं। लमगड़िया तथा बालिग खाम एक तरफ और गहड़वाल तथा चमियाल खाम के रणबांकुरे दूसरी तरफ होते हैं। दोनों पक्षों के रणबांकुरे सज धजकर और हाथों में पत्थर लेकर आते हैं। पुजारी के संकेत मिलते ही पत्थरों की वर्षा शुरू हो जाती है। दोनों ओर के रणबांकुरे पूरी ताकत से एक दूसरे पर पत्थर फेंकते हैं और पुजारी का आदेश मिलने तक यह सिलसिल जारी रहता है। पत्थर वर्षा से बचने के लिए रणबांकुरे छत्तड़े यानी बांस से बनी ढाल का इस्तेमाल करते हैं।

कमेटी के लोगों ने बताया कि सभी रणबांकुरे पहले ही मंदिर में आ जाते हैं और मां बाराही का आशीर्वाद लेते हैं। बग्वाल के अगले दिन मंदिर में मां बाराही की भव्य पूजा अर्चना होती है। उसके अगले दिन मां की शोभायात्रा निकाली जाती है और इसके साथ ही ‘रणबांकुरों का खेल’ खत्म हो जाता है।

More News
बच्चों की बेहतर देखभाल करती है कामकाजी महिलायें

बच्चों की बेहतर देखभाल करती है कामकाजी महिलायें

11 Jan 2020 | 5:50 PM

लखनऊ,11 जनवरी (वार्ता) आमतौर पर माना जाता है कि नौकरी करने वाले दंपत्ति को संतान की बेहतर देखभाल करने में तमाम मुश्किलों का सामना करना पड़ता है लेकिन एक शोध ने इस धारणा को न सिर्फ गलत साबित किया है बल्कि आधुनिकता का जीवन बसर करने वाली कामकाजी महिलाओं को योग्य मां करार दिया है।

see more..
कारोबार के अनुकूल माहौल बनाने में जुटी रही सरकार

कारोबार के अनुकूल माहौल बनाने में जुटी रही सरकार

29 Dec 2019 | 6:18 PM

नयी दिल्ली 29 दिसंबर (वार्ता) सरकार के आर्थिक सुधारों तथा कारोबार को सुगम बनाने के प्रयासों के इस वर्ष अच्छे नतीजे दिखायी दिये और भारत कारोबारी सुगमता की रैंकिंग में 63वें पायदान पर पहुंचने में कामयाब रहा तथा नवाचार के संदर्भ में 52वें स्थान पर आ गया। वहीं, विदेश व्यापार के माेर्चें पर सभी कदम विफल होते दिखे।

see more..
जिनके नाम से झांसी दुनिया में रोशन,उनके महल में पसरा अंधेरा

जिनके नाम से झांसी दुनिया में रोशन,उनके महल में पसरा अंधेरा

24 Nov 2019 | 2:24 PM

झांसी 24 नवंबर (वार्ता) अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ बगावत का बिगुल फूंकने वाली महारानी लक्ष्मीबाई की वीरता के किस्से आज भी देश दुनिया में बड़े अदब के साथ सुनाये जाते हैं। झांसी को दुनिया के ऐतिहासिक पर्यटन मानचित्र में अहम स्थान दिलाने वाली वीरंगना का महल और किला सरकारी उदासीनता के कारण खंडहर की शक्ल में तब्दील होता जा रहा है।

see more..
विकास का इंतजार कर रहा रढुआ धाम

विकास का इंतजार कर रहा रढुआ धाम

12 Nov 2019 | 5:00 PM

औरंगाबाद 12 नवंबर (वार्ता) बिहार के औरंगाबाद जिले में ऐतिहासिक, पौराणिक और धार्मिक महत्व के रढुआ धाम को आज भी विकास का इंतजार है।

see more..
इविवि के छात्र करेंगे प्रवासी भारतीयों पर शोध

इविवि के छात्र करेंगे प्रवासी भारतीयों पर शोध

01 Sep 2019 | 3:54 PM

प्रयागराज,01 सितम्बर (वार्ता) पूरब का आक्सफोर्ड कहे जाने वाले इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्र प्रवासी भारतीयों पर शोध करेंगे कि उन्होने कैसे अन्य देशों को अपना ठौर बनाया।

see more..
image