Sunday, Aug 18 2019 | Time 20:36 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मस्तिष्काघात से स्मिथ लॉर्ड्स टेस्ट से बाहर, तीसरे टेस्ट में खेलना संदिग्ध
  • डिफेंडर कोथाजीत ने खेला 200वां अंतर्राष्टीय मैच
  • पाकिस्तान में विस्फोट में पांच मरे ,छह घायल
  • जेटली से एम्स में मुलाकात का सिलसिला रविवार को भी जारी
  • सूर्यकुण्ड धाम दर्शनीय एवं पर्यटन स्थल के रूप में होगा विकसित:योगी
  • पूर्वी मध्यप्रदेश में 24 घंटो में बारिश की झमाझम
  • फिरोजशाह कोटला में होगा विराट कोहली स्टैंड
  • समोलिया में अल-शबाब के दो आतंकवादी ढेर
  • आईएस ने अफगानिस्तान में हमले की जिम्मेदारी ली
  • दून पहुंचा शहीद संदीप थापा का पार्थिव शरीर, नम आखों से दी अंतिम विदाई
  • संगम तट लेटे बडे हनुमान को गंगा स्नान कराने को आतुर
  • वाइको अस्पताल में भर्ती
  • उत्तरकाशी में बादल फटने, तेजे बारिश से जानमाल का नुकसान
  • वाराणसी में गंगा का जलस्तर लाल निशान की ओर
मनोरंजन » जानीमानी हस्तियों का जन्म दिन


कव्वाली को संगीतबद्ध करने के महारथी थे रौशन

कव्वाली  को संगीतबद्ध करने के महारथी थे रौशन

..जन्मदिन 14 जुलाई  ..
मुंबई 13 जुलाई(वार्ता) हिंदी फिल्मों में जब कभी कव्वाली का जिक्र होता है संगीतकार रौशन का नाम सबसे पहले लिया जाता है।
हालांकि रौशन ने फिल्मों में हर तरह के गीतों को संगीतबद्ध किया है लेकिन कव्वालियों को संगीतबद्ध करने में उन्हें महारत हासिल थी।

वर्ष 1960 में प्रदर्शित सुपरहिट फिल्म ..बरसात की रात.में यूं तो सभी गीत लोकप्रिय हुये लेकिन रौशन के संगीत निर्देशन में मन्ना डे और आशा भोंसेले की आवाज में साहिर लुधियानवी रचित कव्वाली ...ना तो कारंवा की तलाश ...और ...मोहम्मद रफी की आवाज में ...ये इश्क इश्क है ...आज भी श्रोताओं के दिलों में अपनी अमिट छाप छोड़े हुये है ।

वर्ष 1963 में प्रदर्शित फिल्म ‘दिल ही तो है’ में आशा भोंसले और मन्ना डे की युगल आवाज में रौशन की संगीतबद्ध कव्व्वाली ...निंगाहे मिलाने को जी चाहता है...आज जब कभी भी फिजाओं में गूंजता है तब उसे सुनकर श्रोता अभिभूत हो जाते है ।

तत्कालीन पश्चिमी पंजाब के गुजरावालां शहर (अब पाकिस्तान में) एक ठेकेदार के घर में 14 जुलाई 1917 को जन्मे रौशन का रूझान बचपन से ही अपने पिता के पेशे की और न होकर संगीत की ओर था।
संगीत की ओर रूझान के कारण
रौशन अक्सर फिल्म देखने जाया करते थे।
इसी दौरान उन्होंने एक फिल्म ‘पुराण भगत’ देखी।
फिल्म ‘पुराण भगत’ में गायक सहगल की आवाज में एक भजन रौशन को काफी पसंद आया।
इस भजन से वह इतने ज्यादा प्रभावित हुये कि उन्होंने यह फिल्म कई बार देख डाली।
ग्यारह वर्ष की उम्र आते..आते उनका रूझान संगीत की ओर हो गया और वह उस्ताद मनोहर बर्वे से संगीत की शिक्षा लेने लगे।

मनोहर बर्वे स्टेज के कार्यक्रम को भी संचालित किया करते थे उनके साथ रौशन ने देश भर में हो रहे स्टेज कार्यक्रमों में हिस्सा लेना शुरू कर दिया।
मंच पर जाकर मनोहर बर्वे जब कहते कि ..अब मै आपके सामने देश का सबसे बडा गवइयां पेश करने जा रहा हूं.. तो रौशन मायूस हो जाते क्योंकि .गवइया. शब्द उन्हें पसंद नहीं था।
उन दिनों तक रौशन यह तय नही कर पा रहे थे कि गायक बना जाये या फिर संगीतकार।
कुछ समय के बाद रौशन घर छोडकर लखनऊ चले गये और .मॉरिस कालेज आफ म्यूजिक. में प्रधानाध्यापक रतन जानकर से संगीत सीखने लगे।
लगभग पांच वर्ष तक संगीत की शिक्षा लेने के बाद वह मैहर चले आये और उस्ताद अल्लाउदीन खान से संगीत की शिक्षा लेने लगे।
एक दिन अल्लाउदीन खान ने रौशन से पूछा. ..तुम दिन में कितने घंटे रियाज करते हो।

इसपर रौशन ने गर्व के साथ कहा.. दिन में दो घंटे और शाम को दो घंटे. यह सुनकर अल्लाउदीन खान बोले ..यदि तुम पूरे दिन में आठ घंटे रियाज नही कर सकते हो तो अपना बोरिया बिस्तर उठा कर यहां से चले जाओ.. रौशन को यह बात चुभ गयी और उन्होंने लगन के साथ रियाज करना शुरू कर दिया।
शीघ्र ही उनकी मेहनत रंग आई और उन्होंने सुर के उतार चढ़ाव की बारीकियों को सीख लिया।
इन सबके बीच रौशन ने बुंदु खान से सांरगी की शिक्षा भी ली।
रौशन ने वर्ष 1940 में आकाशवाणी केंद्र दिल्ली में बतौर संगीतकार अपने कैरियर की शुरूआत की।
बाद में उन्होंने आकाशवाणी से प्रसारित कई कार्यक्रमों में बतौर हाउस कम्पोजर भी काम किया।

वर्ष 1949 मे फिल्मी संगीतकार बनने का सपना लेकर रौशन दिल्ली से मुंबई आ गये।
मायानगरी मुंबई में एक वर्ष तक संघर्ष करने के बाद उनकी मुलाकात जाने माने निर्माता निर्देशक केदार शर्मा से हुयी।
रौशन के संगीत बनाने के अंदाज से प्रभावित केदार शर्मा ने उन्हें अपनी फिल्म .नेकी और बदी. में बतौर संगीतकार काम करने का मौका दिया।
अपनी इस पहली फिल्म के जरिये भले ही रौशन सफल नहीं हो पाये लेकिन गीतकार के रूप में उन्होंने अपने सिने कैरियर के सफर की शुरूआत अवश्य कर दी।

वर्ष 1950 में एक बार फिर रौशन को केदार शर्मा की फिल्म ‘बावरे नैन’ में काम करने का मौका मिला।
फिल्म बावरे नैन. में मुकेश के गाये गीत ...तेरी दुनिया में दिल लगता नहीं... की कामयाबी के बाद रौशन फिल्मी दुनिया मे संगीतकार के तौर पर अपनी पहचान बनाने मे सफल रहे।
रौशन के संगीतबद्ध गीतों को सबसे ज्यादा मुकेश ने अपनी आवाज दी थी।
गीतकार साहिर लुधियानवी के साथ रौशन की जोडी खूब जमी।
इन दोनों की जोडी के गीत.संगीत ने श्रोताओं को भावविभोर कर दिया।
इन गीतों मे ना तो कारंवा की तलाश है. जिंदगी भर नही भूलेगी वो बरसात की रात.लागा चुनरी में दाग. जो बात तुझमें है .जो वादा किया वो निभाना पडेगा.दुनिया करे सवाल तो हम क्या जवाब दें.जैसे मधुर नगमें शामिल है।

रौशन को वर्ष 1963 मे प्रदर्शित फिल्म ताजमहल के लिये सर्वश्रेष्ठ संगीतकार का फिल्म फेयर पुरस्कार दिया गया।
हिन्दी सिने जगत को अपने बेमिसाल संगीत से सराबोर करने वाले यह महान संगीतकार रौशन 16 नवंबर 1967 को सदा के लिये इस दुनिया को अलविदा कह गये।

 

शिल्पा

शिल्पा शेट्टी ने ठुकरायी स्लिमिंग पिल के इंडोर्समेंट की 10 करोड़ की डील

मुंबई 18 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड की जानी मानी अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी ने स्लिमिंग पिल के इंडोर्समेंट की 10 करोड़ की डील ठुकरा दी है।

कुछ

कुछ कुछ होता है के रीमेक में रणवीर सिंह को लेना चाहते हैं करण जौहर!

मुंबई 18 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड फिल्मकार करण जौहर अपनी सुपरहिट फिल्म कुछ कुछ होता है के रीमेक के लिये रणवीर सिंह को लेना चाहते हैं।

अशआर

अशआर मेरे यूं तो जमाने के लिये है ..

..पुण्यतिथि 19 अगस्त  ..
मुंबई 18 अगस्त ( वार्ता ) भारतीय सिनेमा जगत में जां निसार अख्तर को एक ऐसे फिल्म गीतकार के रूप याद किया जाता है जिन्होंने अपने गीतों को आम जिंदगी से जोड़कर एक नये युग की शुरूआत की ।

भावपूर्ण

भावपूर्ण अभिनय करने में माहिर है सचिन

. .जन्मदिवस 17 अगस्त ..
मुंबई 17 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड सिनेमा में सचिन को एक ऐसे अभिनेताओं में शुमार किया जाता है जिन्होंने अपने भावपूर्ण अभिनय से दर्शकों के बीच खास पहचान बनायी है।

बहुमुखी

बहुमुखी प्रतिभा से लोगों को मंत्रमुग्ध कर रहे हैं गुलजार

..जन्मदिन 18 अगस्त  ..
मुबई 17 अगस्त (वार्ता) मुशायरों और महफिलों से मिली शोहरत तथा कामयाबी ने कभी मोटर मैकेनिक का काम करने वाले ..गुलजार .. को पिछले पांच दशक में फिल्म जगत का एक अजीम शायर और गीतकार बना दिया है।

इंशा

इंशा अल्लाह का ऑफर मिलने पर काफी उत्साहित हो गयी थी आलिया भट्ट

मुंबई 17 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री आलिया भट्ट का कहना है कि जब उन्हें फिल्म 'इंशा अल्लाह' में काम करने का प्रस्ताव मिला था तब वह काफी उत्साहित हो गयी थी।

जादूज

जादूज मिनी थियेटर सिनेमा के क्षेत्र में नयी क्रांति : निरहुआ

पटना, 17 अगस्त (वार्ता) भोजपुरी सिनेमा के जुबली स्टार दिनेश लाल यादव ‘निरहुआ’ का कहना है कि जादूज मिनी थियेटर के जरिये न सिर्फ सिनेमा के क्षेत्र में नयी क्रांति आयेगी बल्कि इसके जरिये शिक्षा को भी जोड़ा जायेगा।

बाढ़

बाढ़ पीड़ितों के लिये 500 घर बनायेंगे नाना पाटेकर

मुंबई 16 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता नाना पाटेकर महाराष्ट्र के बाढ़ पीड़ितो के लिये 500 घर बनाने जा रहे हैं।

बॉलीवुड

बॉलीवुड डेब्यू की तैयारी कर रही हैं सुहाना खान

मुंबई 15 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड के किंग खान शाहरूख खान की बेटी सुहाना खान बॉलीवुड डेब्यू के लिये तैयारी कर रही है।

उनचास

उनचास वर्ष के हुये सैफ अली खान

..जन्मदिन 16 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 16 अगस्त (वार्ता)बॉलीवुड के छोटे नवाब सैफ अली खान आज 49 वर्ष के हो गये ।

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

..जन्मदिवस 29 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 28 अगस्त(वार्ता)किंग ऑफ पॉप माइकल जैक्सन को ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने पॉप संगीत की दुनिया को पूरी तरह बदलकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनायी है।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

खलनायकी के बेताज बादशाह थे अमजद खान

खलनायकी के बेताज बादशाह थे अमजद खान

..पुण्यतिथि 27 जुलाई के अवसर पर .
मुंबई 26 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड की ब्लॉक बस्टर फिल्म ..शोले.. के किरदार गब्बर सिंह ने अमजद खान को फिल्म इंडस्ट्री में सशक्त पहचान दिलायी लेकिन फिल्म के निर्माण के समय गब्बर सिंह की भूमिका के लिये पहले डैनी
का नाम प्रस्तावित था।

image