Tuesday, May 26 2020 | Time 23:24 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अमेरिका में कोरोना से एक लाख से अधिक लोगों की मौत
  • झारखंड में कोरोना के 28 मरीज मिले, कुल संक्रमितों की संख्या 436
  • मोदी ने मिस्र, कतर और आस्ट्रिया के नेताओं के साथ बात की
  • राजस्थान में कोरोना संक्रमित संख्या 7536 पहुंची, तीन की मौत
  • बिहार में एक दिन में मिले 231 पॉजिटिव, कुल संक्रमितों की संख्या 2968
  • गोवा में कोरोना के नौ मरीज ठीक, कोई नया मामला नहीं
  • बिहार में भारी मात्रा में शराब बरामद, आठ गिरफ्तार
  • पूर्वी चंपारण में युवती ने की ट्रेन से कटकर आत्महत्या की कोशिश
  • पूर्वी चंपारण में रसोई गैस सिलेडर में विस्फोट, दंपति झुलसे
  • फोटो कैप्शन दूसरा सेट
  • कोरोना प्रभावित स्थानों पर आरएएफ के जवान तैनात
  • महाराष्ट्र सरकार को कोई खतरा नहीं है: राउत
  • केन्द्र की उपलब्धियों को नए तरीके से जनता के बीच ले जायेगी भाजपा
  • ट्रेन लेट होने की वजह से भूख-प्यास से सात प्रवासी की हुई मौत : कांग्रेस
  • शोधकर्ता रोगों की पहचान एव उपचार के लिए डिवाइस करे विकसित :योगी
लोकरुचि


इटावा मे नौ को होगा रावण वध

इटावा मे नौ को होगा रावण वध

इटावा, 8 अक्टूबर (वार्ता) देश भर मे बेशक मंगलवार को दशहरा पर्व की धूम मची हो लेकिन उत्तर प्रदेश में इटावा के जसंवतनगर मे बुधवार को रावण वध किया जायेगा ।

रामलीला समिति के प्रबंधक राजीव गुप्ता ने बताया प्रकांड पंडित और बलशाली होने के कारण लंकाधिपति का वध बुधवार को होगा जब चंद्र सूर्य की नक्षत्रीय दिशाए पंचक मुहूर्त मे आएगी। रामलीला महोत्सव की ख्याति विश्वव्यापी होने की वजह से रामलीला समिति का प्रबंधन उसमे नयापन लाने के भरपूर प्रयास में है। इसलिए इस बार ज्यादा जोर पात्रों के संवाद और ड्रेसों पर दिया गया है। रावण की ड्रेस तो विशेष तौर से जयपुर से मंगाई गई है।

रामलीला में सभी पात्र कंठस्थ चौपाइयां याद करके उनका भावार्थ प्रस्तुत कर रहे हैं फिर भी अभी सुधार की और जरूरत है। राम ,लक्ष्मण और सीता की ड्रेसें हर वर्ष नई बनती हैं,मगर इस बार लंकाधिपति रावण की ड्रेस उसके प्रोटोकाल के अनुरूप मंगाई गई है। सीताहरण की महत्वपूर्ण लीला के दौरान रावण ने जो ड्रेस पहनी, उसने सबको आकर्षित किया। पूरी जडाऊ, इस ड्रेस का कपड़ा भी सम्भवतः पहली बार सिलकन और सनिल मिक्स है। पिछले सालों में ड्रेस का स्तर घटिया दिखता था।

व्यवस्थापक अजेंद्र सिंह गौर ने बताया है कि इस ड्रेस को जयपुर के कारीगरों से बनवाया गया है । आगरा में भी इस पर जडाऊ काम मूंगा,मोतीआदि का हुआ है। इस ड्रेस को लेने और इसमें राजसी चमक लाने के लिए प्रबंधक राजीव गुप्ता बबलू ने ड्रेस बनाने वालों से काफी माथा-पच्ची की।

ड्रेस की देखरेख और रखरखाव के लिए एक नवयुवक निखिल गुप्ता को विशेष जिम्मेदारी सौंपी गई है । ड्रेस की कीमत के बारे में पूंछे जाने पर कई हजार बताई गई। राम और रावण की लड़ाई इस बार करीब 9 घंटे चलेगी , इसलिए 7-8 हट्टे-कट्टे युवक रावण की भूमिका निभाने के लिए तैयार किये गए हैं। श्री गौर ने बताया कि अपने दिवंगत पिता विपिन बिहारी पाठक द्वारा 20 वर्ष तक रामलीला में रावण की भूमिका निभाने की परंपरा को उनके पुत्र धीरज पाठक इस वर्ष भी निभाएंगे। अमित शुक्ला भोले,विशाल गुप्ता, रतन शर्मा, अंकित शर्मा आदि युवक भी रावण की भूमिका में युद्ध करते दिखेंगे।

मृत्यु के वक्त परम्परागत रूप से 15 वर्षों से रावण की भूमिका निभा रहे 55 वर्षीय बालकृष्ण शर्मा ही इस बार रावण रोल में होंगे। यहां की रामलीला में रावण की आरती उतारी जाती है और उसकी पूजा होती है हालांकि ये परंपरा दक्षिण भारत की है, लेकिन फिर भी उत्तर भारत के कस्बे जसवंतनगर ने इसे खुद में क्यों समेटा हुआ है ये अपने आप में ही एक अनोखा प्रश्न है। जानकार बताते हैं कि रामलीला की शुरुआत यहां 1855 में हुई थी लेकिन 1857 के ग़दर ने इसको रोका, फिर 1859 से यह लगातार जारी है।

यहां रावण, मेघनाथ, कुम्भकरण ताम्बे, पीतल और लोह धातु से निर्मित मुखौटे पहनकर मैदान में लीलाएं करते हैं। शिवजी के त्रिपुंड का टीका भी इनके चेहरे पर लगा होता है। जसवंतनगर के रामलीला मैदान में रावण का लगभग 15 फीट ऊंचा रावण का पुतला नवरात्र की सप्तमी को लग जाता है। दशहरे वाले दिन रावण की पूरे शहर में आरती उतारकर पूजा की जाती है और जलाने की बजाय उसके पुतले को मार-मारकर उसके टुकड़े कर दिए जाते हैं और फिर वहां मौजूद लोग रावण के उन टुकड़ों को उठाकर घर ले जाते हैं। जसवंतनगर में रावण की तेरहवीं भी की जाती है।

दशहरे पर जब रावण अपनी सेना के साथ युद्ध करने को निकलता है तब यहां उसकी धूप-कपूर से आरती होती है और जय-जयकार भी होती है। दशहरे के दिन शाम से ही राम और रावण के बीच युद्ध शुरू हो जाता है जो कि डोलों पर सवार होकर लड़ा जाता है । रात 10 बजे के आसपास पंचक मुहूर्त में रावण के स्वरूप का वध होता है, पुतला नीचे गिर जाता है। एक और खास बात यहां देखने को मिलती है जब लोग पुतले की बांस की खप्पची, कपड़े और उसके अंदर के अन्य सामान नोंच-नोंचकर घर ले जाते हैं। उन लोगों का मानना है कि घर में इन लकड़ियों और सामान को रखने से भूत-प्रेत का प्रकोप नहीं होता।

जसवंतनगर की रामलीला में लंकापति रावण के वध के बाद पुतले का दहन नहीं होता है, बल्कि उस पर पत्थर बरसाकर और लाठियों से पीटकर धराशायी कर देते हैं। इसके बाद रावण के पुतले की लकड़ियां बीन-बीन कर घरों में ले जाकर रखते हैं। लोगों की मान्यता है कि इस लकड़ी को घर में रखने से विद्वता आती है और धन में बरकत होती है। इस लोक मान्यता का असर यह है कि रावण वध के बाद पुतले की लकड़ी के नाम पर मैदान में कुछ नहीं बचता है। दूसरी खास बात यह है कि यहां रावण की तेरहवीं भी मनाई जाती है, जिसमें कस्बे के लोगों को आमंत्रित किया जाता है।

सं प्रदीप

वार्ता

More News
लॉकडाउन में गुम हुयी खुशियों पर बजने वाली किन्नरों की ताली

लॉकडाउन में गुम हुयी खुशियों पर बजने वाली किन्नरों की ताली

26 May 2020 | 4:45 PM

पटना 26 मई (वार्ता) मांगलिक कार्यों के दौरान लोगों के घरों में जा कर नाचने-गाने और आशीर्वाद देकर आजीविका कमाने वाले किन्नरों की तालियां लॉकडाउन में गुम हो गयी है।

see more..
कई कारोबारियों के बिजनेस पार्टनर है ‘ठाकुर’

कई कारोबारियों के बिजनेस पार्टनर है ‘ठाकुर’

25 May 2020 | 5:24 PM

मथुरा 25 मई (वार्ता) व्यापार को चमकाने के लिए ‘ठाकुर’ को ’बिजनेस पार्टनर’ बनाने की निराली परंपरा भक्तों द्वारा ब्रज के मंदिरों में लम्बे समय से अपनाई जा रही है।

see more..
महोबा में जागरूकता अभियान के साथ अनूठे अंदाज में मनाई गई आल्हा की जयंती

महोबा में जागरूकता अभियान के साथ अनूठे अंदाज में मनाई गई आल्हा की जयंती

25 May 2020 | 12:55 PM

महोबा, 25मई (वार्ता) उत्तर प्रदेश के महोबा में बारहवीं शताब्दी के महान योद्धा चंदेल सेनानायक, महाबली आल्हा की जयंती सोमवार को कोरोना जागरूकता अभियान के साथ अनूठे अंदाज में मनाई गई।

see more..
प्रकृति की खातिर हर साल 21 दिन का लॉकडाउन जरूरी: पर्यावरणविद

प्रकृति की खातिर हर साल 21 दिन का लॉकडाउन जरूरी: पर्यावरणविद

24 May 2020 | 4:01 PM

इटावा, 24 मई (वार्ता) कोरोना संक्रमण के चलते देशव्यापी लाकडाउन ने सरकार और आम आदमी की मुश्किलों में इजाफा किया है लेकिन आपदा की इस घड़ी ने प्रकृति के सौंदर्य को बरकरार रखने के लिये नियमित अंतराल में मानव दखलदांजी पर रोक लगाने को लेकर एक नयी बहस को जन्म दे दिया है।

see more..
लाकडाउन ने कछुओं को दिया वंश वृद्धि का मौका

लाकडाउन ने कछुओं को दिया वंश वृद्धि का मौका

22 May 2020 | 10:03 PM

इटावा 22 मई (वार्ता) वैश्विक महामारी कोविड-19 के कारण जारी लाकडाउन ने कलकल बहती चंबल नदी में विचरण करते दुर्लभ प्रजाति के कछुओं को सुरक्षित प्रजनन का मौका दे दिया है।

see more..
image