Tuesday, May 26 2020 | Time 21:59 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कजाकिस्तान से आएं 140 राजस्थानी छात्र-छात्राएं
  • नीतीश ने प्रवासी मजदूर परिवार को स्वयं सहायता समूह से जोड़ने का दिया निर्देश
  • जालंधर में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ कर 238
  • बडगाम में पुराने गोले में विस्फोट से तीन लोग घायल
  • प्रह्लाद जानी उर्फ चुंदडी वाले माताजी का निधन
  • कोरोना मरीजों के स्वस्थ होने की दर 41 61 फीसदी
  • विदेशों से आने वालों से सात दिन के क्वारंटाइन के पैसे लें होटल
  • इंग्लैंड में महिला फुटबॉल सुपर लीग तत्काल प्रभाव से समाप्त
  • सुल्तानपुर में भर्ती बाराबंकी के छह कोरोना संक्रमित स्वस्थ
  • पश्चिम चंपारण में सड़क दुर्घटना में बाइक सवार की मौत, एक घायल
  • कोरोना गुजरात मामले दो अंतिम गांधीनगर
  • प्रो ज्ञानंजय द्विवेदी होंगे बी एन मंडल विश्वविद्यालय के कुलपति
  • फर्रूखाबाद में एक और कोरोना पाॅजिटिव,संख्या बढ़कर हुई 26
  • पाकिस्तानी हॉकी समुदाय ने बलबीर सीनियर को दी श्रद्धांजलि
लोकरुचि


पंचक मुहूर्त में आखिरकार हुआ रावण का अंत

पंचक मुहूर्त में आखिरकार हुआ रावण का अंत

इटावा, 9 अक्टूबर (वार्ता) असत्य पर सच की जीत का पर्व विजयदशमी का शोर देश भर मंगलवार को ही थम गया था लेकिन उत्तर प्रदेश में इटावा के जसवंतनगर की ऐतिहासिक रामलीला मे बुधवार को पंचक मुहुर्त में लंकापति रावण का वध भगवान राम के हाथों हुआ।

जसवंतनगर में हजारो के जनसमुदाय के बीच बुधवार को स्वयं रावण बची खुची राक्षसी सेना के साथ राम से संग्राम के लिए रणभूमि पर उतरा और मारा गया जिसके बाद समूचा मैदान राम के जयघोष से गूंज उठा।

रामलीला समिति के प्रबंधक राजीव गुप्ता ने बताया कि रावण प्रकांड पंडित और बलशाली था। चंद्र सूर्य की नक्षत्रीय दिशाए पंचक मुहूर्त मे आने पर आज यहां दशहरा समारोह हुआ जिसमे रावण का बध हुआ है। इससे पहले कुम्भकर्ण, मेघनाद , अतिकाय और दुर्मुख को युद्ध मैदान में गंवा चुके लंकेश युद्धक्षेत्र में डटा रहा था।

मंगलवार को लक्ष्मण के हाथों अतिकाय और ब्रह्मशक्ति का ज्ञान रखने वाले रावण के बेटे मेघनाद के वध का प्रदर्शन हुआ था। नगर की सड़कों से लेकर रामलीला मैदान तक 9 घण्टे भीषण संग्राम का प्रदर्शन चला था । देर रात मेघनाद और अतिकाय मारे गए थे । सुलोचना सती के विलाप का प्रदर्शन भी हुआ था। आज अपनी बची खुची सेना के अलावा नारायन्तक और अहिरावण के साथ रामदल पर हमला करने नगर की सड़कों पर निकला । रावण सीधा नगर की केला देवी के मंदिर पर पूजा अर्चना करने पहुंचा । वहां से आगे बढ़ता जैन बाजार पहुंचा, तो कैंडा क्लब के द्वारा उसकी पूजा अर्चना और आरती की गई । रावण की जय जयकार के बीच आरती किये जाने बाद उसको माल्यार्पण भी किया गया। रावण दल ने नरसिंह मन्दिर पर राम दल पर हमला बोला। इसके बाद सड़कों पर तीर तलवार , ढाल, बरछी भाला आदि प्राचीन अस्त्रों से दोनों दलों ने रामलीला मैदान तक डेढ़ किलोमीटर रास्ते पर युद्ध प्रदर्शन किया, लोग रोमांचित हो उठे।

प्रसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव भी दशहरा मनाने रामलीला मैदान पंहुंचे। उनका अभिनन्दन रामलीला समिति के अध्यक्ष अजय लम्बरदार और प्रबंधक राजीव गुप्ता बबलू आदि ने किया ।

राम की जय जयकार करते लोगों ने करीब 45 फुट ऊंचे रावण के पुतले पर हमला बोल दिया और पुतले की खपचचे कपड़ा आदि अपने संग बीन ले गए। यहां की रामलीला में रावण को फूंका नही जाता। राम विजय के बाद सीता मिलन और फिर राम दल ने देर रात्रि रामेश्वरम मन्दिर में भगवान शंकर की पूजा अर्चना की। विभीषण को लंका का राजपाट भी भगवान राम ने सौंपा ।

जानकार बताते हैं कि रामलीला की शुरुआत यहां 1855 में हुई थी लेकिन 1857 के ग़दर ने इसको रोका, फिर 1859 से यह लगातार जारी है। यहां रावण, मेघनाथ, कुम्भकरण ताम्बे, पीतल और लोह धातु से निर्मित मुखौटे पहनकर मैदान में लीलाएं करते हैं। शिवजी के त्रिपुंड का टीका भी इनके चेहरे पर लगा होता है। जसवंतनगर के रामलीला मैदान में रावण का लगभग 15 फीट ऊंचा रावण का पुतला नवरात्र की सप्तमी को लग जाता है। दशहरे वाले दिन रावण की पूरे शहर में आरती उतारकर पूजा की जाती है और जलाने की बजाय उसके पुतले को मार-मारकर उसके टुकड़े कर दिए जाते हैं और फिर वहां मौजूद लोग रावण के उन टुकड़ों को उठाकर घर ले जाते हैं। जसवंतनगर में रावण की तेरहवीं भी की जाती है।

एक और खास बात यहां देखने को मिलती है जब लोग पुतले की बांस की खप्पची, कपड़े और उसके अंदर के अन्य सामान नोंच-नोंचकर घर ले जाते हैं। उन लोगों का मानना है कि घर में इन लकड़ियों और सामान को रखने से भूत-प्रेत का प्रकोप नहीं होता।

सं प्रदीप

वार्ता

 

More News
लॉकडाउन में गुम हुयी खुशियों पर बजने वाली किन्नरों की ताली

लॉकडाउन में गुम हुयी खुशियों पर बजने वाली किन्नरों की ताली

26 May 2020 | 4:45 PM

पटना 26 मई (वार्ता) मांगलिक कार्यों के दौरान लोगों के घरों में जा कर नाचने-गाने और आशीर्वाद देकर आजीविका कमाने वाले किन्नरों की तालियां लॉकडाउन में गुम हो गयी है।

see more..
कई कारोबारियों के बिजनेस पार्टनर है ‘ठाकुर’

कई कारोबारियों के बिजनेस पार्टनर है ‘ठाकुर’

25 May 2020 | 5:24 PM

मथुरा 25 मई (वार्ता) व्यापार को चमकाने के लिए ‘ठाकुर’ को ’बिजनेस पार्टनर’ बनाने की निराली परंपरा भक्तों द्वारा ब्रज के मंदिरों में लम्बे समय से अपनाई जा रही है।

see more..
महोबा में जागरूकता अभियान के साथ अनूठे अंदाज में मनाई गई आल्हा की जयंती

महोबा में जागरूकता अभियान के साथ अनूठे अंदाज में मनाई गई आल्हा की जयंती

25 May 2020 | 12:55 PM

महोबा, 25मई (वार्ता) उत्तर प्रदेश के महोबा में बारहवीं शताब्दी के महान योद्धा चंदेल सेनानायक, महाबली आल्हा की जयंती सोमवार को कोरोना जागरूकता अभियान के साथ अनूठे अंदाज में मनाई गई।

see more..
प्रकृति की खातिर हर साल 21 दिन का लॉकडाउन जरूरी: पर्यावरणविद

प्रकृति की खातिर हर साल 21 दिन का लॉकडाउन जरूरी: पर्यावरणविद

24 May 2020 | 4:01 PM

इटावा, 24 मई (वार्ता) कोरोना संक्रमण के चलते देशव्यापी लाकडाउन ने सरकार और आम आदमी की मुश्किलों में इजाफा किया है लेकिन आपदा की इस घड़ी ने प्रकृति के सौंदर्य को बरकरार रखने के लिये नियमित अंतराल में मानव दखलदांजी पर रोक लगाने को लेकर एक नयी बहस को जन्म दे दिया है।

see more..
लाकडाउन ने कछुओं को दिया वंश वृद्धि का मौका

लाकडाउन ने कछुओं को दिया वंश वृद्धि का मौका

22 May 2020 | 10:03 PM

इटावा 22 मई (वार्ता) वैश्विक महामारी कोविड-19 के कारण जारी लाकडाउन ने कलकल बहती चंबल नदी में विचरण करते दुर्लभ प्रजाति के कछुओं को सुरक्षित प्रजनन का मौका दे दिया है।

see more..
image