Wednesday, Sep 23 2020 | Time 05:04 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • फिलिस्तान में कोरोना संक्रमितों की संख्या 46,614 पर पहुंची
  • लेबनान में कोरोना के मामलों में वृद्धि
  • महाराष्ट्र में एक दिन में कोरोना के 18 हजार से अधिक नए मामले
  • संजीव कुमार सिंघल को मिला बिहार के डीजीपी का प्रभार
भारत


हरेन पांड्या हत्या के दोषियों की पुनर्विचार याचिकाएं खारिज

हरेन पांड्या हत्या के दोषियों की पुनर्विचार याचिकाएं खारिज

नयी दिल्ली, 21 नवंबर (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने गुजरात के पूर्व गृह मंत्री हरेन पांड्या की हत्या के दोषियों की पुनर्विचार याचिकाएं गुरुवार को खारिज कर दी।

न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा एवम् न्यायमूर्ति विनीत सरन की पीठ ने पांच जुलाई के अपने फैसले के खिलाफ 12 में से 10 दोषियों की पुनर्विचार याचिकाएं निरस्त कर दी।

सर्वोच्च अदालत ने 12 में से 10 दोषियों की ओर से दायर पुनर्विचार याचिकाओं को खारिज किया। अदालत ने कहा कि फैसले पर दोबारा से विचार करने कि मांग में कोई योग्यता नहीं है। फैसले में कोई कमी या खामी नहीं है।

वर्ष 2003 के हत्या मामले में उच्चतम न्यायालय के फैसले को पलटते हुए आरोपियों को उम्र कैद की सजा सुनाई थी। गुजरात उच्च न्यायालय साल 2003 के हरेन पांड्या हत्याकांड के सभी 12 आरोपियों को हत्या के आरोप से बरी कर दिया था।

गुजरात में नरेंद्र मोदी की सरकार के समय तत्कालीन गृह मंत्री हरेन पांड्या की 26 मार्च 2003 को अहमदाबाद के लॉ गार्डन इलाके में उस समय गोली मारकर हत्या कर दी गई थी, जब वे सुबह की सैर कर रहे थे। इस हत्या का आरोप 12 लोगों पर था।

उच्च न्यायालय ने इस मामले की सुनवाई में कहा था कि सीबीआई की जांच की दिशा स्पष्ट नहीं है। उच्च न्यायालय ने यह भी कहा था कि जांच के दौरान कुछ तथ्यों की अनदेखी की गई और बहुत कुछ छूट गया। हाईकोर्ट में मामला जाने से पहले सेशन कोर्ट ने आरोपियों को हत्या करने और आपराधिक साजिश रचने का दोषी माना था।

गौरतलब है कि हरेन पांड्या की हत्या उस वक्त हुई थी गुजरात में नरेंद्र मोदी की सरकार थी। उस समय आतंकवाद निरोधक कानून के तहत विशेष पोटा कोर्ट ने सभी आरोपियों को दोषी ठहराते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई थी। आरोपियों ने इस फैसले को उच्च न्यायालय में चुनौती दी थी।

वर्ष 2011 में 29 अगस्त को गुजरात उच्च न्यायालय ने सत्र अदालत के फैसले को पलट दिया और सभी आरोपियों को बरी कर दिया।

उच्च न्यायालय के इस फैसले के खिलाफ सीबीआई ने 2012 में सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था।

सुरेश.संजय

वार्ता

More News
जम्मू कश्मीर भाषा विधेयक पर बोले शाह, लोगों का सपना सच हुआ

जम्मू कश्मीर भाषा विधेयक पर बोले शाह, लोगों का सपना सच हुआ

22 Sep 2020 | 10:41 PM

नयी दिल्ली 22 सितम्बर (वार्ता) केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने आज कहा कि जम्मू कश्मीर आधिकारिक भाषा (संशोधन) विधेयक के लोक सभा में पारित होने से वहां के लोगों का बहुप्रतिक्षीत सपना सच हो गया है।

see more..
पारदर्शी, निष्पक्ष व्यापार व्यवस्था में है भारत का भरोसा: पीयूष

पारदर्शी, निष्पक्ष व्यापार व्यवस्था में है भारत का भरोसा: पीयूष

22 Sep 2020 | 10:34 PM

नयी दिल्ली 22 सितंबर (वार्ता) केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने श्रम आधारित उद्योगों पर बल देते हुए कहा है कि भारत पारदर्शी और निष्पक्ष बहुस्तरीय व्यापार व्यवस्था पर भरोसा करता है।

see more..
राजनीतिक नेतृत्व के बीच सहमति को जमीन पर लागू करेंगे भारत और चीन

राजनीतिक नेतृत्व के बीच सहमति को जमीन पर लागू करेंगे भारत और चीन

22 Sep 2020 | 10:24 PM

नयी दिल्ली 22 सितम्बर (वार्ता) भारत और चीन ने अग्रिम मोर्चों पर सैनिकों की संख्या नहीं बढाने, जमीनी हालात में बदलाव न करने तथा सीमा पर शांति एवं स्थिरता कायम करने वाले कदम उठाने पर सहमति व्यक्त की है।

see more..
कोरोना मामले 56 लाख के पार, 45.40 लाख स्वस्थ

कोरोना मामले 56 लाख के पार, 45.40 लाख स्वस्थ

22 Sep 2020 | 10:17 PM

नयी दिल्ली, 22 सितंबर (वार्ता) देश में कोरोना वायरस (कोविड-19) संक्रमण के मामलोें में लगातार बढ़ोतरी से संक्रमितोें की संख्या अब 56 लाख से अधिक हो गयी है जबकि नये मामलों की तुलना में रोगमुक्त लोगों की संख्या में मामूली अंतर रहा।

see more..
दबाव में सरकार ने घोेषित किया गेहूं का एमएसपी: कांग्रेस

दबाव में सरकार ने घोेषित किया गेहूं का एमएसपी: कांग्रेस

22 Sep 2020 | 9:48 PM

नयी दिल्ली, 22 सितम्बर (वार्ता) कांग्रेस ने कहा है कि सरकार कृषि संबंधी विधेयकों के पारित होने से किसानों की नाराजगी के कारण दबाव में आ गयी है और किसानों के गुस्से को देखते हुए उसने कम ही सही लेकिन आनन-फानन में गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य-एमएसपी घोषित किया है।

see more..
image