Tuesday, Jun 28 2022 | Time 04:55 Hrs(IST)
image
राज्य » राजस्थान


जन कल्याणकारी योजनाओं के तहत निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त करने के लिये किये जाए अथक प्रयास- धारीवाल

जन कल्याणकारी योजनाओं के तहत निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त करने के लिये किये जाए अथक प्रयास- धारीवाल

जयपुर, 13 मई (वार्ता) राजस्थान के शहरी निकाय मंत्री शान्ति धारीवाल ने कहा कि राज्य सरकार की जन कज्याणकारी योजनाओं को बेहतर ढंग से क्रियान्वयन करते हुये आमजन को राहत देने के लिये हर संभव प्रयास किये जाए।

जयपुर जिले के प्रभारी मंत्री श्री धारीवाल आज यहां कलक्ट्रेट सभागार में आयोजित बैठक के दौरान सरकार की फ्लैगशिप योजनाओं की प्रगति के बारे में समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने फ्लैगशिप योजनाओं के तहत निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त करने के लिये संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना का लाभ हर व्यक्ति को मिले, इसके लिए शत-प्रतिशत लोगों का पंजीयन कराये तथा अन्य निजी अस्पतालों को भी योजना से जोड़ें।

उन्होंने कहा कि योजनाओं से अनुबंधित निजी अस्पताल के बारे में किसी मरीज द्वारा शिकायत की जाए तो उसकी शिकायत पर गंभीरता से कार्यवाही किया जाना सुनिश्चित करें।

उन्होंने शुद्ध के लिये युद्ध अभियान के तहत की जा रही कार्यवाही के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी ली, जिस पर संबंधित अधिकारी ने बताया कि जिले में 4 टीमों द्वारा नमूने लिये जाते है जिन्हें जांच के लिये लैब में भेज दिया जाता है जिनकी रिपोर्ट 15 से 30 दिनों के बीच में आ जाती है।

रामसिंह

वार्ता

More News
अग्निपथ योजना के नाम पर युवाओं के साथ खिलवाड: जूली

अग्निपथ योजना के नाम पर युवाओं के साथ खिलवाड: जूली

27 Jun 2022 | 11:12 PM

अलवर 27 जून (वार्ता) राजस्थान के केबिनेट मंत्री टीकाराम जूली ने केन्द्र सरकार की अग्निपथ योजना को युवाओं के साथ कुठाराघात बताते हुए कहा है कि यह युवाओं को अग्निवीर नहीं बल्कि अग्नि में झोंक रहे हैं।

see more..
युवा विरोधी अग्निपथ योजना को वापस ले केन्द्र सरकार: पायलट

युवा विरोधी अग्निपथ योजना को वापस ले केन्द्र सरकार: पायलट

27 Jun 2022 | 11:12 PM

टोंक, 27 जून (वार्ता) राजस्थान के पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कहा कि केन्द्र की भाजपा सरकार भारतीय सेना की भर्ती प्रक्रिया में परिवर्तन करके जो ‘अग्निपथ‘ योजना लेकर आयी है, उसे भी काले कृषि कानूनों की तरह वापस लेना पडेगा।

see more..
image