Monday, Jul 15 2019 | Time 23:29 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सेल्फी लेने के चक्कर में छात्र की डूबकर मौत
  • सड़क दुर्घटना में युवती की मौत
  • कैनरा बैंक की शाखा से साढ़े तीन लाख की लूट, एक गिरफ्तार
  • पीएचईडी का जिला कॉर्डिनेटर रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार
  • नहीं रहे जाने-माने पत्रकार बादल सान्याल
  • सफेदपोश अपराधियों से सख्ती से निपटें : रघुवर
  • उत्तर कोरिया ने ताजिकिस्तान को हराया, भारत बाहर
  • उत्तर कोरिया ने ताजिकिस्तान को हराया, भारत बाहर
  • सड़कों की खुदाई एवं साफ सफाई को लेकर हाईकोर्ट सख्त
  • बिहार में बंद पड़ी 12 चीनी मिलों की जमीन बियाडा को शीघ्र : सुशील
  • लखनऊ में सड़को की खुदाई एवं साफ-सफाई को लेकर हाईकोर्ट सख्त
  • उप्र में लखनऊ ,मेरठ समेत कई स्थानों पर बारिश
  • बिहार में फिल्म ‘सुपर-30’ हुआ टैक्स फ्री
  • दौसा जिले में किसान फिर आंदोलन की राह पर
  • फीस वृद्धि के विरोध में छात्रों ने खट्टर की गाड़ी रोकने का प्रयास किया
राज्य


याद किये गये भारतरत्न पंडित गोविन्द बल्लभ पंत

याद किये गये भारतरत्न पंडित गोविन्द बल्लभ पंत

जौनपुर, 10 सितंबर (वार्ता) भारतरत्न गोविन्द बल्लभ पंत का 131 वां जन्मदिन सोमवार को यहां मनाया गया।

इस अवसर पर हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन आर्मी व लक्ष्मीबाई ब्रिगेड के कार्यकर्ताओ ने शहीद स्मारक पर महान स्वतंत्रता सेनानी श्री पंत के चित्र पर माल्यार्पण किया और उनके व्यक्तित्व तथा कृतित्व पर प्रकाश डाला।

शहीद स्मारक पर उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुए लक्ष्मीबाई ब्रिगेड के अध्यक्ष मंजीत कौर ने कहा कि उत्तर प्रदेश के पहले मुख्यमंत्री, महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, भारत रत्न पंडित गोविंद बल्लभ पंत का जन्म उत्तराखण्ड के अल्मोड़ा जिले के खूंट गांव मे 10 सितंबर 1887 को हुआ था।

इलाहाबाद विश्वविद्यालय से 1909 में कानून की परीक्षा पास की और काकोरी काण्ड के मुकदमें की पैरवी से उन्हें पहचान व प्रतिष्ठा मिली। 1937 में श्री पंत संयुक्त प्रान्त के प्रधान मंत्री बने और 1946 में उत्तर प्रदेश के पहले मुख्यमंत्री बने। 10 जनवरी 1955 को श्री पंत जी ने भारत के गृहमंत्री का पद सभाला था।

उन्होंने कहा कि देश में ऐसे क्रातिकारी नेताओं की सूची बहुत कम है, जिन्होंने राजनीति के साथ-साथ साहित्य और शिक्षा के क्षेत्र में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है ।

उत्तराखण्ड ने शिक्षा के क्षेत्र में जो भी उपलब्धियां हासिल की है, पंत जी ने उनकी आधार शिला रखी है। उन्होंने कहा कि पंत जी ने ही हिन्दी को राजकीय भाषा का दर्जा दिलाने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभायी थी। सात मार्च 1961 को श्री पंत का देहान्त हो गया।

सं प्रदीप

चौरसिया

वार्ता

More News
ईडी शारदा चिट फंड घोटाले में छह लोगों को समन

ईडी शारदा चिट फंड घोटाले में छह लोगों को समन

15 Jul 2019 | 11:27 PM

कोलकाता 15 जुलाई (वार्ता) प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शारदा चिट फंड घोटाला मामले में तृणमूल कांग्रेस सांसद शताब्दी रॉय और कुणाल घोष सहित छह व्यक्तियों को जांच अधिकारियों के समक्ष पेश होने का समन जारी किया है।

see more..
image