Tuesday, Sep 25 2018 | Time 22:10 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बीएचयू में तनावपूर्ण शांति, कक्षाएं निलंबित एवं छात्रावास खाली करने के आदेश
  • मौदहा में झांकिया निकालने को लेकर तनाव, पुलिस ने की हवाई फायरिंग
  • भारत-उज्बेकिस्तान संबंधों पर प्रदर्शनी शुरू
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • फिरोजाबाद में श्रद्वालुओं से भरी टैक्टर-ट्राली पलटी, पांच की मृत्यु
  • कश्मीर में पंचायत और यूएलबी चुनाव के लिए केन्द्रीय बलों की 400 कंपनियां होंगी तैनात : मुख्य सचिव
  • सीबीआई अदालत ने तीन अधिकारियाें सहित पांच लोगों को दी सश्रम कारावास की सजा
  • ताज मामला : दृष्टिपत्र सौंपने की समय सीमा एक माह बढ़ी
  • केंद्रीय मंत्री के दौरे से पहले आंगनवाड़ी केंद्र से मिले कीड़े वाले चने, जांच के आदेश
  • शहजाद के विस्फोटक शतक से अफगानिस्तान के 252
  • शहजाद के विस्फोटक शतक से अफगानिस्तान के 252
  • बासुकीनाथ धाम में बोल बम के जयकारों के साथ भादो मेला सम्पन्न
  • गुजरात के गिर वन एक और शेरनी की मौत, दो सप्ताह में 14 सिंहो की मौत
  • वसुन्धरा नेे राजस्थान को कर्ज में डुबोया-गहलोत
  • निजी स्कूल वाहनों में लगे जीपीएस व सीसीटीवी कैमरे: उच्च न्यायालय
राज्य Share

याद किये गये भारतरत्न पंडित गोविन्द बल्लभ पंत

याद किये गये भारतरत्न पंडित गोविन्द बल्लभ पंत

जौनपुर, 10 सितंबर (वार्ता) भारतरत्न गोविन्द बल्लभ पंत का 131 वां जन्मदिन सोमवार को यहां मनाया गया।

इस अवसर पर हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन आर्मी व लक्ष्मीबाई ब्रिगेड के कार्यकर्ताओ ने शहीद स्मारक पर महान स्वतंत्रता सेनानी श्री पंत के चित्र पर माल्यार्पण किया और उनके व्यक्तित्व तथा कृतित्व पर प्रकाश डाला।

शहीद स्मारक पर उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुए लक्ष्मीबाई ब्रिगेड के अध्यक्ष मंजीत कौर ने कहा कि उत्तर प्रदेश के पहले मुख्यमंत्री, महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, भारत रत्न पंडित गोविंद बल्लभ पंत का जन्म उत्तराखण्ड के अल्मोड़ा जिले के खूंट गांव मे 10 सितंबर 1887 को हुआ था।

इलाहाबाद विश्वविद्यालय से 1909 में कानून की परीक्षा पास की और काकोरी काण्ड के मुकदमें की पैरवी से उन्हें पहचान व प्रतिष्ठा मिली। 1937 में श्री पंत संयुक्त प्रान्त के प्रधान मंत्री बने और 1946 में उत्तर प्रदेश के पहले मुख्यमंत्री बने। 10 जनवरी 1955 को श्री पंत जी ने भारत के गृहमंत्री का पद सभाला था।

उन्होंने कहा कि देश में ऐसे क्रातिकारी नेताओं की सूची बहुत कम है, जिन्होंने राजनीति के साथ-साथ साहित्य और शिक्षा के क्षेत्र में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है ।

उत्तराखण्ड ने शिक्षा के क्षेत्र में जो भी उपलब्धियां हासिल की है, पंत जी ने उनकी आधार शिला रखी है। उन्होंने कहा कि पंत जी ने ही हिन्दी को राजकीय भाषा का दर्जा दिलाने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभायी थी। सात मार्च 1961 को श्री पंत का देहान्त हो गया।

सं प्रदीप

चौरसिया

वार्ता

More News

जसदेव के निधन पर वसुंधरा जताया शोक

25 Sep 2018 | 10:07 PM

 Sharesee more..
कश्मीर की वर्तमान समस्या कांग्रेस की समझौतावादी नीतियों का कारण-माधव

कश्मीर की वर्तमान समस्या कांग्रेस की समझौतावादी नीतियों का कारण-माधव

25 Sep 2018 | 10:03 PM

जयपुर, 25 सितम्बर (वार्ता) भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के महामंत्री एवं जम्मू कश्मीर के प्रभारी राम माधव कश्मीर की वर्तमान समस्या को कांग्रेस पार्टी की समझौतावादी नीतियों की देन बताते हुये कहा है कि यदि वर्ष 1916 में कांग्रेस के अधिवेशन में मुस्लिम लीग का विरोध किया होता तो देश का विभाजन नहीं होता।

 Sharesee more..
महराजगंज में घूस लेते लेखपाल गिरफ्तार

महराजगंज में घूस लेते लेखपाल गिरफ्तार

25 Sep 2018 | 10:02 PM

महराजगंज,25 सितम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश में महराजगंज की सदर तहसील के लेखपाल काे एंटी करप्सन की टीम ने घूस लेते गिरफ्तार किया है।

 Sharesee more..
image