Tuesday, Sep 29 2020 | Time 20:16 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ओलंपिक में शीर्ष चार में आ सकते हैं: दीपिका
  • महाराष्ट्र में कोरोना के 14976 नये मामले, 19212 स्वस्थ
  • असम समझौते के खंड 6 की रिपोर्ट पर ‘असहमति’:गोरखा
  • कोयला खदानों की ऑनलाइन बोली 30 सितंबर से शुरू
  • हिमाचल के कोरोना के कारण होम गार्ड की मौत
  • पटाखे फोड़ने पर दूल्हे के खिलाफ मामला दर्ज
  • गोरखपुर पुलिस ने दो इनामी बदमाशों को किया गिरफ्तार
  • नडाल जीते, प्लिसकोवा का करना पड़ा संघर्ष, मेदवेदेव बाहर
  • आंध्र में कोरोना रिकवरी दर 90 फीसदी के पार
  • कोयला खदानों की ऑनलाइन बोली 30 सितंबर से शुरू
  • सोनीपत जिले में मतदाताओं की संख्या 1086300 हुई
  • पुलिस महानिदेशक स्तर के आईपीएस अधिकारी पुरुषोत्तम शर्मा निलंबित
  • उद्योगजगत के लिए कोविड-19 सुरक्षित कार्यस्थल दिशा-निर्देश जारी
  • पाक सीमा पर मिला टैग लगा संदिग्ध हुबारा बर्ड़
  • 23 कोयला खदानों के लिए 46 कंपनियों ने लगायी बोली
India


प्रख्यात विदुषी एवं कलाविद् कपिला वात्स्यायन नहीं रहीं

प्रख्यात विदुषी एवं कलाविद्  कपिला वात्स्यायन नहीं रहीं

नयी दिल्ली 16 सितम्बर (वार्ता) पद्मविभूषण से सम्मानित देश की प्रख्यात कलाविद् एवं राज्यसभा की पूर्व मनोनीत सदस्य कपिला वात्स्यायन का बुधवार को यहां निधन हो गया। वह 91 वर्ष की थीं।
श्रीमती वात्स्यायन के निधन से कला जगत में शोक की लहर है। वह हिंदी के यशस्वी दिवंगत साहित्यकार सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन "अज्ञेय" की पत्नी थीं और साठ के दशक में अपने पति से तलाक के बाद वह एकाकी जीवन व्यतीत कर रही थीं।
प्रख्यात संस्कृति कर्मी अशोक वाजपेयी ने उनके निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए कहा है कि श्रीमती वात्स्यायन एक महान विदुषी थी और विलक्षण प्रतिभा की थीं। उन्होंने सहित्य कला और संस्कृति के संवर्धन तथा विकास के लिए ऐतिहासिक कार्य किया ।वह अपने आप मे एक संस्था थीं और कला से जुड़ी संस्थाओं का निर्माण किया तथा कलाकारों के बीच संवाद कायम करने में एक सेतु का काम किया। उनका निधन मेरे लिए व्यक्तिगत क्षति है।
पच्चीस दिसंबर 1928 काे जन्मी कपिला वात्स्यायन राष्ट्रीय आंदोलन की प्रसिद्ध लेखिका सत्यवती मलिक की पुत्री थीं। वह संगीत नृत्य और कला की महान विदुषी थीं। उनकी शिक्षा दीक्षा दिल्ली बनारस हिंदू विश्वविद्यालय और अमेरिका के मिशिगन विश्वविद्यालय में हुई थी।
संगीत नाटक अकादमी फेलो रह चुकी कपिला जी प्रख्यात नर्तक शम्भू महाराज और प्रख्यात इतिहासकार वासुदेव शरण अग्रवाल की शिष्या भी थीं।
वह राज्यसभा के लिए 2006 में मनोनीत सदस्य नियुक्त की गई थीं और लाभ के पद के विवाद के कारण उन्होंने राज्यसभा की सदस्यता त्याग दी थी। इसके बाद वह दोबारा फिर राज्यसभा की सदस्य मनोनीत की गई थीं।
संपादक, कृपया शेष पूर्व प्रेषित से जोड़ लें...
अरविंद, यामिनी
वार्ता

More News
भारत की गिलगित-बाल्टिस्तान में चुनाव कराने की घोषणा पर आपत्ति

भारत की गिलगित-बाल्टिस्तान में चुनाव कराने की घोषणा पर आपत्ति

29 Sep 2020 | 8:02 PM

नयी दिल्ली 29 सितम्बर (वार्ता) भारत ने पाकिस्तान की गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र में चुनाव कराने की योजना पर यह कहते हुए आपत्ति जतायी है कि पड़ोसी देश अपने अवैध कब्जे वाले क्षेत्रों में कोई बदलाव नहीं कर सकता।

see more..
उद्योगजगत के लिए कोविड-19 सुरक्षित कार्यस्थल दिशा-निर्देश जारी

उद्योगजगत के लिए कोविड-19 सुरक्षित कार्यस्थल दिशा-निर्देश जारी

29 Sep 2020 | 7:52 PM

नयी दिल्ली 29 सितंबर (वार्ता) केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री हर्षवर्धन ने मंगलवार को कोरोना वायरस कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए उद्योग जगत के लिए सुरक्षित कार्यस्थल दिशा-निर्देश जारी करते हुए कहा कि श्रमिक सिर्फ अपनी रोजी रोटी के लिए काम नहीं करते बल्कि वे देश के निर्माण के लिए कार्य करते हैं।

see more..
राजनाथ ने लॉन्च किया ‘रक्षा भारत स्टार्टअप चैलेंज’

राजनाथ ने लॉन्च किया ‘रक्षा भारत स्टार्टअप चैलेंज’

29 Sep 2020 | 7:33 PM

नयी दिल्ली 29 सितंबर (वार्ता) रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को ‘रक्षा भारत स्टार्टअप चैलेंज’ (डीआईएससी4) की शुरुआत की और रक्षा तंत्र को मजबूत बनाने में निजी क्षेत्र के महत्त्व को रेखांकित किया।

see more..
झुग्गी बस्तियों और अन्य शहरी इलाकों में कोरोना संक्रमण अधिक

झुग्गी बस्तियों और अन्य शहरी इलाकों में कोरोना संक्रमण अधिक

29 Sep 2020 | 7:33 PM

नयी दिल्ली, 29 सितंबर (वार्ता) भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के महानिदेशक प्रोफेसर बलराम भार्गव ने आज बताया कि देश के ग्रामीण इलाकों की तुलना में शहरी इलाकों की झुग्गी बस्तियों तथा अन्य इलाकाें में रहने वाले लोग अधिक संख्या में कोरोना वायरस ‘कोविड-19’ से संक्रमित हुए।

see more..
image