Friday, Jun 22 2018 | Time 09:01 Hrs(IST)
image
image
BREAKING NEWS:
  • तेलंगाना में सड़क हादसे में चार लोगों की मौत
  • अमेरिका का कारोबारी संरक्षणवाद ‘पागलपन’ का लक्षण
  • ट्रंप की विदेश नीति से यूरोप होगा सशक्त
  • ट्रंप की विदेश नीति से यूरोप होगा सशक्त
  • संपूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण की शुरुआत हो चुकी : ट्रंप
  • यूरोप पहुंचने के प्रयास में लीबिया तटों पर 220 विस्थापित डूबे
  • अमेरिका की सीमा नीति ‘सख्त’ होनी चाहिए: ट्रंप
  • मेलेनिया ट्रंप ने हिरासत में लिए गये विस्थापित बच्चों से की मुलाकात
  • क्रोएशिया ने मैसी की अर्जेंटीना को 3-0 से पीटा
  • क्रोएशिया ने मैसी की अर्जेंटीना को 3-0 से पीटा
  • आधुनिक चिकित्सा पद्धति के साथ योग व आयुर्वेद को अपनाने की जरुरत: मोदी
  • अमेरिका विस्थापित अभिभावकों के मुकदमों पर रोक लगायेगा
  • सीरिया के देरा में हमले चिंताजनक: सं रा
Parliament Share

प्यारी मोहन महापात्रा को दी राज्यसभा ने भावभीनी श्रद्धांजलि

प्यारी मोहन महापात्रा को दी राज्यसभा ने भावभीनी श्रद्धांजलि

नयी दिल्ली 20 मार्च (वार्ता) राज्यसभा ने आज अपने पूर्व सदस्य प्यारी मोहन पात्रा को भावभीनी श्रद्धांजलि दी। श्री महापात्रा का निधन कल देर शाम मुंबई के एक अस्पताल में 77 वर्ष की आयु में हो गया। सभापति हामिद अंसारी ने सुबह सदन की कार्यवाही शुरू होने के बाद सदन को इसकी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि श्री महापात्रा के निधन से देश ने एक योग्य सांसद, समाज सेवक और प्रशासक खो दिया है। सदन ने श्री महापात्रा की याद में मौन भी रखा। श्री अंसारी ने बताया कि श्री महापात्रा का जन्म 1940 को ओडिशा के कटक के अंगुल में हुआ। उनकी शिक्षा दीक्षा कटक, इलाहाबाद और लंदन में हुई। लगभग 40 वर्ष के सार्वजनिक जीवन में उन्होंने बच्चों, महिलाओं और आदिवासी समाज के कल्याण के लिए अथक प्रयास किए। वह वर्ष 2004 से 2010 और वर्ष 2010 से 2016 तक राज्यसभा के सदस्य थे। वह संसद की विभिन्न समितियों के सदस्य भी रहे। श्री महापात्रा को ‘ओडिशा का चाणक्य’ भी कहा जाता है। उन्होंने बीजू जनता दल के गठन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। फिलहाल वह ओडिशा जन मोर्चा से जुडे थे। सत्या वार्ता

More News
हंगामे की भेंट चढ़ा संसद के बजट सत्र का दूसरा चरण

हंगामे की भेंट चढ़ा संसद के बजट सत्र का दूसरा चरण

06 Apr 2018 | 3:51 PM

नयी दिल्ली 06 अप्रैल (वार्ता) संसद के बजट सत्र का दूसरा चरण पूरी तरह विपक्ष के हंगामें की भेंट चढ़ गया और दोनों सदनों में किसी भी मुद्दे तथा विधेयक पर चर्चा नहीं हो पायी और एक दिन भी प्रश्नकाल एवं शून्यकाल नहीं हो सका।

 Sharesee more..

06 Apr 2018 | 1:29 PM

 Sharesee more..

06 Apr 2018 | 1:25 PM

 Sharesee more..

06 Apr 2018 | 1:11 PM

 Sharesee more..
image