Sunday, Oct 21 2018 | Time 15:49 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • विदेशी मुद्रा भंडार 5 14 अरब डॉलर घटा
  • एचसीआई को केंद्र द्वारा खारिज करने से छिड़ी बहस
  • विदेशी चश्मे की बजाय देशी चश्मे से देखे भारत को: मोदी
  • स्मृति दिवस पर शहीद सैन्य और पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि दी
  • कार-मोटरसाइकिल की भिड़ंत में एक की मौत
  • राहुल किसान सम्मेलन से कल छत्तीसगढ़ में करेंगे प्रचार अभियान शुरू
  • दक्षिण गुजरात की दवा कंपनी में आग
  • हादसे के पीड़ितों के पुनर्वास के लिए सामाजिक-आर्थिक स्थिति का विवरण तैयार करने के निर्देश
  • दक्षिण कश्मीर में विस्फोट तीन मरे, कईं घायल
  • वायुसेना के लड़ाकू विमानों ने दिखाये हैरतअंगेज करतब
  • भाजपा का 'समृद्ध मध्यप्रदेश अभियान' प्रारंभ
  • भाजपा ने फिर सत्ता में वापसी के लिए की पिछड़ो को साधने की कोशिश
  • महाराष्ट्र में रिश्वत लेने के आरोप में अधिकारी का सहयोगी गिरफ्तार
  • कश्मीर राजमार्ग पर एक ओर से यातायात शुरू
  • इजरायली पुलिस ने यरूशलम के गवर्नर काे गिरफ्तार किया
बिजनेस Share

रुपये की चाल,कच्चे तेल की कीमते और वैश्विक परिदृश्य तय करेंगे शेयर बाजार की दिशा

रुपये की चाल,कच्चे तेल की कीमते और वैश्विक परिदृश्य तय करेंगे शेयर बाजार की दिशा

मुम्बई 09 सितंबर (वार्ता) विदेशी बाजारों से मिले नकारात्मक संकेतों के बीच वैश्विक पटल पर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की नीतियों को लेकर जारी चिंता और देश में विनिर्माण तथा सेवा क्षेत्र की सुस्त पड़ी रफ्तार तथा डॉलर की तुलना में भारतीय मुद्रा की गिरावट से हतोत्साहित निवेशकों की बिकवाली के दबाव में बीते सप्ताह बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 255.25 अंक लुढ़ककर 38,389.82 अंक पर और एनएसई का निफ्टी 91.40 अंक लुढ़ककर 11,589.10 अंक पर बंद हुआ।

आगामी सप्ताह बाजार पर भारतीय मुद्रा की स्थिति, कच्चे तेल की कीमतों, मानसून की चाल और वैश्विक संकेतों का असर रहेगा। बीते सप्ताह जारी हुये अमेरिका के मजबूत रोजगार आंकड़े भी शेयर बाजार को प्रभावित करेंगे। आलोच्य सप्ताह के दौरान डॉलर की तुलना में रुपया रिकॉर्ड निचले स्तर तक लुढ़का और पेट्रोल, डीजल की कीमतें भी नये उच्चतम स्तर पहुंच गयीं। रुपये की गिरावट और कच्चे तेल में उबाल से निवेशकों का भरोसा जोखिम भरे निवेश से डगमगाता है।

वैश्विक मंच पर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की नीतियों को लेकर कंपनियां और कई देश चिंता में हैं। श्री ट्रंप ने चीन के खिलाफ जिस तरह व्यापारिक युद्ध का बिगुल छेड़ दिया है उसे देखते हुये अन्य देशों को इसकी चपेट में आने की आशंका लग रही है। उथलपुथल के इस माहौल में निवेशक जोखिम भरे निवेश की जगह सुरक्षित निवेश को तरजीह देने लगते हैं। अमेरिका के मजबूत रोजगार आंकड़े फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दर बढाये जाने की गति का संकेत देते हैं। ब्याज दर बढ़ने की स्थिति में भी निवेशक शेयर बाजार में पूंजी लगाने में कोताही बरतने लगते हैं।

समीक्षाधीन सप्ताह के दौरान बाजार पर कई कारकों का दबाव रहा। रुपये की गिरावट और कच्चे तेल के भाव में बढोतरी के अलावा सेवा क्षेत्र और विनिर्माण क्षेत्र की सुस्त पड़ी रफ्तार की खबरों ने भी निवेशकों के भरोसे को कम किया। इसके अलावा मुनाफावसूली की वजह से भी बाजार को साप्ताहिक गिरावट झेलनी पड़ी।

दिग्गज कंपनियों की तरह छोटी और मंझोली कंपनियों पर भी बीते सप्ताह बिकवाली का दबाव रहा। बीएसई का मिडकैप सप्ताह के दौरान 376.47 अंक यानी 2.23 प्रतिशत फिसलकर 16,504.86 अंक पर और स्मॉलकैप 296.25 अंक यानी 1.72 प्रतिशत घटकर 16,896.95 अकं पर बंद हुआ।

अर्चना

जारी वार्ता

More News

21 Oct 2018 | 3:13 PM

 Sharesee more..
एनबीएफसी,भारतीय मुद्रा और तिमाही परिणामों पर रहेगी निवेशकों की नजर

एनबीएफसी,भारतीय मुद्रा और तिमाही परिणामों पर रहेगी निवेशकों की नजर

21 Oct 2018 | 1:35 PM

मुम्बई 21 अक्टूबर (वार्ता) यस बैंक,मारुति और रिलायंस जैसी दिग्गज कंपनियों में हुई बिकवाली के दबाव में बीते सप्ताह गिरावट में रहने वाले घरेलू शेयर बाजार की दिशा आगामी सप्ताह भारतीय मुद्रा की चाल,कच्चे तेल की कीमतों, गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) में तरलता की स्थिति तथा कंपनियों के तिमाही परिणामों से तय होगी।

 Sharesee more..

21 Oct 2018 | 1:13 PM

 Sharesee more..

21 Oct 2018 | 1:05 PM

 Sharesee more..
image