Wednesday, Nov 14 2018 | Time 17:23 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • राम नाईक ने उच्च न्यायालय के नवनियुक्त मुख्य न्यायाधीश को दिलायी शपथ
  • शौरी का नाबाद शतक, दिल्ली ने हिमाचल को दिया 376 का लक्ष्य
  • पाकिस्तान चार राज्य नहीं संभाल सकता, कश्मीर क्या लेगा: अफरीदी
  • सहकारिता अमीरों और गरीबों के बीच खाई पाटे :राधामोहन
  • सहकारिता अमीरों और गरीबों के बीच खाई पाटे :राधामोहन
  • सहकारिता अमीरों और गरीबों के बीच खाई पाटे :राधामोहन
  • मारुति अर्टिगा के नये अवतार की बुकिंग शुरु 21 को बाजार में
  • श्रीलंका में अविश्वास प्रस्ताव को लेकर विरोधी दलों में तकरार
  • सेंसेक्स ढाई अंक और निफ्टी छह अंक फिसला
  • राजनीति इनेलो-अजय निष्कासित दो अंतिम चंडीगढ़
  • ‘प बंगाल में कोई ताकत न रखने वाला दल राज्य का नाम तय कर सकता है?’
  • एनजीटी ने पंजाब पर ठोंका 50 करोड़ रुपए जुर्माना
  • शिवभक्त नहीं, बगुला भगत हैं राहुल गांधी:भाजपा
  • मुजफ्फरनगर मण्डी में गुड़ एवं चीनी के भाव
  • समुद्री उत्पाद का निर्यात 95 प्रतिशत बढा
राज्य Share

एससी/एसटी कानून के दुरूपयोग की इजाजत नही : योगी

एससी/एसटी कानून के दुरूपयोग की इजाजत नही : योगी

गोण्डा 6 सितम्बर (वार्ता ) उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) धर्म और जाति के नाम पर समाज को बांटने की राजनीति नहीं करती और जाति विशेष को सरंक्षण देने के कानून के दुरूपयोग की कतई इजाजत नही दी जायेगी।

तरबगंज तहसील क्षेत्र में सरयू नदी की बाढ़ से मची तबाही का निरीक्षण और बाढ़ पीड़ितों को राहत सामग्री वितरित करने बाबामठ परिसर में आये श्री योगी ने कहा कि भाजपा धर्म,जाति और मजहब के नाम पर समाज को बांटने के पक्षधर नही है। सभी को संरक्षण देने के लिये कानून बनाया गया है हालांकि किसी को कानून का दुरुपयोग कतई नही करने दिया जायेगा।

एससी/एसटी एक्ट के विरोध में सवर्णों द्वारा बुलाये गये भारत बंद के सवाल पर उन्होने कहा कि भारत बंद का कोई औचित्य नही है। भाजपा सरकार देश के प्रत्येक नागरिक की सुरक्षा ,उसकी समृद्धि , खुशहाली के लिये प्रतिबद्ध है। संविधान में सभी को अपनी बात रखने का समान अधिकार है।

मुख्यमंत्री ने बाढ़ पीड़ित 50 परिवारों को राहत सामग्री बांटी। उन्होने पीड़ितों को संबोधित करते हुये कहा कि बाढ़ आपदा में राहत के लिये सरकार युद्ध स्तर पर कार्य कर रही है। सरकार ने आपदा में बेघर हुये 1244 पीड़ित और 188 वनटांगिया परिवारों को मुख्यमंत्री आवास के लिये पहली किश्त जारी कर दी है। क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि भी राहत कार्यो में लगे है।

श्री योगी ने पिछली सरकारों को आड़े हाथों लेते हुये कहा कि पिछली सरकारों के कार्यकाल में आपदा पीड़ितों को दिखावे के नाम पर मात्र दो किलो राशन ही मिलता था लेकिन अब राहत पैकेट पहले से ही तैयार कर लिये गये है। उन्होने कहा कि सरकार विषैले जंतुओं के काटने से मृत्यु पर चार लाख रूपये मुआवजा दे रही है। बाढ़ राहत कार्य में लापरवाही बरतने वाले अधिकारी दंडित किये जायेंगे।

सं प्रदीप

वार्ता

image