Sunday, May 26 2019 | Time 04:25 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मतदाताओं और कार्यकर्ता का धन्यवाद करने वायनाड जायेंगे राहुल
  • जगनमोहन शपथग्रहण से पहले मोदी से मिलेंगे
विशेष » कैरियर


बैंकिंग क्षेत्र में अवसरों की भरमार

बैंकिंग क्षेत्र में अवसरों की भरमार

(अशोक सिंह)

नयी दिल्ली, 31 मई (वार्ता) देश में बड़ी संख्या में युवाओं को रोजगार देने वाले सेक्टर के रूप में बैंकिंग इंडस्ट्री का महत्वपूर्ण स्थान है।

देश के दूरदराज के इलाकों में बैंकों की नई शाखाएं खुलने तथा प्रति वर्ष लगभग 40-50 हज़ार बैंक कर्मियों के रिटायर होने अथवा स्वैच्छिक सेवा अवकाश लेने के कारण इस क्षेत्र में नियुक्तियां करने की प्रक्रिया निरन्तर चलती रहती है। युवाओं में आज भी बैंकिंग जॉब्स का आकर्षण बना हुआ है। यह इस बात से सिद्ध हो जाता है कि प्रति वर्ष लाखों नहीं बल्कि करोड़ों की संख्या में युवा बैंकिंग चयन परीक्षाओं में शामिल होते हैं। इन्हीं प्रतियोगी परीक्षाओं के माध्यम से बैंकों में क्लर्क और अधिकारी वर्ग की रिक्तियों को भरा जाता है।

वर्तमान बैंकिंग परिदृश्य :- देश की विशाल आबादी की ही तरह भारतीय बैंकिंग क्षेत्र भी व्यापक है। इसका नेटवर्क देश के लगभग साढ़े पांच लाख गाँवों को अपनी परिधि में किसी न किसी रूप में अवश्य लिए हुए है। इस विस्तृत बैंकिंग ढांचे के अंतर्गत 27 पब्लिक सेक्टर बैंक, 22 प्राइवेट बैंक, 44 विदेशी बैंक, 56 रीजनल रूरल बैंक, 1589 शहरी को-ऑपरेटिव बैंक, 93550 ग्रामीण को-ऑपरेटिव बैंक शामिल हैं।

बैंकिंग क्षेत्र के लिए व्यक्तिगत गुण :-ऑफिस जॉब और जीवन में स्थिरता चाहने वाले युवाओं के लिए बैंकिंग सेक्टर एक बेहतर और उपयुक्त करिअर ऑप्शन माना जा सकता है। इस क्षेत्र में बेहतर प्रदर्शन करने के लिए ज़रूरी है कि युवा में मैथ्स के साथ एकाउंटिंग में रुचि हो। पब्लिक डीलिंग का प्रावधान होने की वजह से धैर्यवान और गुस्से से कोसों दूर रहने जैसे गुण भी काफी उपयोगी कहे जा सकते हैं।

बैंकिंग चयन परीक्षाएं :- इंस्टिट्यूट ऑफ़ बैंकिंग पर्सनल सलेक्शन (आई बी पी एस) द्वारा देश भर के बैंकों की रिक्तियों को भरने के लिए प्रतियोगी परीक्षाओं का आयोजन किया जाता है। इन परीक्षाओं के लिए आवेदन से लेकर परीक्षा के पैटर्न आदि के बारे में आई बी पी एस की वेबसाईट से अधिकृत जानकारी हासिल की जा सकती है। इस संस्थान द्वारा आयोजित बैंकिंग परीक्षाओं में 2016-17 के दौरान लगभग 1.51 करोड़ प्रत्याशियों ने अखिल भारतीय स्तर पर रजिस्ट्रेशन कराया था। इस तथ्य से इसकी क्षमता का सहज ही अंदाज़ा हो जाता है। स्टेट बैंक ऑफ़ इण्डिया और इससे सम्बद्ध बैंकों की रिक्तियों को भरने के लिए एस बी आई द्वारा स्वयं चयन प्रक्रिया का संचालन किया जाता है।

बैंकिंग परीक्षाओं के पैटर्न :- क्लर्क और प्रोबेशनरी ऑफिसर के पदों की रिक्तियों को भरने के लिए बुनियादी तौर पर दो तरह के बैंकिंग एग्जाम्स का आयोजन किया जाता है। क्लेरिकल पदों के एग्जाम में इंग्लिश लैंग्वेज, न्यूमेरिकल एबिलिटी, रीजनिंग, कम्यूटर एप्टीच्यूड, बैंकिंग/फाइनेंस इत्यादि पर आधारित प्रश्न पूछे जाते हैं। प्रोबेशनरी ऑफिसर की रिक्तियों को भरने के लिए आयोजित परीक्षा में तीन स्तर पर चयन प्रक्रिया का आयोजन किया जाता है। इनमें प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा और इंटरव्यू शामिल हैं। दोनों ही पदों के लिए न्यूनतम शैक्षिक योग्यता ग्रेजुएशन ही है।

जॉब्स के प्रकार :- प्रोबेशनरी ऑफिसर (पी ओ) पर बैंक शाखा के प्रबंधन से लेकर अन्य प्रकार के समन्वयन सम्बंधित कार्यों का जिम्मा होता है और क्लर्क कैडर के कर्मियों द्वारा पब्लिक डीलिंग का काम मुस्तैदी से सम्हाला जाता है। मात्र तीन -चार वर्षों के बाद ही ये कर्मी भी पी ओ वर्ग की श्रेणी में प्रोन्नति पाकर पहुँच जाते हैं। इसके अतिरिक्त बैंकिंग इंडस्ट्री में विभागीय परीक्षाओं का समय-समय पर आयोजन किया जाता है। इन परीक्षाओं में बेहतर प्रदर्शन कर समय से पूर्व प्रमोशन भी लिया जा सकता है।

बैंकिंग स्पेशियलिस्ट ऑफिसर :- बैंकिंग सेक्टर में बहुसंख्यक कर्मी पी ओ और क्लेरिकल वर्ग के ही होते हैं,परन्तु इनके अलावा ख़ास विधाओं में ट्रेंड कर्मियों की भी सभी बैंकों द्वारा नियुक्तियां की जाती हैं। इनमें इन्फोर्मेशन टेक्नोलोजी ऑफिसर(आई टी डिग्रीधारक) , एग्रीकल्चरल फील्ड ऑफिसर(एग्रीकल्चर साइंस में ग्रेजुएट), ह्युमन रिसोर्स ऑफिसर (ह्युमन रिसोर्स में एम बी ए/पर्सोनल मैनेजमेंट में पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा), लॉ ऑफिसर(एल एल बी डिग्रीधारक), मार्केटिंग ऑफिसर (मार्केटिंग की विधा में ट्रेंड), राजभाषा अधिकारी(हिंदी में एम् ए) आदि का खास तौर पर उल्लेख किया जा सकता है। इनके पदनामों से ही इनके कार्यकलापों के महत्त्व को समझा जा सकता है।

सैलरी :- बैंकिंग इंडस्ट्री की सैलरी और इनके भत्तों को एक समय में काफी आकर्षक माना जाता था लेकिन वेतनमानों में मुद्रास्फीति की बढ़ती दरों के अनुसार संशोधन नहीं होने के कारण अब इनका आकर्षण कुछ कम हुआ है। बैंक कर्मी लगातार इस दिशा में संघर्षरत हैं और उम्मीद की जाती है कि निकट भविष्य में बैंकिंग इंडस्ट्री के वेतनमानों को बेहतर बनाने की दिशा में ठोस कदम उठाये जा सकते हैं। इसके बावजूद करिअर निर्माण और स्थाई जॉब की दृष्टि से यह क्षेत्र अभी भी युवाओं की प्राथमिकताओं में काफी ऊपर है।

More News
बैंकिंग क्षेत्र में अवसरों की भरमार

बैंकिंग क्षेत्र में अवसरों की भरमार

31 May 2018 | 12:34 PM

(अशोक सिंह) नयी दिल्ली, 31 मई (वार्ता) देश में बड़ी संख्या में युवाओं को रोजगार देने वाले सेक्टर के रूप में बैंकिंग इंडस्ट्री का महत्वपूर्ण स्थान है।

see more..
नवीकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में बढ़ते जॉब्स के अवसर

नवीकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में बढ़ते जॉब्स के अवसर

25 May 2018 | 2:00 PM

नयी दिल्ली 24 मई (वार्ता) देश में तेजी से विकसित हो रहे नवीकरणीय उर्जा क्षेत्र में 2030 तक दो करोड़ 40 लाख लोगों के लिए रोज़गार के अवसर उपलब्ध होंगे जबकि 2017 तक एक करोड़ से अधिक ऐसे जॉब्स का सृजन किया जा चुका है।

see more..
ऑटोमोबाइल सेक्टर में जॉब्स के बढ़ते मौके

ऑटोमोबाइल सेक्टर में जॉब्स के बढ़ते मौके

17 May 2018 | 11:42 AM

(अशोक सिंह) नयी दिल्ली, 17 मई (वार्ता) देश का आटोमोबाइल उद्योग जिस तेजी से आगे बढ़ रहा है उससे इसके 2030 तक दुनिया में तीसरे स्थान पर पहुंच जाने का अनुमान लगाया जा रहा है। इस सेक्टर में हो रही तेज प्रगति से रोजगार के अवसर भी बढ़ रहे हैं तथा आने वाले समय में इसमें और बढ़ोत्तरी होने की अच्छी संभावनायें हैं।

see more..
दसवीं के बाद उपयुक्त स्ट्रीम का चयन जरुरी

दसवीं के बाद उपयुक्त स्ट्रीम का चयन जरुरी

10 May 2018 | 2:26 PM

नयी दिल्ली 10 मई (वार्ता) दसवीं बोर्ड परीक्षा के परिणाम आने वाले हैं। गत वर्षों की तरह ही इस वर्ष भी सीबीएसई बोर्ड्स में 16 लाख से अधिक छात्रों ने रजिस्ट्रेशन करवाया था। इसके अलावा अन्य राज्यों के बोर्ड्स के माध्यम से भी लाखों की संख्या में युवाओं ने दसवीं की परीक्षा दी है।

see more..
सही रणनीति से सिविल सर्विस परीक्षा में पाएं सफलता

सही रणनीति से सिविल सर्विस परीक्षा में पाएं सफलता

03 May 2018 | 4:23 PM

नयी दिल्ली, 03 मई (वार्ता) देश की शीर्ष संघ लोक सेवा या यूनियन सिविल सर्विस में सफल करिअर बनाने का ज्यादातर युवाओं का सपना होता है लेकिन गिने-चुने युवा ही अपनी अथक मेहनत और प्रतिभा के बल पर इनमें स्थान बना पाते हैं।

see more..
image