Wednesday, Jan 29 2020 | Time 10:12 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ब्राजील में बाढ़ से 52 लोगों की मौत
  • चीन में कोरोनावायरस से मरने वालों की संख्या हुई 132
  • जापान में भूकंप के तेज झटके
  • माली में हिंसा से दो लाख लोग विस्थापित : संरा प्रवक्ता
  • दुनियाभर में कोरोना वायरस के 4593 मामलों की पुष्टि
  • यरूशलेम में इजरायली बलों के साथ झड़पों में 12 फिलिस्तीनी घायल
  • इराक में सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी
  • क्यूबा में भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए
  • हमास ने अमेरिका के शांति समझौते को खारिज किया
  • जमैका में महसूस किए गए भूकंप के तेज झटके
  • कोरोना वायरस का तेल बाजार पर असर को लेकर सऊदी ने की चर्चा
  • सीएआर में सशस्त्र समूह के दो ग्रुप के बीच भिड़ंत में दर्जनों की मौत
  • चिली में महसूस किए गए भूकंप के झटके
  • उत्तरी सेना कमांडर रनबीर ने मुर्मु से की मुलाकात
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


स्मिता पाटिल ने समानांतर फिल्मों को नया आयाम दिया

स्मिता पाटिल ने समानांतर फिल्मों को नया आयाम दिया

.. पुण्यतिथि 13 दिसंबर  ..
मुंबई 12 दिसंबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा के नभमंडल में स्मिता पाटिल ऐसे ध्रुवतारे की तरह है जिन्होंने अपने सशक्त अभिनय से समानांतर सिनेमा के साथ-साथ व्यावसायिक सिनेमा में भी दर्शकों के बीच अपनी खास पहचान बनायी ।

सत्रह अक्तूबर 1955 को पुणे शहर में जन्मी स्मिता ने अपनी स्कूल की पढ़ाई महाराष्ट्र से पूरी की ।
उनके पिता शिवाजी राय पाटिल महाराष्ट्र सरकार में मंत्री थे जबकि उनकी मां समाज सेविका थी।
कॉलेज की पढ़ाई पूरी करने के बाद वह मराठी टेलीविजन में बतौर समाचार वाचिका काम करने लगी ।
इसी दौरान उनकी मुलाकात जाने माने निर्माता. निर्देशक श्याम बेनेगल से हुयी।
बेनेगल उन दिनों अपनी फिल्म ..चरण दास चोर ..बनाने की तैयारी में थे ।

बेनेगल ने स्मिता में एक उभरता हुआ सितारा दिखाई दिया और अपनी फिल्म ..चरण दास चोर ..में उन्हें एक छोटी सी भूमिका निभाने का अवसर दिया ।
भारतीय सिनेमा जगत में चरण दास चोर को ऐतिहासिक फिल्म के तौर पर याद किया जाता है क्योंकि इसी फिल्म के माध्यम से बेनेगल और स्मिता के रूप में कलात्मक फिल्मों के दो दिग्गजों का आगमन हुआ ।

बेनेगल ने स्मिता के बारे मे एक बार कहा था, “ मैंने पहली नजर में ही समझ लिया था कि स्मिता में गजब की स्क्रीन उपस्थिति है और जिसका उपयोग रूपहले पर्दे पर किया जा सकता है ।
फिल्म ..चरण दास चोर .. हालांकि बाल फिल्म थी लेकिन इस फिल्म के जरिये स्मिता ने बता दिया था कि हिंदी फिल्मों मे खासकर यथार्थवादी सिनेमा में एक नया नाम स्मिता पाटिल के रूप में जुड़ गया है ।

इसके बाद वर्ष 1975 मे बेनेगल की ही निर्मित फिल्म ..निशांत.. मे स्मिता को काम करने का मौका मिला ।
वर्ष 1977 स्मिता के सिने कैरियर में अहम पड़ाव साबित हुआ ।
इस वर्ष उनकी भूमिका और मंथन जैसी सफल फिल्में प्रदर्शित हुयी।
दुग्ध क्रांति पर बनी फिल्म ..मंथन ..में स्मिता के अभिनय ने नये रंग दर्शको को देखने को मिले ।
इस फिल्म के निर्माण के लिये गुजरात के लगभग पांच लाख किसानों ने अपनी प्रति दिन की मिलने वाली मजदूरी में से ..दो-दो.. रूपये फिल्म निर्माताओं को दिये और बाद में जब यह फिल्म प्रदर्शित हुयी तो यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर सुपरहिट साबित हुयी ।

वर्ष 1977 में स्मिता की ..भूमिका ..भी प्रदर्शित हुयी जिसमें स्मिता पाटिल ने 30..40 के दशक में मराठी रंगमच की जुड़ी अभिनेत्री ..हंसा वाडेकर .. की निजी जिंदगी को रूपहले पर्दे पर बहुत अच्छी तरह साकार किया ।
फिल्म भूमिका में अपने दमदार अभिनय के लिये वह राष्ट्रीय पुरस्कार से भी सम्मानित की गयी ।
मंथन और भूमिका जैसी फिल्मों मे उन्होंने कलात्मक फिल्मों के महारथी नसीरूदीन शाह .शबाना आजमी .अमोल पालेकर और अमरीश पुरी जैसे कलाकारों के साथ काम किया और अपनी अदाकारी का जौहर दिखाकर अपना सिक्का जमाने मे कामयाब हुयी ।

फिल्म ..भूमिका ..से स्मिता का जो सफर शुरू हुआ वह चक्र .निशांत .आक्रोश .गिद्ध.अल्बर्ट पिंटो को गुस्सा क्यों आता है और मिर्च मसाला जैसी फिल्मों तक जारी रहा ।
वर्ष 1980 में प्रदर्शित फिल्म ..चक्र .. में स्मिता ने झुग्गी. झोंपड़ी में रहने वाली महिला के किरदार को रूपहले पर्दे पर जीवंत कर दिया।
इसके साथ ही फिल्म ..चक्र..के लिये वह दूसरी बार राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित की गयी ।

अस्सी के दशक में स्मिता ने व्यावसायिक सिनेमा की ओर भी अपना रूख कर लिया ।
इस दौरान उन्हें सुपरस्टार अमिताभ बच्चन के साथ ..नमक हलाल ..और ..शक्ति जैसी फिल्मों में काम करने का अवसर मिला जिसकी सफलता ने बाद स्मिता को व्यावसायिक सिनेमा में भी स्थापित कर दिया।

अस्सी के दशक में स्मिता ने व्यावसायिक सिनेमा के साथ.साथ समानांतर सिनेमा में भी अपना सामंजस्य बिठाये रखा ।
इस दौरान उनकी सुबह.बाजार.भींगी पलकें.अर्थ.अर्द्धसत्य और मंडी जैसी कलात्मक फिल्में और दर्द का रिश्ता.कसम पैदा करने वाले की.आखिर क्यों .गुलामी.अमृत.नजराना और डांस डांस जैसी व्यावसायिक फिल्में प्रदर्शित हुयी जिसमें स्मिता के अभिनय के विविध रूप दर्शकों को देखने को मिले।

वर्ष 1985 में स्मिता की फिल्म ..मिर्च मसाला ..प्रदर्शित हुयी।
सौराष्ट्र की आजादी के पूर्व की पृष्ठभूमि पर बनी इस फिल्म ने निर्देशक केतन मेहता को अंतराष्ट्रीय ख्याति दिलाई थी।
यह फिल्म सांमतवादी व्यवस्था के बीच पिसती औरत की संघर्ष की कहानी बयां करती है जो आज भी स्मिता के सशक्त अभिनय के लिये याद की जाती है।

वर्ष 1985 में भारतीय सिनेमा में उनके अमूल्य योगदान को देखते हुये वह पदमश्री से सम्मानित की गयी ।
हिंदी फिल्मों के अलावा स्मिता ने मराठी.गुजराती.तेलगू.बंग्ला.कन्नड़ और मलयालम फिल्मों में भी अपनी कला का जौहर दिखाया ।
इसके अलावा स्मिता को महान फिल्मकार सत्यजीत रे के साथ भी काम करने का मौका मिला ।
मुंशी प्रेमचंद की कहानी पर आधारित टेलीफिल्म ..सदगति ..स्मिता अभिनीत श्रेष्ठ फिल्मों में आज भी याद की जाती है ।

लगभग दो दशक तक अपने सशक्त अभिनय से दर्शकों के बीच खास पहचान बनाने वाली यह अभिनेत्री महज 31 वर्ष की उम्र में 13 दिसंबर 1986 को इस दुनिया को अलविदा कह गयी ।
स्मिता के निधन के बाद वर्ष 1988 में उनकी फिल्म ..वारिस ..प्रदर्शित हुयी जो उनके सिने कैरियर की महत्वपूर्ण फिल्मों में से एक है ।

 

द

द इंटर्न के रीमेक में ऋषि कपूर के साथ काम करेंगी दीपिका पादुकोण

मुंबई 28 जनवरी (वार्ता) बॉलीवुड की डिंपल गर्ल हॉलीवुड फिल्म द इंटर्न के रीमेक में ऋषि कपूर के साथ काम करने को लेकर रोमांचित है।

सलमान

सलमान के साथ फिर काम करने को लेकर उत्साहित है दिशा

मुंबई 28 जनवरी (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री दिशा पटानी दबंग स्टार सलमान खान के साथ फिर से काम करने को लेकर अति उत्साहित है।

राधे

राधे में फाइट सीन के लिये साढ़े सात करोड़ होंगे खर्च

मुंबई 28 जनवरी (वार्ता) बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान की आने वाली फिल्म राधे में फाइट सीन के लिये साढ़े सात करोड़ रूपये खर्च होंगे।

कृष

कृष 4 में ऋतिक के साथ काम करेगी दीपिका!

मुंबई 27 जनवरी (वार्ता) बॉलीवुड की डिंपल गर्ल दीपिका पादुकोण माचो मैन ऋतिक रौशन के साथ काम करती नजर आ सकती है।

तान्हाजी

तान्हाजी में मेरा निभाया किरदार बेहतरीन किरदारों में से एक: सैफ

मुंबई 27 जनवरी (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता सैफ अली खान का कहना है कि फिल्म 'तान्हाजी' में उनका निभाया किरदार उनके करियर के बेहतरीन किरदार में से एक है।

अनिल

अनिल कपूर के साथ काम कर रोमांचित है दिशा पटानी

मुंबई 27 जनवरी (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री दिशा पटानी मिस्टर इंडिया अनिल कपूर के साथ काम कर रोमांचित महसूस कर रही है।

अमिताभ

अमिताभ बच्चन ने दिव्यांग बच्चों के साथ गाया राष्ट्रगान

मुंबई 27 जनवरी (वार्ता) बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन ने दिव्यांग बच्चों के साथ राष्ट्रगान गाया है।

पचास-साठ

पचास-साठ के दशक के सुपरस्टार थे भारत भूषण

..पुण्यतिथि 27 जनवरी  ..
मुंबई 26 जनवरी (वार्ता)बॉलीवुड में भारत भूषण को एक ऐसे अभिनेता के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने पचास-साठ के दशक में अपनी अभिनीत फिल्मों से दर्शको के बीच खास पहचान बनायी।

संघर्ष

संघर्ष के बाद अजित ने बनायी बॉलीवुड में पहचान

..जन्मदिवस 27 जनवरी  ..
मुंबई 26 जनवरी(वार्ता) दर्शकों में अपनी विशिष्ट अदाकारी और संवाद अदायगी के लिए मशहूर अभिनेता अजित को बालीवुड में एक अलग मुकाम हासिल करने के लिए प्रारंभिक दौर में कड़ा संघर्ष करना पड़ा था।

फौजी

फौजी का किरदार फिर निभाना चाहते हैं शाहरुख खान

मुंबई 26 जनवरी (वार्ता) बॉलीवुड के किंग खान शाहरूख खान एक बार फिर फौजी का किरदार निभाना चाहते हैं।

भारतीय सिनेमा के युगपुरूष थे चित्रगुप्त

भारतीय सिनेमा के युगपुरूष थे चित्रगुप्त

(पुण्यतिथि 14 जनवरी के अवसर पर)
मुंबई 13 जनवरी (वार्ता)भारतीय सिनेमा के ‘युगपुरूष’ चित्रगुप्त का नाम एक ऐसे संगीतकार के रूप में याद किया जाता है जिन्होंने लगभग चार दशक तक अपने सदाबहार एवं रूमानी गीतों से श्रोताओं के दिलों पर अमिट छाप छोड़ी।

image