Sunday, May 26 2019 | Time 22:29 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • इराक में बम विस्फोट, पांच की मौत, आठ घायल
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • तेलुगू देशम पार्टी नहीं छोड़ूंगा: श्रीनिवास
  • दक्षिण अफ्रीका-विंडीज अभ्यास मैच भी धुला
  • दक्षिण अफ्रीका-विंडीज अभ्यास मैच भी धुला
  • पेमा खाडू का इस्तीफा राज्यपाल ने किया स्वीकार
  • जनता काे ध्यान में रखना और काम करना बीजद की सफलता का राज: नवीन
  • मोदी की ‘आभार यात्रा’ पर होगी फूलों की बारिश
  • नेपाल में अलग-अलग विस्फोटों में तीन की मौत, पांच घायल
  • सुशासन सहयोगी कार्यक्रम के लिए ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित
  • फोटो कैप्शन दूसरा सेट
  • जनता काे ध्यान में रखना और काम करना बीजद की सफलता का राज: नवीन
  • भव्य जीत के बाद पहली बार गृह प्रदेश पहुंचे मोदी, मां से लिया आशीर्वाद
  • केंद्र व प्रदेश की सरकार गरीब से गरीब व्यक्ति के उत्थान के लिए समर्पित : शर्मा
  • मोदी ने बनाया था गुजरात को भाजपा का गढ़ - शाह
बिजनेस


निर्यात की रफ्तार में बैंकों का सहयोग जरुरी: फियो

नयी दिल्ली 06 दिसंबर (वार्ता) भारतीय निर्यातक महासंघ (फियो) के अध्यक्ष गणेश कुमार गुप्ता ने बृहस्पतिवार को कहा कि भारतीय निर्यात की दोहरी अंकों की रफ्तार बनायें रखने के लिए बैंकों का सहयोग जरुरी है और ऋण से संबंधित समस्याओं और चुनौतियों का समाधान प्राथमिकता से किया जाना चाहिए।
श्री गुप्ता ने यहां संवाददाताओं से कहा कि भारतीय निर्यातक वैश्विक उथल पुथल का सामना करने में सक्षम है लेकिन इसमें पूंजी की उपलब्धता बनायें रखने के लिए बैंकों का सहयोग आवश्यक है। उन्होेंने कहा कि बैंकों से ऋण लेना कठिन हो गया है और प्रक्रियागत आवश्यकतायें पूरा करना सामान्य कारोबारी के लिए संभव नहीं है।
सरकार के कारोबारियों के लिए पूंजी की उपलब्धता बढ़ाने के कदमों की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि इन्हें जमीन पर उतारने के लिए ईमानदारी से प्रयास करने की जरुरत है। निर्यातकों के लिए ऋण उपलब्धता की समस्या जस की तस बनी हुई है। बैंक के अधिकारी छोटे कारोबारियों की पहुंच से बाहर है। उन्होंने कहा, “सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के महाप्रबंधक, कार्यकारी निदेशक, महाप्रबंधक और सहायक महाप्रबंधक छोटे और मझौले उद्योगों की पहंच से बाहर है। पूंजी के संकट के कारण निर्यातकों को आर्डर की पूर्ति करना मुश्किल हो गया है।”
श्री गुप्ता ने कहा कि पूंजी की समस्या को लेकर प्रधानमंत्री कार्यालय और वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभु को अवगत कराया गया है लेेकिन कोई संतोषजनक परिणाम सामने नही आया है। उन्होंने कहा कि एक आेर सरकार डिजीटल को बढ़ावा दे रही है दूसरी ओर बैंकों छोटे ऋण के आवेदन के लिए ढ़ेरों कागजात मांगते हैं। इस प्रक्रिया में महीनों लग जाते हैं और निर्यातकों को आर्डर रद्द करने पड़ते हैं।
सत्या सचिन
जारी वार्ता
image