Monday, Feb 18 2019 | Time 17:24 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • लखनऊ से माल कस्बा शादी में गये व्यक्ति की धारदार हथियार से हत्या
  • टीम फोर्स ने जीता टीडीएस क्वींस आॅफ नार्थ इंडिया खिताब
  • शिक्षा के व्यवसायीकरण के खिलाफ रैली
  • नई दिल्ली मैराथन में चमक बिखेरेंगे धोनी, रशपाल, मोनिका और ज्योति
  • छत्तीसगढ़ के तीन शहरों से विमान सेवा शुरू करने की अनुमति- भूपेश
  • दक्षिणी कश्मीर के शोपियां में घेराबंदी और तलाश अभियान शुरू
  • शहीद जवानों के परिवार की मदद के लिए आगे आए शमी
  • शारदा चिटफंड : नलिनी चिदम्बरम को फौरी राहत
  • अनुराग ठाकुर के नाम पर विधानसभा में बवाल
  • इस्तीफे के एक माह बाद भी मंत्री पद पर है अगप का विधायक
  • विश्व कप में पाकिस्तान से नहीं खेले भारत : सीसीआई
  • देवबंद छोड़ें कश्मीरी छात्र वरना हम भेजेंगे वापस: बजरंग दल
  • वक्फ सम्पत्तियों से कौशल, शैक्षणिक विकास :नकवी
  • कृषि रोडमैप लागू होने से किसानों की आय होगी दुगनी : मंत्री
  • हिरासत में लिये गये रूसी नागरिक रिहा: नीदरलैंड दूतावास
बिजनेस Share

निर्यात की रफ्तार में बैंकों का सहयोग जरुरी: फियो

नयी दिल्ली 06 दिसंबर (वार्ता) भारतीय निर्यातक महासंघ (फियो) के अध्यक्ष गणेश कुमार गुप्ता ने बृहस्पतिवार को कहा कि भारतीय निर्यात की दोहरी अंकों की रफ्तार बनायें रखने के लिए बैंकों का सहयोग जरुरी है और ऋण से संबंधित समस्याओं और चुनौतियों का समाधान प्राथमिकता से किया जाना चाहिए।
श्री गुप्ता ने यहां संवाददाताओं से कहा कि भारतीय निर्यातक वैश्विक उथल पुथल का सामना करने में सक्षम है लेकिन इसमें पूंजी की उपलब्धता बनायें रखने के लिए बैंकों का सहयोग आवश्यक है। उन्होेंने कहा कि बैंकों से ऋण लेना कठिन हो गया है और प्रक्रियागत आवश्यकतायें पूरा करना सामान्य कारोबारी के लिए संभव नहीं है।
सरकार के कारोबारियों के लिए पूंजी की उपलब्धता बढ़ाने के कदमों की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि इन्हें जमीन पर उतारने के लिए ईमानदारी से प्रयास करने की जरुरत है। निर्यातकों के लिए ऋण उपलब्धता की समस्या जस की तस बनी हुई है। बैंक के अधिकारी छोटे कारोबारियों की पहुंच से बाहर है। उन्होंने कहा, “सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के महाप्रबंधक, कार्यकारी निदेशक, महाप्रबंधक और सहायक महाप्रबंधक छोटे और मझौले उद्योगों की पहंच से बाहर है। पूंजी के संकट के कारण निर्यातकों को आर्डर की पूर्ति करना मुश्किल हो गया है।”
श्री गुप्ता ने कहा कि पूंजी की समस्या को लेकर प्रधानमंत्री कार्यालय और वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभु को अवगत कराया गया है लेेकिन कोई संतोषजनक परिणाम सामने नही आया है। उन्होंने कहा कि एक आेर सरकार डिजीटल को बढ़ावा दे रही है दूसरी ओर बैंकों छोटे ऋण के आवेदन के लिए ढ़ेरों कागजात मांगते हैं। इस प्रक्रिया में महीनों लग जाते हैं और निर्यातकों को आर्डर रद्द करने पड़ते हैं।
सत्या सचिन
जारी वार्ता
More News
सर्राफा बाजार बंद

सर्राफा बाजार बंद

18 Feb 2019 | 3:58 PM

नयी दिल्ली 18 फरवरी (वार्ता) अखिल भारतीय व्यापारी परिसंघ (कैट) के आह्वान पर दिल्ली सर्राफा बाजार में सोमवार को कारोबार बंद रहा। कैट ने पुलवामा आतंकी घटना में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि देने के लिए आज देशव्यापी व्यापार बंद का आह्वान किया है।

 Sharesee more..
रुपये की संदर्भ दर

रुपये की संदर्भ दर

18 Feb 2019 | 3:39 PM

मुंबई 18 फरवरी (वार्ता) डॉलर के मुकाबले रुपये की संदर्भ दर शुक्रवार को 71.4705 रुपये प्रति डॉलर निर्धारित की गयी। पिछले कारोबारी दिवस यह 71.2515 रुपये प्रति डॉलर थी।

 Sharesee more..

मावा बाजार

18 Feb 2019 | 3:13 PM

 Sharesee more..
image