Thursday, Jul 18 2019 | Time 11:00 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • 4167 यात्रिओं का नया जत्था अमरनाथ रवाना
  • कुमारस्वामी सरकार का होगा शक्ति परीक्षण
  • लोगों को मिलेगी उच्च स्तरीय स्वास्थ्य सेवा
  • ममता ने नेल्सन मंडेला, मेहदी हसन को किया याद
  • जापान के एनीमेशन स्टूडियो में लगी आग, 30 घायल
  • सोनभद्र में खूनी संघर्ष में मृतक संख्या बढ़कर हुई 10
  • जाधव मामले में पाकिस्तान की जीत हुयी : कुरैशी
  • शरीफ परिवार की संपत्तियों को जब्त करने का आदेश
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 19 जुलाई)
  • गाजियाबाद में एक लाख का इनामी बदमाश मुठभेड़ में ढेर
  • कार्यवाहक रक्षा सचिव ने सीमा पर अधिक सेना भेजने की मंजूरी दी
  • पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प में 13 घायल
  • नए करार के लिए रुस जा सकते हैं मादुरो : जॉर्ज
  • हवाई हमले में आईएस के दो आतंकवादी मारे गए
  • बंदूकधारी ने की संरा शांतिसैनिक सहित सात लोगों की हत्या
बिजनेस


चीन के साथ व्यापार असंतुलन दूर करना जरूरी: मिस्री

नयी दिल्ली 11 जुलाई (वार्ता) चीन में भारत के राजदूत विक्रम मिस्री ने कहा है कि चीन के साथ भारत का व्यापार घाटा 53.6 अरब डॉलर का है जिसे कम करने के लिए पड़ोसी देश को जरूरी कदम उठाने चाहिये अन्यथा यह भारत में “राजनीतिक रूप से संवेदनशील मुद्दा” बन सकता है।
श्री मिस्री ने साउथ चाइना पोस्ट अखबार के साथ बातचीत में कहा कि दोनों देशों को व्यापार - विशेषकर भारत कृषि उत्पादों के लिए चीन के बाजार खोलने - पर गहन वार्ता करनी चाहिये। दोनों देशों के बीच व्यापार असंतुलन का यह स्तर दीर्घावधि में अव्यावहारिक है। उन्होंने उम्मीद जताई कि चीन सरकार इस मुद्दे पर और ध्यान देगी।
अमेरिका और चीन के बीच जारी व्यापार युद्ध के बीच भारत चीन के बाजार में अपने लिए अवसर तलाश रहा है। पिछले एक साल में भरात से पड़ोसी देश को मिर्च, चावल, मछली, खाद्य तेल और तंबाकू निर्यात के लिए कई करारों पर हस्ताक्षर हुये हैं।
हांगकांग स्थित भारतीय वाणिज्य दूतावास के दौरे पर गये श्री मिस्री ने समाचार पत्र से कहा कि आने वाले महीनों ऐसे और समझौते किये जायेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि इन समझौतों को लागू कर वास्तविक व्यापार में उनकी परिणति जरूरी है।
उन्होंने कहा “इनमें से कई क्षेत्रों में सरकारी एजेंसियाँ माल आयात करती हैं। हम उम्मीद करते हैं कि चीन की सरकार भारत से आयात बढ़ाने के प्रयास करेगी। उसके ऐसा करने से यह संकेत भी मिलेगा कि वह भारत के बढ़ते द्विपक्षीय घाटे को लेकर वाकई गंभीर है। लंबे समय में यह निश्चित रूप से अव्यावहारिक है और भारत में यह राजनीतिक रूप से संवेदनशील मुद्दा बन सकता है।”
अगले महीने क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक साझेदारी पर होने वाली वार्ता के बारे में श्री मिस्री ने कहा कि अब तक की बातचीन में माल पर ज्यादा जोर रहा है जिसमें चीन बढ़त की स्थिति में है। सेवा और निवेश में भारत मजबूत है, लेकिन अब तक इन पर फोकस नहीं किया गया है। भारत चाहता है कि इसमें उत्पाद के विनिर्माण के मूल स्थान संबंधी नियम कड़े किये जायें ताकि घरेलू बाजार में चीन के वस्तुओं की भरमार रोकी जा सके।
उन्होंने कहा कि भारत ने व्यापार को उदार बनाने की दिशा में काम किया है, लेकिन हम अब भी विकासशील देश हैं और विनिर्माण जैसे क्षेत्रों की सुरक्षा सुनिश्चित करनी जरूरी है।
अजीत, उप्रेती
वार्ता
image