Saturday, Sep 21 2019 | Time 04:37 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • इराक विस्फोट से नौ की मौत, 4घायल
  • इराक के कर्बला में विस्फोट, 5 की मौत
  • गिरिडीह से नक्सली गिरफ्तार
  • भारत-मंगोलिया सिर्फ रणनीतिक साझेदार ही नहीं, आध्यात्मिक पड़ोसी भी हैं: कोविंद
बिजनेस


25 अरब डॉलर का होगा पुरानी कारों का बाजार

नयी दिल्ली 11 सितंबर (वार्ता) युवाओं में पुरानी कारों के प्रति बढ़ते लगाव के कारण इसके बाजार में तेजी आ रही है और वर्ष 2023 तक देश में 66 लाख पुरानी कारों के साथ 25 अरब डॉलर का बाजार होने का अनुमान है।
क्लासीफाइड एवं पुराने वाहनों के खरीदबेच फ्लेटफॉर्म ओएनएक्स के ऑटो नोट अध्ययन के तीसरे संस्करण में यह दावा किया गया है। वर्तमान में पुरानी कारों के बाजार का आकार नई कारों के बाजार के मुकाबले 1.3 गुणा अधिक है और इसके वर्ष 2023 तक बढ़कर 25 अरब डॉलर होने का अनुमान है। युवाओं विशेषकर 22 से लेकर 37 वर्ष आयु वर्ग के बीच पुरानी कारों को लेकर लगाव बढ़ रहा है।
अध्ययन में कहा गया है कि वर्तमान में पुरानी कारों का बाजार 14 अरब डॉलर अनुमानित है और वर्ष 2023 तक इसके बढ़कर 25 अरब डॉलर तक बढ़ने का अनुमान है। आने वाले समय में इसका आकार नई कारों के बाजार की तुलना में 1.4 गुणा बढ़ने की संभावना है और वर्ष 2020 तक यह आंकड़ा 50 लाख कारें और वर्ष 2023 तक 66 लाख कारें होने का अनुमान है।
ओएलएक्स और ओएलएक्स कैश माय कार के इस अध्ययन में पूरे देश में 1,500 से अधिक ऐसे लोग शामिल हुये जिन्होंने पिछले एक वर्ष में पुरानी कारों की खरीद बेच की है। डिजिटल तरीके से पुरानी कारों की खरीद बेच की सुविधा उपलब्ध होने की वजह से इस बाजार में तेजी आ रही है। पुरानी कार खरीदने के पीछे सबसे बड़ी सोच ब्रांड और सुरक्षा होती है। युवा पुरानी कार खरीदते हैं और पंसद नहीं आने पर कुछ महीने चलाने के बाद उसे बेच देते हैं।
शेखर
वार्ता
More News
अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए 1.45 लाख करोड़ रुपये की कर छूट का ऐलान

अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए 1.45 लाख करोड़ रुपये की कर छूट का ऐलान

20 Sep 2019 | 7:04 PM

पणजी/नयी दिल्ली, 20 सितंबर (वार्ता) सरकार ने अर्थव्यवस्था में आयी सुस्ती को दूर करते हुये रोजगार सृजन एवं निजी निवेश आकर्षित करने के उद्देश्य से कंपनी कर में शुक्रवार को कटौती की घोषणा की और इसे अमल में लाने के लिए कराधान कानून (संशोधन) अध्यादेश 2019 जारी कर दिया। इस कर कटौती से घरेलू कंपनियों को 1.45 लाख करोड़ रुपये की छूट मिलेगी।

see more..
image