Wednesday, Apr 8 2020 | Time 14:20 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अभाविप की राष्ट्रीय कार्यकारिणी परिषद की बैठक स्थगित
  • दिल्ली ट्रैफिक पुलिस का एएसआई कोरोना संक्रमित
  • रूस में कोरोना से संक्रमितोंं की संख्या बढ़कर 8672
  • कोरोना की जांच के लिए अधिक राशि की अनुमति नहीं दी जा सकती: सुप्रीम कोर्ट
  • तालाब में डूबने से बच्चे की मौत
  • दरभंगा में 176 कार्टन विदेशी शराब बरामद
  • मालगाड़ी से कटकर एक व्यक्ति की मौत
  • इजरायल में कोरोना से मरने वालों की संख्या 71 हुई
  • गंगा नदी में डूबकर युवक की मौत
  • अफगानिस्तान में 15 आतंकवादी ढेर,तीन नागरिक मरे, दो जवानों की मौत
  • लॉकडाउन के दौरान रक्तकोष में रक्तदान के लिए आगे आ रहे युवा
  • सलमान ने बॉलीवुड के दिहाड़ी कर्मियों को दिए छह करोड़
  • सलमान ने बॉलीवुड के दिहाड़ी कर्मियों को दिए छह करोड़
  • मुख्यमंत्री/मंत्रियों के स्वैच्छिक कोष पर दो वर्ष रोक लगे, विधायकों का वेतन भी कटे: किरण
  • दमदार अभिनय से खास पहचान बनायी जया भादुड़ी ने
बिजनेस


लॉकडाउन के कारण मुर्गी दाना का परिवहन बाधित

लॉकडाउन के कारण मुर्गी दाना का परिवहन बाधित

नयी दिल्ली, 26 मार्च (वार्ता) कोरोना वायरस की रोकथाम के लिये पूरे देश में प्रभावी लॉकडाउन की स्थिति और कुछ राज्यों में कर्फ्यू लगाये जाने के कारण पॉलट्री उद्योग के समक्ष पक्षियों के भोजन, दवा और उसकी बिक्री की समस्या उत्पन्न हो गयी है।

पालट्री फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष रमेश चंदर खत्री और सचिव रनपाल सिंह ने गुरुवार को बताया कि मुर्गियों के दाने की आपूर्ति में बाधा के कारण उसकी मौत का खतरा बढ़ गया है। इसके साथ ही दाने के मूल्य में भारी वृद्धि कर दी गयी है। मुर्गियों के दाने में मिलाये जाने वाले विटामिन और एमिनो एसिड की आपूर्ति भी बाधित हो गयी है।

उन्होंने बताया कि अस्थानीय अधिकारियों और पशुपालन विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के सहयोग के बावजूद समस्या का समाधान नहीं हो पा रहा है।

सरकार ने लॉकडाउन से मुर्गी के दाने और पशुचारे की आपूर्ति को बाहर रखा है लेकिन वाहनों के नहीं चलने और यदि किसी वाहन से इसकी आपूर्ति का प्रयास किया जाता है तो पुलिस ऐसे वाहनों को नहीं चलने देती है जिसके कारण न तो मुर्गी दाने की आपूर्ति हो पा रही है और न ही दवाओं तथा अन्य जरूरी समानों को मंगाया जा रहा है।

श्री खत्री ने बताया कि सोया डीओसी एक प्रमुख मुर्गी आहार है जिसकी कीमत में छह-सात रुपये प्रति किलो की वृद्धि कर दी गयी है। पहले यह 28-30 रुपये प्रति किलो मिलता था जिसकी कीमत अब बढ़कर 35 से 37 रुपये प्रतिकिलो हो गयी है। इसके साथ ही मक्का, बाजरा और टूटे चावल की आपूर्ति भी बाधित हो गयी है।

पहले से जो पक्षी तैयार थे उन्हें बाजार में नहीं भेजा जा रहा है जिससे भी पॉलट्री उद्योगों को भारी नुकसान की संभावना है।

उल्लेखनीय है कि कोरोना वायरस के प्रकोप को लेकर पालट्री उद्योग के संबंध में भ्रामक सूचनाएं प्रसारित की गयी थीं जिसके कारण अलग-अलग स्थानों में उसकी कीमत में भारी गिरावट आ गयी थी और इससे जुड़े संगठनों ने सरकार से इस संबंध में जरूरी कदम उठाने का अनुरोध किया था।

अरुण.शुभम

वार्ता

image