Tuesday, Sep 29 2020 | Time 20:10 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कोयला खदानों की ऑनलाइन बोली 30 सितंबर से शुरू
  • हिमाचल के कोरोना के कारण होम गार्ड की मौत
  • पटाखे फोड़ने पर दूल्हे के खिलाफ मामला दर्ज
  • गोरखपुर पुलिस ने दो इनामी बदमाशों को किया गिरफ्तार
  • नडाल जीते, प्लिसकोवा का करना पड़ा संघर्ष, मेदवेदेव बाहर
  • आंध्र में कोरोना रिकवरी दर 90 फीसदी के पार
  • कोयला खदानों की ऑनलाइन बोली 30 सितंबर से शुरू
  • सोनीपत जिले में मतदाताओं की संख्या 1086300 हुई
  • पुलिस महानिदेशक स्तर के आईपीएस अधिकारी पुरुषोत्तम शर्मा निलंबित
  • उद्योगजगत के लिए कोविड-19 सुरक्षित कार्यस्थल दिशा-निर्देश जारी
  • पाक सीमा पर मिला टैग लगा संदिग्ध हुबारा बर्ड़
  • 23 कोयला खदानों के लिए 46 कंपनियों ने लगायी बोली
  • आईपीएल क्रिकेट पर सट्टा लगाने के आरोप में सिरसा से तीन लोग गिरफ्तार
  • भारत की गिलगित-बाल्टिस्तान में चुनाव कराने की घोषणा पर आपत्ति
  • फिरोजाबाद के जुगनू हत्याकांण्ड़ का खुलासा, इनामी मुख्य हत्यारोपी गिरफ्तार
बिजनेस


अचानक लॉकडाउन की घोषणा से पूरा देश स्तब्ध हो गया था : शर्मा

नयी दिल्ली 16 सितंबर (वार्ता) कांग्रेस के राज्यसभा में उपनेता आनंद शर्मा ने बुधवार को कहा कि कोरोना महामारी के मद्देनजर मार्च में अचानक किये गये राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन से पूरा देश स्तब्ध रह गया था और इस महामारी ने देश में स्वास्थ्य देखभाल से जुड़े इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत बनाने की आवश्यकता बतायी है।
श्री शर्मा ने सदन में कोरोना महामारी पर चर्चा की शुरूआत करते हुये कहा कि काेरोना के कारण उत्पन्न अभूतपूर्व स्थिति के बारे में किसी ने कल्पना नहीं थी। न तो पहले की पीढ़ी ने और न ही वर्तमान पीढ़ी ने इसकी कल्पना की थी। हालांकि सवाल यह है कि इसके लिए हमारी तैयारी कितनी थी। इस महामारी के कारण विकसित देश से लेकर विकासशील देश तक भय का महौल बन गया जो अभी भी बना हुआ है। डाॅक्टर और वैज्ञानिक इसको समझ नहीं पाये और इसको समझने में समय लगा है।
उन्होंने कहा कि इसके बीच पूरे देश में लॉकडाउन की घोषणा कर दी गयी जिससे पूरा देश स्तब्ध रह गया। इससे देश को कितना लाभ और कितना नुकसान हुआ इसकी जानकारी सदन को दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन की आवश्यकता थी और पूरे विश्व में ऐसा किया गया लेकिन देश में इसके लिए तैयारियां नहीं की गयी। यदि राज्यों के साथ विचार विमर्श कर ऐसा किया जाता और तहसील स्तर पर क्वोरेंटाइन सेंटर बनाये जाते तो गांवों में कोरोना नहीं पहुंचता।
उन्होंने कहा कि अभी इससे पीड़ितों की संख्या 50 लाख के पार पहुंच गयी है और 82 हजार लोगों की मौत हो चुकी है। उन्होंने कहा कि यह वायरस अमीर और गरीब देश में कोई अंतर नहीं देखता है और इस तरह की महामारी की तैयारी कोई भी नहीं कर सकता है।
उन्होंने कहा कि देश में कोरोना से निपटने में सरकारी अस्पतालों की स्थिति का खुलासा हुआ है। जहां 70 फीसदी काेरोना पीड़ित भर्ती होते हैं वहां मात्र 30 फीसदी आईसीयू बेड उपलब्ध है जबकि 70 फीसदीी लोगों को आईसीयू बेड के लिय निजी अस्पतालों की ओर जाना पड़ा है। ऐसी स्थिति को देखते हुये सरकारी स्वास्थ्य इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत बनाने की जरूरत है। कोरोना महामारी के बहुत कड़वे अनुभव मिले हैं। स्वास्थ्य इंफ्रास्ट्रक्चर की कमियों को दूर करने की व्यवस्था की जानी चाहिए।
श्री शर्मा ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों की हुयी मौत का आंकड़ा सरकार के पास न होना बहुत दुखद है जबकि इस संबंध में मीडिया में खबरें आयी हैं। रेलवे स्टेशन पर बच्चा को अपनी मृत मां का चादर उठाते तस्वीर छपी है। इसके मद्देनजर सरकार को प्रवासी मजदूरों का राष्ट्रीय डेटाबेस तैयार करना चाहिए ताकि ऐसी स्थिति में उनकी निगरानी की जा सके।
शेखर आशा
जारी/ वार्ता
image