Friday, Mar 22 2019 | Time 21:58 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • राहुल ने पत्रकार के स्वास्थ्य पर चिंता प्रकट की
  • 48 घंटे की कड़ी मेहनत के बाद नदीम को बोरवेल से निकाला सुरक्षित बाहर
  • मोदी को पुन: उम्मीदवार बनाने से जश्न में डूबे वाराणसी के भाजपा कार्यकर्ता
  • भारत को उज्बेकिस्तान से मिली 0-3 से हार
  • भारत को उज्बेकिस्तान से मिली 0-3 से हार
  • कश्मीर में कांग्रेस नेता पर हमला, एक घायल
  • पूरी कांग्रेस दिखेगी बस में : तंवर
  • जेकेएलफ पर लगाया गया प्रतिबंध
  • शरद, मायावती के चुनाव नहीं लड़ने से राजग को फायदा : शिव सेना
  • ‘येदियुरप्पा डायरी: मूल प्रति शिवकुमार ने उपलब्ध नहीं करायी’
  • ‘समझौता एक्सप्रेस विस्फोट मामले में पाक ने नहीं की मदद’
  • देवरिया पुलिस ने व्यापारी की हत्या से परिवार के शोक को देखते हुए नहीं मनाई होली
  • चुनाव लड़ने का इच्छुक नहीं : शांता कुमार
  • शहीदों के लिए श्रद्धांजलि समारोह शनिवार को होगा
भारत


दूसरे लोकसभा चुनाव में अटल का उदय

दूसरे लोकसभा चुनाव  में अटल का उदय

(अरुण कुमार सिंह )

नयी दिल्ली, 14 मार्च (वार्ता) आजादी के बाद 1957 में हुये दूसरे लोकसभा चुनाव ने न केवल तपे-तपाये नेताओं को नीति-निर्माता बनने का अवसर दिया बल्कि अपनी वाकपटुता और आकर्षक व्यक्तित्व के बदौलत लोकप्रियता हासिल करने वाले पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को पहली बार निर्वाचित कर देश को नया संदेश दिया।

लाेकसभा की 494 सीटों के लिए हुये इस चुनाव में चार राष्ट्रीय, 11 अन्य दलों तथा निर्दलीय उम्मीदवारों ने हिस्सा लिया था। राष्ट्रीय पार्टियों में कांग्रेस, अखिल भारतीय जनसंघ, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी और प्रजा सोसलिस्ट पार्टी शामिल थी। इस चुनाव में जनसंघ के उम्मीदवार अटल बिहारी वाजपेयी उत्तर प्रदेश के बलरामपुर सीट पर पहली बार जीत हासिल कर एक नया इतिहास रच दिया था।

राज्य स्तरीय अन्य पार्टियों में जनता पार्टी, फारवर्ड ब्लाक (मार्सिस्ट), गणतंत्र परिषद, अखिल भारतीय हिन्दू महासभा, झारखंड पार्टी, पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी, पीजेंट एंड वर्कर पार्टी, अखिल भारतीय राम राज्य पार्टी रिवोल्यूशनरी सोसलिस्ट पार्टी और आल इंडिया शेड्यूल कास्ट फेडरेशन शामिल थी। राष्ट्रीय पार्टियों को 73 प्रतिशत से अधिक वोट मिले जबकि क्षेत्रीय पार्टियों को 7.60 प्रतिशत वोट मिले। आश्चर्यजनक ढंग से 19.32 प्रतिशत मतदाताओं ने निर्दलीय प्रत्याशियों को वोट देना बेहतर समझा।

उस समय 19 करोड़ 36 लाख 52 हजार से अधिक मतदाताओं ने 1519 उम्मीदवारों के चुनावी किस्मत का फैसला किया था। इस चुनाव में राष्ट्रीय पार्टियों ने कुल 919 और अन्य पार्टियों ने 119 उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतारे थे। इसके अलावा 481 निर्दलीय प्रत्याशियों ने अपने दमखम पर चुनाव लड़ा था।

कांग्रेस ने सर्वाधिक 490 सीटों पर उम्मीदवार खड़े किये जिनमें से 371 चुनाव जीतने सफल रहे। कई राज्यों में तो अधिकांश सीटें उसके कब्जे में आ गयीं। यह पार्टी 47.78 प्रतिशत मत पाने में सफल रही। समाजवादी विचार धारा की पार्टी माने जाने वाली प्रजा सोशलिस्ट पार्टी ने 189 उम्मीदवारों को चुनाव मैदान में उतारा जिनमें से केवल 19 विजयी होने में सफल रहे। यह पार्टी 10.41 प्रतिशत मत पाने में कामयाब रही। जनसंघ ने 130 उम्मीदवारों को चुनाव लड़ाया और उसके केवल चार प्रत्याशी जीतने में सफल रहे। इस पार्टी के कुल मिले वोट प्रतिशत में पहले के चुनाव की तुलना में थोड़ी वृद्धि होकर यह छह प्रतिशत के अासपास पहुंच गयी।

पहले लोकसभा चुनाव परिणामों से उत्साहित भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ने 110 उम्मीदवारों को टिकट दिया जिनमें से 27 निर्वाचित हो गये और वह दूसरे लोकसभा में भी दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बनी रही। पहले लोकसभा चुनाव में भाकपा के 16 उम्मीदवार चुने गये थे। यह पार्टी 8.92 प्रतिशत वोट पाने में कामयाब रही थी।

राज्य स्तरीय पार्टियों ने कुल 119 प्रत्याशियों को टिकट दिया जिनमें से 31 निर्वाचित हो गये। इसके साथ ही 481 निर्दलीय उम्मीदवारों ने चुनाव लड़ा जिनमें से 42 विजयी हुये। इस चुनाव में हर सीट पर औसत तीन से चार उम्मीदवार चुनाव लड़े । आन्ध्र प्रदेश के एक लोकसभा क्षेत्र में 10 प्रत्याशियों ने चुनाव लड़ा था।

कांग्रेस के जवाहर लाल नेहरु उत्तर प्रदेश के फूलपुर लोकसभा सीट से निर्वाचित हुये थे। उन्हें कुल 2,27,448 वोट मिले। इसी पार्टी के लाल बहादुर ने इलाहाबाद में प्रजा सोसलिस्ट पार्टी के राधेश्याम पाठक को हराया था। कांग्रेस के फिरोज गांधी रायबरेली क्षेत्र में 1,62,595 वोट लाकर निर्वाचित हुये थे जबकि बिहार में सासाराम से जगजीवन राम ने प्रजा सोसलिस्ट पार्टी के शिवपूजन सिंह को पराजित किया था। कांग्रेस के मोरारजी देसाई सूरत सीट से चुने गये। उन्हें एक लाख 90 हजार से अधिक मत मिले।

जनसंघ के उम्मीदवार अटल बिहारी वाजपेयी उत्तर प्रदेश के बलरामपुर सीट पर 52 प्रतिशत से अधिक मत लाकर कांग्रेस के हैदर हुसैन का हराया था। समाजवादी विचारक आचार्य जे बी कृपलानी बिहार के सीतामढ़ी सीट से जीतने में कामयाब रहे जबकि कांग्रेस के ललित नारायण मिश्र (सहरसा), विजयराजे सिंधिया (गुना) और विद्या चरण शुक्ला (बलोदाबाजार) से जीतने वालों में शामिल थे।

कट्टर वामपंथी विचारक हिरेन्द्र नाथ मुखर्जी भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के टिकट पर कलकत्ता केन्द्रीय सीट से लोकसभा के लिए चुने गये थे। श्री मुखर्जी कुल 135308 वोट लाकर कांग्रेस के. एन. सान्याल को भारी मतों के अंतर से पराजित किया था। दिग्गज मजदूर नेता और भाकपा के उम्मीदवार श्रीपद अमृत डांगे (बाम्बे सिटी सेंट्रल), वी. परमेश्वरण नायर (केरल के क्वीलोन) तथा पी. के. वासुदेवन नायर (तिरुवल्ला) से निर्वाचित हुये थे।

कांग्रेस को आन्ध्र प्रदेश में 37, असम में 09, बिहार में 41, बाम्बे में 38, केरल में 06, मध्य प्रदेश में 35, मद्रास में 31, मैसूर में 23, उड़िसा में 07, पंजाब में 21, राजस्थान में 19, उत्तर प्रदेश में 70, पश्चिम बंगाल में 23, दिल्ली में 05, हिमाचल प्रदेश में 04, मणिपुर में एक और त्रिपुरा में एक सीट मिली थी।

भाकपा को आन्ध्र प्रदेश में 02, बाम्बे में 04, केरल में 09, मद्रास में 02, उड़ीसा में एक, पंजाब में एक, उत्तर प्रदेश में एक, पश्चिम बंगाल में 06 और त्रिपुरा में एक सीट मिली थी। जनसंघ को बाम्बे और उत्तर प्रदेश में दो - दो सीटें मिली थी। प्रजा सोसलिस्ट पार्टी को असम में दो, बिहार में दो, बाम्बें में पांच, केरल में एक, मैसूर में एक, उड़िसा में दो, उत्तर प्रदेश में चार और पश्चिम बंगाल में दो सीटें मिली थी।

झारखंड पार्टी के बिहार में छह सीटें मिली थी। फारवर्ड ब्लाक, गणतंत्र परिषद, पीसेंट एंड वर्कर पार्टी हिन्दू महासभा को भी छिटपुट रुप से कुछ सीटों पर सफलता मिली थी ।

अरुण.जय.श्रवण

वार्ता

More News
‘येदियुरप्पा डायरी: मूल प्रति शिवकुमार ने उपलब्ध नहीं करायी’

‘येदियुरप्पा डायरी: मूल प्रति शिवकुमार ने उपलब्ध नहीं करायी’

22 Mar 2019 | 9:43 PM

नयी दिल्ली, 22 मार्च (वार्ता) केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने शुक्रवार को कहा कि कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा से संबंधित एक डायरी को लेकर जो खबरें आ रही है वह निर्मूल हैं और कांग्रेस नेता डी के शिवकुमार ने कभी भी मूल डायरी उपलब्ध नहीं करायी।

see more..
जेकेएलफ पर लगाया गया प्रतिबंध

जेकेएलफ पर लगाया गया प्रतिबंध

22 Mar 2019 | 9:11 PM

नयी दिल्ली 22 मार्च (वार्ता) सरकार ने जम्मू कश्मीर के अलगाववादी संगठन जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) पर प्रतिबंध लगा दिया है, इस संगठन का नेतृत्व अलगावादी नेता यासिन मलिक करता है ।

see more..
बिगड़े रिश्तों के बीच भारत पाकिस्तान दिवस का करेगा बहिष्कार

बिगड़े रिश्तों के बीच भारत पाकिस्तान दिवस का करेगा बहिष्कार

22 Mar 2019 | 8:17 PM

नयी दिल्ली, 22 मार्च (वार्ता) पुलवामा हमले से बिगड़े रिश्तों के बीच हुर्रियत नेताओं को आमंत्रित किये जाने के विरोध में भारत यहाँ कल होने वाले पाकिस्तान दिवस से संबंधित कार्यक्रम का बहिष्कार करेगा, इस कार्यक्रम में भारत अपना कोई सरकारी प्रतिनिधि नहीं भेजेगा।

see more..
दिल्ली में चुनाव को देखते हुए 384 प्राथमिकी दर्ज

दिल्ली में चुनाव को देखते हुए 384 प्राथमिकी दर्ज

22 Mar 2019 | 7:55 PM

नयी दिल्ली, 22 मार्च (वार्ता) राजधानी दिल्ली में लोकसभा चुनाव देखते हुए अब तक 384 प्राथमिकी दर्ज की गयी हैं और इतने ही व्यक्ति गिरफ्तार भी किये गये हैं।

see more..
image