Tuesday, Feb 25 2020 | Time 01:12 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सोने की तस्करी में शामिल दो अधिकारी हुए बर्खास्त
भारत


जैव आतंकवाद से निपटने के लिए तैयार रहे सेना: राजनाथ

जैव आतंकवाद से निपटने के लिए तैयार रहे सेना: राजनाथ

नयी दिल्ली, 12 सितम्बर (वार्ता) रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की देशों की सेनाओं और उनकी चिकित्सा शाखाओं से आज कहा कि आतंकवाद के लिए जैविक हथियारों का इस्तेमाल अभी एक बड़ा खतरा है और उन्हें इससे निपटने के लिए तैयार रहना होगा।

श्री सिंह ने गुरूवार को यहां एससीओ देशों के पहले मिलिट्री मेडिसिन सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए कहा , “ मैं जैविक-आतंकवाद की समस्या से निपटने की क्षमता विकसित करने के महत्व को रेखांकित करना चाहता हूं। जैविक-आतंकवाद अभी एक वास्तविक खतरा है। यह संक्रामक महामारी की तरह फैलता है और सशस्त्र सेनाओं तथा मेडिकल सेवाओं को इससे निपटने के लिए आगे बढकर मोर्चा संभालना होगा।”


जम्मू-कश्मीर से संबंधित संविधान के अनुच्छेद 370 को हटाये जाने के बाद उत्पन्न तनाव के मद्देनजर पाकिस्तान ने सम्मेलन में हिस्सा नहीं लिया। देश के 40 और 30 विदेशी प्रतिनिधियों ने सम्मेलन में हिस्सा लिया।

रक्षा मंत्री ने कहा कि रण क्षेत्र से संबंधित प्रौद्योगिकी में निरंतर बदलाव आ रहा है और इससे नयी-नयी चुनौती पैदा हो रही हैं। नये और गैर परांपरागत युद्धों ने इन चुनौतियों को और जटिल बना दिया है। सशस्त्र सेनाओं की मेडिकल सर्विस को इन चुनौतियों का पता लगाने और इनसे सैनिकों को बचाने तथा उनके स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रतिकूल प्रभाव को कम करने की रणनीति सुझाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होगी।

उन्होंने कहा कि परमाणु, रसायनिक और जैविक हथियारों के कारण भी स्थिति निरंतर जटिल हो रही है। सशस्त्र सेनाओंं के चिकित्सा से जुड़े विशेषज्ञ संभवत इन खतरनाक चुनौतियों से निपटने के साजो-सामान से लैस हैं। घायलों की देखभाल और उनका बचाव मिलिट्री मेडिसिन का महत्वपूर्ण पहलू है। लड़ाई के दौरान चिकित्सा सुविधा मुहैया कराने वाली मेडिकल सेवाओं का यह कर्तव्य है कि उनके पास घायलों को जल्द से जल्द जरूरी सहायता उपलब्ध कराने के लिए स्पष्ट , प्रभावशाली और जांचा परखा तरीका होना चाहिए। ये तरीके और रणनीति विभिन्न सैन्य अभियानों को ध्यान में रखकर तैयार किये जाने चाहिए।

उल्लेखनीय है कि विशाक्त कीटाणुओं, विषाणुओं अथवा फफूंद जैसे संक्रमणकारी तत्वों जिन्हें जैविक हथियार कहा जाता है का युद्ध में नरसंहार के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

संजीव

जारी वार्ता

More News
कांग्रेस ने राष्ट्रपिता के नाम का उल्लेख नहीं करने पर की ट्रंप की निंदा

कांग्रेस ने राष्ट्रपिता के नाम का उल्लेख नहीं करने पर की ट्रंप की निंदा

24 Feb 2020 | 11:54 PM

नयी दिल्ली 24 फरवरी (वार्ता) कांग्रेस ने गुजरात के साबरमती आश्रम की आगंतुक पुस्तिका में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का उल्लेख नहीं करने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की साेमवार को निंदा की।

see more..
मनमोहन, आजाद ने ट्रम्प के स्वागत भोज का निमंत्रण  ठुकराया

मनमोहन, आजाद ने ट्रम्प के स्वागत भोज का निमंत्रण ठुकराया

24 Feb 2020 | 11:54 PM

नयी दिल्ली, 24 फरवरी (वार्ता) पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और राज्य सभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के सम्मान में मंगलवार को राष्ट्रपति कोविंद की ओर से आयोजित स्वागत भोज के निमंत्रण को अस्वीकार कर दिया है।

see more..
हिंसा के बीच एक व्यक्ति ने पुलिस पर चलायी गोली

हिंसा के बीच एक व्यक्ति ने पुलिस पर चलायी गोली

24 Feb 2020 | 11:54 PM

नयी दिल्ली 24 फरवरी(वार्ता) दिल्ली के मौजपुर क्षेत्र में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के मुद्दे पर दो गुटों में हुई हिंसा के बीच एक अज्ञात हमलावर ने पुलिस पर गोलियां चला दीं।

see more..
image