Thursday, Dec 12 2019 | Time 15:11 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • गुवाहाटी, डिब्रूगढ़ की उड़ानें लगातार दूसरे दिन रद्द
  • गुवाहाटी, डिब्रूगढ़ की उड़ानें लगातार दूसरे दिन रद्द
  • रमी दिमागी कुशलता का खेल: जुआ नहीं : बार्डे
  • भाजपा के विभाजनकारी मंसूबों के ख़िलाफ मजबूती से लड़ेंगे : प्रियंका
  • जीएसटी कटौती लाभ ग्राहकों को नहीं देने पर नेस्ले पर 90 करोड़ जुर्माना
  • ओडिशा ने रोमांचक मैच में हैदराबाद को 3-2 से हराया
  • रमी दिमागी कुशलता का खेल: जुआ नहीं : बार्डे
  • पर्यावरण और जल संरक्षण से लोग जीवन को सुरक्षित रख सकते हैं: नीतीश
  • हरियाणा की मंडियों में 74 67 लाख टन से अधिक धान की आवक
  • तेलंगाना के आईएएस अधिकारियों का मुद्दा लोकसभा में उठा
  • बीएसएनएल के 78 हजार, एमटीएनएल के 13500 कर्मचारियों ने चुना वीआरएस
  • चंडीगढ़ करेगा प्रो मास्टर्स बैडमिंटन लीग की मेज़बानी
  • पूर्वोत्तर में हिंसा के मुद्दे पर लोकसभा में तीखी नाेकझोंक, विपक्ष का बहिर्गमन
  • नोटबंदी का आर्थिक विकास पर कोई असर नहीं: मंत्री
भारत


हैदराबाद दुष्कर्म मामले में एनएचआरसी ने दर्ज किया केस

नयी दिल्ली 02 दिसंबर (वार्ता) राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने हैदराबाद में एक महिला डॉक्टर के साथ सामूहिक दुष्कर्म और उसकी हत्या के संबंध में एक मामला दर्ज किया है।
देश के शीर्ष मानवाधिकार संगठन ने उच्चतम न्यायालय के वकील और प्रसिद्ध सामाजिक कार्यकर्ता राधाकांत त्रिपाठी द्वारा इस संबंध में पहले से दायर याचिका पर यह संज्ञान लिया है।
गौरतलब है कि तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद के शमशाबाद की निवासी महिला पशु चिकित्सक के साथ शहर के बाहर शादनगर के चतनपल्ली पुल के पास चार लोगों ने मिलकर सामूहिक दुष्कर्म किया और बाद में उनकी हत्या कर दी। शव को भी आंशिक रूप से जला दिया गया। शमशाबाद टॉल प्लाजा पर स्कूटी को पार्क करने के दौरान आरोपियों ने चिकित्सक को देखा और शराब के नशे में इस घटना को अंजाम दिया।
इस मामले के तथ्य और परिस्थितियां भी मानसिक स्वास्थ्य के अधिकार के बारे में सवाल खड़े करती है। शिक्षा प्रणाली में मानसिक स्वास्थ्य पर कोर्स और किशोर उम्र शारीरिक और मानसिक सिंड्रोम से संबंधित मुद्दों का भी अभाव है। यहां यह उल्लेख करना भी आवश्यक है कि यह मामला दिल्ली के निर्भया कांड से भी बदतर है।
श्री त्रिपाठी ने कहा कि तेलंगाना राज्य की ओर से निर्भया दिशानिर्देशों का पालन नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि
यह पूरे राज्य मशीनरी और राज्य पुलिस की विफलता का एक क्लासिक मामला है। श्री त्रिपाठी ने आरोप लगाया कि निर्भया के दिशा-निर्देशों का पालन करने, शराब के सेवन पर मानसिक स्वास्थ्य सुनिश्चित करने और नीति तैयार करने तथा सरकारी अधिकारों के प्रति गंभीर सवाल उठाने की नीति पर अधिकारियों की लापरवाही एवं विफलता मानवाधिकारों पर गंभीर सवाल खड़े करता है।
उन्होंने एनएचआरसी से महानिदेशक के स्तर से स्वतंत्र और निष्पक्ष रूप से मामले की जांच कराने का अनुरोध किया। साथ ही तेलंगाना के पुलिस महानिदेशक और गृह मंत्रालय के सचिव को लापरवाह पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई करने की भी मांग की।
उन्होंने एनएचआरसी से पीड़ित डॉक्टर के साथ सामूहिक दुष्कर्म और हत्या के दोषियों के खिलाफ कठोर कानूनी कार्रवाई करने का अनुरोध किया और राज्य के मुख्य सचिव को निर्देश देने का भी अनुरोध किया ताकि वह राज्य में मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों को देखने या एक टीम भेजने के लिए तुरंत एक विशेषज्ञ समिति का गठन करें। मामले की विस्तार से जाँच के लिए आयोग स्वयं अपनी टीम मौके पर भेजे।
एनएचआरसी से यह भी अनुरोध किया गया है कि वह राज्य को गलत काम करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने और मृतक के परिवार के सदस्यों को एक करोड़ रुपये की सहायता राशि देने का निर्देश दे।
संजय, रवि
वार्ता
More News
सीएबी के खिलाफ देश भर में प्रदर्शन करेंगे वाम दल

सीएबी के खिलाफ देश भर में प्रदर्शन करेंगे वाम दल

12 Dec 2019 | 2:27 PM

नई दिल्ली 12 दिसम्बर (वार्ता) पांच वाम दलों ने संसद द्वारा बुधवार को पारित नागरिक संशोधन विधेयक (सीएबी) के विरोध में 19 दिसम्बर को देश भर में धरना प्रदर्शन करने का फैसला किया है। इसी दिन स्वतंत्रता सैनानी राम प्रसाद बिस्मिल, अशफाक उल्ला और रोशन सिंह को फांसी दी गई थी।

see more..
हैदराबाद एनकाउंटर की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट ने किया आयोग का गठन

हैदराबाद एनकाउंटर की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट ने किया आयोग का गठन

12 Dec 2019 | 2:17 PM

नयी दिल्ली 12 दिसम्बर (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने हैदराबाद दुष्कर्म एवं हत्या मामले के चार आरोपियों की कथित मुठभेड़ में मौत की जांच के लिए गुरुवार को तीन सदस्यीय जांच आयोग का गठन किया।

see more..
नागरिकता संशोधन विधेयक को आईयूएमएल ने सुप्रीम कोर्ट में दी चुनौती

नागरिकता संशोधन विधेयक को आईयूएमएल ने सुप्रीम कोर्ट में दी चुनौती

12 Dec 2019 | 1:15 PM

नयी दिल्ली 12 दिसम्बर (वार्ता) इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (आईयूएमएल) ने नागरिकता संशोधन विधेयक (सीएबी) के राज्यसभा में पारित होने के एक दिन बाद गुरुवार को उच्चतम न्यायालय में विधेयक को चुनौती देने वाली याचिका दाखिल की।

see more..
image