Wednesday, Feb 19 2020 | Time 21:19 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • विश्व कप आयोजन से महिला क्रिकेट को मिलेगा बढ़ावा : ली
  • भारतीय ग्रीको रोमन पहलवानों ने जीते तीन कांस्य पदक
  • तीन एकड़ में अफीम की फसल नष्ट
  • बीस से अधिक आईपीएस अधिकारियों के तबादला
  • आईएनएक्स मीडिया मामले में छह लोगों को जमानत
  • श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की कमान महंत नृत्यगोपाल दास और चंपत राय को
  • सबरीमला: गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में नहीं होगी सुनवाई
  • झांसी में हवाई अड्डा निर्माण की कवायद ने पकड़ी गति
  • पितृहंता को दस साल की सजा
  • कोलगेट: जांच रिपोर्ट के लिए सीबीआई को चार सप्ताह का समय
  • भारत कर सकता है एएफसी महिला एशिया कप 2022 की मेजबानी
  • भारत कर सकता है एएफसी महिला एशिया कप 2022 की मेजबानी
  • ऑस्ट्रेलियन ओपन चैंपियन केनिन दुबई में पहला मैच हारीं
  • ऑस्ट्रेलियन ओपन चैंपियन केनिन दुबई में पहला मैच हारीं
भारत


निर्भया: जस्टिस भानुमति की तबीयत बिगड़ी, केंद्र की अपील पर सुनवाई टली

निर्भया: जस्टिस भानुमति की तबीयत बिगड़ी, केंद्र की अपील पर सुनवाई टली

नयी दिल्ली, 14 फरवरी (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने निर्भया के दोषियों को अलग-अलग फांसी देने की केंद्र एवम् दिल्ली सरकार की विशेष अनुमति याचिका पर शुक्रवार को फैसला नहीं लिखवाया जा सका, क्योंकि फैसला लिखाते वक्त न्यायमूर्ति आर भानुमति की तबीयत अचानक बिगड़ गई।

न्यायमूर्ति भानुमति ने केंद्र की अपील पर सुनवाई 20 मार्च तक टालने संबंधी आदेश लिखवाना शुरू ही किया था कि उनकी तबीयत बिगड़ गई और वह अचेत हो गईं।

खंडपीठ में शामिल न्यायमूर्ति ए एस बोपन्ना ने कहा कि इस मामले में बाद में आदेश जारी किया जाएगा।

बाद में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने मीडिया कर्मियों को बताया कि न्यायमूर्ति भानुमति तेज ज्वर से पीड़ित थीं और इस मामले की गंभीरता के मद्देनजर वह सुनवाई के लिए आईं थी।

केंद्र सरकार ने उच्च न्यायालय के उस फैसले को चुनौती दी है जिसमें उसने कहा है कि चारों दोषियों को अलग-अलग फांसी नहीं हो सकती।

गौरतलब है कि दिल्ली उच्च न्यायालय ने बुधवार को अपने फैसले में कहा कि निर्भया के चारों दोषियों को अलग-अलग समय पर फांसी नहीं दी जा सकती जबकि केंद्र सरकार ने अपनी याचिका में कहा था कि जिन दोषियों की याचिका किसी भी फोरम में लंबित नहीं है, उन्हें फांसी पर लटकाया जाए। एक दोषी की याचिका लंबित होने से दूसरे दोषियों को राहत नहीं दी जा सकती।

सुरेश.श्रवण

वार्ता

More News

आईएनएक्स मीडिया मामले में छह लोगों को जमानत

19 Feb 2020 | 9:01 PM

नयी दिल्ली, 19 फरवरी (वार्ता) दिल्ली की एक अदालत ने बुधवार को आईएनएक्स मीडिया भ्रष्टाचार मामले में पूर्व नीति आयोग की मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) सिंधुश्री खुल्लर समेत छह लोगों को जमानत दे दी, जिसमें पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति चिदंबरम भी आरोपी हैं।

see more..
गैर कानूनी तरीके से हुई सीवीसी की नियुक्त : कांग्रेस

गैर कानूनी तरीके से हुई सीवीसी की नियुक्त : कांग्रेस

19 Feb 2020 | 8:34 PM

नयी दिल्ली, 19 फरवरी (वार्ता) कांग्रेस ने मुख्य सतर्कता आयुक्त (सीवीसी) तथा सतर्कता आयुक्त (वीसी) की नियुक्ति को संस्थाओं को ध्वस्त करने का एक और उदाहरण बताते हुए इसे गैर कानूनी करार दिया और आरोप लगाया कि इसमें प्रक्रिया का पालन ही नहीं किया गया है।

see more..
image