Monday, Sep 21 2020 | Time 16:11 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ‘पीएम केयर्स फंड’ मामले में सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर
  • सेंसेक्स 811 अंक लुढ़का; निफ्टी 282 अंक फिसला
  • तबलीगी जमात के आयोजन से कई लोगों में कोरोना संक्रमण: सरकार
  • हवाई यात्रियों की संख्या डेढ़ लाख के पास पहुँची
  • जौनपुर में बिजली का तार टूटकर बाइक पर गिरा, सवार चिकित्सक की मृत्यु
  • बीसीसीआई को नया नियम लाना चाहिएः प्रीति जिंटा
  • बीसीसीआई को नया नियम लाना चाहिएः प्रीति जिंटा
  • बिजली विधेयक से राज्य सरकारों के मुफ्त बिजली कार्यक्रम प्रभावित होंगे: एआईपीईएफ
  • कर्नाटक में भद्रावती के विधायक कोरोना पॉजिटिव
  • जम्मू के सरकारी स्कूलों से विद्यार्थी नदारद
  • हालेप और प्लिसकोवा में ताज के लिए होगी भिड़ंत
  • हालेप और प्लिसकोवा में ताज के लिए होगी भिड़ंत
  • कृषि विधेेयक : कांग्रेस ने किया प्रदर्शन
  • कोरोना संक्रमितों को 30 मिनट में चिकित्सकीय सुविधा उपलब्ध कराएगा राज्य स्तरीय वॉर रुम-ड़ा शर्मा
  • नए कृषि सुधारों ने किसानों को ताकतवर गिरोहों से दिलाई आजादी : मोदी
भारत


राज्य सभा सांसद एवं पूर्व समाजवादी पार्टी नेता अमर सिंह का निधन

नयी दिल्ली, 01 अगस्त (वार्ता) राज्य सभा सांसद एवं समाजवादी पार्टी (सपा) के पूर्व महासचिव अमर सिंह का शनिवार को सिंगापुर के एक अस्पताल में निधन हो गया।
वह 64 वर्ष के थे और लंबे समय से बीमार चल रहे थे। उनके परिवार में पत्नी और दो पुत्री हैं।
श्री सिंह गुर्दा रोग से पीड़ित थे और छह माह से अधिक समय से सिंगापुर के एक अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था।
उनका दूसरी बार गुर्दा प्रत्यारोपण हुआ था जो सफल रहा था। उनकी हालत में सुधार भी हो रहा था लेकिन संक्रमण होने से उनका स्वास्थ्य लगातार बिगड़ता चला गया। डाॅक्टरों ने श्री सिंह को बचाने का भरपूर प्रयास किया लेकिन असफल रहे।
श्री सिंह के निधन से करीब तीन घंटे पहले उनके आधिकारिक टि्वटर अकाउंट से दो ट्वीट किये गये थे। उन्होंने अपने ट्वीट में देशवासियों को ईद-उल-जुहा की बधाई दी थी। एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक की पुण्यतिथि के अवसर पर उन्हें श्रद्धांजलि दी थी।
श्री सिंह के निधन पर राष्ट्रपति राम नाथ काेविंद, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू के अलावा अन्य राजनेताओं ने शोक व्यक्त किया है।
श्री कोविंद ने ट्वीट करके कहा, “ राज्य सभा सांसद अमर सिंह के निधन के बारे में सुनकर दुःख हुआ।” उन्होंने लिखा, “बहुआयामी व्यक्तित्व के धनी, श्री सिंह एक प्रतिभाशाली सांसद थे। उनके परिवार एवं सहयोगियों के प्रति मेरी शोक-संवेदनाएं।”
श्री नायडू ने श्री सिंह के निधन पर दुख जाहिर करते हुए कहा, “ राज्य सभा सांसद श्री अमर सिंह जी के असामयिक निधन पर शोक व्यक्त करता हूं। दुख की इस घड़ी में उनके परिजनों और सहयोगियों के प्रति हार्दिक संवेदना व्यक्त करता हूं और दिवंगत आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना करता हूं। ओम शांति!”
प्रधानमंत्री ने राज्य सभा सांसद के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा, “ अमर सिंह जी एक ऊर्जावान शख्सियत थे। पिछले कुछ दशकों में वह कई बड़े राजनीतिक बदलावों के साक्षी रहे। वह विभिन्न क्षेत्रों में अपनी मित्रता के लिए जाने जाते थे। उनके निधन से दुखी हूं। दुख की इस घड़ी में उनके परिवार और मित्रों के प्रति हार्दिक संवेदना प्रकट करता हूं। ओम शांति।”
उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में 27 जनवरी 1956 को जन्मे श्री सिंह सपा संस्थापक और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के काफी करीबी रहे। उनकी बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन के साथ भी काफी घनिष्ठता रही। दोनों एक-दूसरे को परिवार का सदस्य बताते थे, हालांकि 2010 में जब सपा से श्री सिंह निकाले गए और उनके कहने पर भी जया बच्चन ने राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा नहीं दिया, तो दोनों में अनबन हो गयी और दोस्ती टूट गयी।
उद्योग जगत में अनिल अंबानी और सुब्रत राय सहारा जैसे कारोबारियों के साथ भी अमर सिंह की काफी गहरी दोस्ती रही।
श्री सिंह ने 2010 में सपा महासचिव पद और राज्य सभा की सदस्याता से इस्तीफा दे दिया था। बाद में दो फरवरी 2010 को सपा प्रमुख मुलायम सिंह ने उन्हें पार्टी से निष्कासित कर दिया था। श्री सिंह वर्ष 2016 में सपा के समर्थन से ही फिर राज्य सभा के लिए निर्वाचित हुए थे। इसी वर्ष अक्टूबर में उन्हें फिर सपा महासचिव बनाया गया था। सपा में वापसी से पहले करीब छह वर्षों तक श्री सिंह सक्रिय राजनीति से दूर रहे। उस समय वह गंभीर बीमारी से जूझ रहे थे। उन्होंने एक समय अपनी राजनीतिक पार्टी भी बनाई लेकिन उनकी पार्टी राष्ट्रीय लोक मंच के उम्मीदवारों की 2012 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान जमानत जब्त हो गयी थी। वर्ष 2014 में श्री सिंह ने राष्ट्रीय लोक दल के उम्मीदवार के रूप में लोकसभा का चुनाव लड़ा था लेकिन बुरी तरह हार गए थे।
वर्ष 2008 में अमेरिका के साथ परमाणु समझौते के मुद्दे पर वामपंथी दलों ने समर्थन वापस लेकर मनमोहन सिंह सरकार को अल्पमत में ला दिया था तब श्री सिंह ने ही सपा सांसदों के अलावा कई निर्दलीय सांसदों को भी सरकार के पाले में ला खड़ा किया था।
संसद में कुछ सांसदों द्वारा नोटों की गड्डी लहराने के मामले में श्री सिंह को तिहाड़ जेल भी जाना पड़ा था।
रवि.श्रवण
वार्ता
More News
कृषि संबंधी विधेयकों पर सहमति नहीं देने की मांग को लेकर राष्ट्रपति से मिलेगा विपक्ष

कृषि संबंधी विधेयकों पर सहमति नहीं देने की मांग को लेकर राष्ट्रपति से मिलेगा विपक्ष

21 Sep 2020 | 3:15 PM

नयी दिल्ली 21 सितंबर (वार्ता) संसद में पारित किये कृषि संबंधी विधेयकों को सहमति नहीं देने की मांग को लेकर 12 विपक्षी दल राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलेंगे।

see more..
एमएसपी देने का उल्लेख कानून में करे सरकार: कांग्रेस

एमएसपी देने का उल्लेख कानून में करे सरकार: कांग्रेस

21 Sep 2020 | 3:06 PM

नयी दिल्ली, 21 सितम्बर (वार्ता) कांग्रेस ने राज्यसभा से आठ सदस्यों के निलम्बन को सरकार की तानाशाही करार देते हुए आरोप लगाया है कि वह किसानों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) प्रणाली खत्म कर रही है और यदि उसकी मंशा ठीक है तो एमएसपी देने का उल्लेख कानून में किया जाना चाहिए।

see more..
कृषि विधेयकों के विरोध में विपक्ष का संसद भवन परिसर में धरना

कृषि विधेयकों के विरोध में विपक्ष का संसद भवन परिसर में धरना

21 Sep 2020 | 2:27 PM

नयी दिल्ली 21 सितम्बर (वार्ता) एकजुट विपक्ष ने राज्यसभा में कृषि सुधार से संबंधित दो विधेयकों को पारित कराने के तरीके को लेकर आज संसद भवन परिसर में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने धरना दिया।

see more..
image