Friday, Mar 22 2019 | Time 21:41 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • 48 घंटे की कड़ी मेहनत के बाद नदीम को बोरवेल से निकाला सुरक्षित बाहर
  • मोदी को पुन: उम्मीदवार बनाने से जश्न में डूबे वाराणसी के भाजपा कार्यकर्ता
  • भारत को उज्बेकिस्तान से मिली 0-3 से हार
  • भारत को उज्बेकिस्तान से मिली 0-3 से हार
  • कश्मीर में कांग्रेस नेता पर हमला, एक घायल
  • पूरी कांग्रेस दिखेगी बस में : तंवर
  • जेकेएलफ पर लगाया गया प्रतिबंध
  • शरद, मायावती के चुनाव नहीं लड़ने से राजग को फायदा : शिव सेना
  • ‘येदियुरप्पा डायरी: मूल प्रति शिवकुमार ने उपलब्ध नहीं करायी’
  • ‘समझौता एक्सप्रेस विस्फोट मामले में पाक ने नहीं की मदद’
  • देवरिया पुलिस ने व्यापारी की हत्या से परिवार के शोक को देखते हुए नहीं मनाई होली
  • चुनाव लड़ने का इच्छुक नहीं : शांता कुमार
  • शहीदों के लिए श्रद्धांजलि समारोह शनिवार को होगा
  • अमरोहा के सांसद को पुनः प्रत्याशी घोषित करने के विरोध में फूंका पुतला
लोकरुचि


15 को बरसाना में तो 16 को नंदगांव में खेली जायेगी लठामार होली

15 को बरसाना में तो 16 को नंदगांव में खेली जायेगी लठामार होली

मथुरा 10 मार्च (वार्ता) राधा कृष्ण के औलोलिक प्रेम की प्रतीक बरसाना में लठामार होली की तैयारियां अंतिम मुकाम पर है। इस बार यह होली बरसाना में 15 मार्च को और नन्दगांव में 16 मार्च को खेली जाएगी।


     बरसाने की लठामार होली तीर्थयात्रियों एवं विदेशी पर्यटकों को अचरज और कौतूहल का कारक होती है। सामान्यतया शारीरिक बल के मामले में पुरूषों की अपेक्षा महिलाओं को कमजोर माना जाता है। सरकार भी महिला सशक्तिकरण के अभियान को जोर शोर से चला रही है मगर हकीकत है कि द्वापर में ही राधारानी ने महिला सशक्तीकरण की नींव उस दिन रखी गई थी जिस दिन नन्द के छोरे  (श्यामसुन्दर) ने राधारानी के अच्छे और नये कपड़ों पर रंग डालने की कोशिश की थी और राधारानी के मना करने पर भी वह मान नही रहे थे । उस दिन ही पास पड़ी डंडी को उठाकर वे कान्हा की पिटाई करने दौड़ी थीं। समय के साथ साथ छड़ी ने लाठी का रूप ले लिया।

    आज तो इस लाठी को लचीला बनाने के लिए इसको तेल पिलाया जाता है तथा गोपियां गोपों से किसी रूप से पराजित न हों इसलिए गोपियों को वसंत से ही ऐसा भोजन दिया जाता है जिससे वे अपने मिशन में पराजित न हों। यह होली भी राधाकृष्ण की प्रेम भरी होली है इसका प्रमाण यह है कि गोपियां गोपों पर लाठी से ऐसा प्रहार करती हैं कि गोपों को किसी प्रकार से चोट न लगे। वे उन पर लाठी से प्रहार तभी करती हैं जबकि गोपों के हाथ में लाठी से बचाव के लिए ढाल हो। यह होली गोप और गोपियों की हंसी ठिठोली की होली होती है ।

     नन्दगांव के हुरिहार यतीन्द्र तिवारी ने बताया कि इस होली की प्रतीक्षा नन्दगांव एवं बरसाने के गोप गोपिया बड़ी बेसब्री से साल भर करते रहते हैं और यही कारण है कि जब इस होली को खेलने के लिए बरसाने की होली के पहले लाड़ली जी की सहचरी होली खेलने का निमंत्रण लेकर बरसाने से आती हैं। हांड़ी में गुलाल भरकर, द्रव्य दक्षिणा रखकर वस्त्र से परिवेष्टित कर , अमनियां भोग, इत्र, बीड़ा आदि लेकर नन्दभवन में पहुंचती हैं और समाज को होली का निमंत्रण सुनाती हैं तो  इस खुशी में रसिया गायन एवं नृत्य होता है।        

तिवारी ने बताया कि लाड़ली मंदिर से आये गुलाल को कन्हैया के चरणों में रखा जाता है तथा सेवायत गोस्वामी द्वारा नन्दबाबा  से होली खेलने की इजाजत ली जाती है। निमंत्रण आने के बाद हुरिहारे होली खेलने की तैयारी में जोर शोर से लग जाते है।

    उन्होने बताया कि लठामार होली के दिन नन्दगांव के हुरिहार नन्दभवन में इकट्ठा होते है। वे मंदिर में माता यशोदा से होली खेलने की आज्ञा लेकर  नन्दमहल में नन्दीश्वर महादेव का आवाहन कर श्रीकृष्ण की प्रतीकात्मक ध्वजा लेकर रसिया गायन करते हुए बरसाना के लिए रवाना होते हैं।

    बरसाना निवासी पवन शर्मा ने बताया कि जब नन्दगांव के हुरिहार बरसाना में पीली पोखर पर पहुंचते हैं तो वहां पर मिलनी और भांग ठंढाई से स्वागत के बाद हुरिहार अपनी पगड़ी ढाल आदि ठीक करते हैं और फिर लाड़ली जी मंदिर जाते है। यहां पर समाज गायन होता है तथा उसकी चरम परिणति से ही रंग की होली शुरू हो जाती है तथा हुरिहार और हुरिहारने रंगीली गली पहुंच जाते हैं तथा लठामार होली की शुरूवात हो जाती है। सूर्यास्त होते ही लठामार होली नन्द के लाला की जयकार से समाप्त हो जाती है।

      इस अवसर पर रंगीली गली रंग और गुलाल से सतरंगी बन जाती है।इस लठामार होली को देखने के लिए विदेशियों की भी बहुत बड़ी संख्या आ जाती है तथा इसके बाद से ही बरसाना होली की मस्ती में आ जाता है। अगले दिन इसी प्रकार कील होली नन्दगांव में होती है अंतर यह होता है कि नन्द गांव में बरसाने के लोग हुरिहार होते हैं तथा नन्दगांव की गोपियां होती हैं।

सं प्रदीप

वार्ता

More News
होली पर पहले जैसी अब नही दिखती फाग की फुहारें

होली पर पहले जैसी अब नही दिखती फाग की फुहारें

20 Mar 2019 | 8:33 PM

इटावा, 20 मार्च (वार्ता) उत्तर प्रदेश के इटावा में होली का त्योहार आते ही कभी ढोलक की थाप और मंजीरों पर चारों ओर फाग गीत गुंजायमान होने लगते थे, लेकिन आधुनिकता के दौर में आज ग्रामीण क्षेत्रों की यह परम्परा लुप्त सी हो गई है ।

see more..
होली पर्व की जननी बुंदेलखंड की भूमि पर उड़ने लगा अबीर गुलाल

होली पर्व की जननी बुंदेलखंड की भूमि पर उड़ने लगा अबीर गुलाल

19 Mar 2019 | 9:53 PM

झांसी 19 मार्च (वार्ता) “ होली” रंगों का त्योहार हमारी संस्कृति से जुडा एक बेहद महत्वपूर्ण पर्व है जो पूरे देश ही नहीं बल्कि विश्व के हर कोने में जहां भी भारतीय लोग हैं उनके बीच पारंपरिक हर्षोल्लास से मनाया जाता है।

see more..
वाराणसी में खेली जलती चिताओं संग ‘चिताभस्म होली’

वाराणसी में खेली जलती चिताओं संग ‘चिताभस्म होली’

18 Mar 2019 | 10:01 PM

वाराणसी, 18 मार्च (वार्ता) उत्तर प्रदेश की प्रचीन धार्मिक नगरी वाराणसी के गंगा तट पर औघड़ साधु-संतों के साथ सैकड़ों शिवभक्तों ने सोमवार को मणिकर्णिका श्मशान घाट पर जलती चिताओं के बीच धूम-धाम से ‘चिताभस्म होली’ खेली।

see more..
image